सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड की जांच कर रही SIT : तिहाड़ जेल से जुड़े तार, गैंगस्टर ने विदेश फोन कर रची थी मर्डर की साजिश!

0
175

द लीडर। पंजाब के सिंगर सिद्धू मूसेवाला की रविवार को हुई हत्या के बाद जहां तीन सदस्यीय एसआईटी का गठन कर इस हत्याकांड की जांच की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ उनके पिता की शिकायत पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है.

मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ने एफआईआर में कहा कि, उनके बेटे के पास फिरौती के लिए धमकी भरे फोन कॉल्स आते थे. उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री भगवंत मान को पत्र लिखकर सीबीआई जांच की मांग की है. इधर, पंजाबी सिंगर मर्डर केस के तार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की तिहाड़ जेल से जुड़ रहे हैं.


यह भी पढ़ें : पिछले 8 साल में नहीं झुकने दिया सिर, गरीबों के लिए खोला अन्न का भंडार : राजकोट में बोले PM Modi


सूत्रों के मुताबिक, पुलिस को शक है कि, जेल में बैठक लॉरेंस बिश्नोई ने सिंगर मूसेवाला हत्याकांड की साजिश रची थी. इस वक्त तिहाड़ की जेल नंबर 8 में लॉरेंस बिश्नोई बंद है. एसआईटी की टीम जल्द ही लॉरेन्स बिश्नोई से पूछताछ करेगी. उसका सहयोगी गैंग काला जठेड़ी भी तिहाड़ जेल के अंदर ही कैद है.

तिहाड़ से जुड़े मूसेवाला हत्याकांड के तार?

पुलिस सूत्रों की माने, तो वर्चुअल नंबरों से लॉरेंस बिश्नोई ने विदेश में मौजूद गोल्डी बरार से बात की थी. गोल्डी बरार से वर्चुअल नंबरों से ही सचिन विश्नोई ने भी कई बार बात की थी. पंजाब के मानसा जिले में रविवार को अज्ञात हमलावरों ने मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी.

राज्य सरकार द्वारा मूसेवाला की सुरक्षा वापस लिये जाने के एक दिन बाद यह घटना हुई. पंजाब के पुलिस महानिदेशक वी के भवरा ने मूसेवाला (27) की हत्या की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन करने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि हमला गिरोहों के बीच आपसी रंजिश का परिणाम लग रही है और लॉरेंस बिश्नोई गिरोह इसमें शामिल था.

डीजीपी ने कहा कि हमले में करीब तीन हथियारों का इस्तेमाल किया गया और 30 गोलियां चलाई गईं. उन्होंने कहा कि मूसेवाला अपने साथ पंजाब पुलिस के दो कमांडो को नहीं ले गये थे, जो उनकी सुरक्षा के लिए अब भी मुहैया किये गये थे.


यह भी पढ़ें : थाने के बहार लिखा था ‘बीजेपी कार्यकर्ताओं का थाने में आना मना है’ : अखिलेश यादव ने कसा तंज


मूसेवाला ने हालिया विधानसभा चुनाव में मानसा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था और वह आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार विजय सिंगला से हार गए थे. कांग्रेस और अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं ने मूसेवाला की हत्या पर स्तबधता और आक्रोश व्यक्त किया है और उनकी सुरक्षा वापस लेने के लिए राज्य की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार पर निशाना साधा.

मानसा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गौरव तूरा ने बताया कि, मूसेवाला के चचेरे भाई और एक दोस्त भी हमले में घायल हो गये, जो उनके साथ महिंद्रा थार जीप से यात्रा कर रहे थे. उन्होंने बताया कि मूसेवाला और उनके साथी मानसा में जवाहर के गांव पहुंचे, तभी दो वाहनों ने उन्हें रोका और उन पर सवार लोगों ने मूसेवाला पर गोलियां बरसानी शुरू कर दी.

मूसेवाला मर्डर के बाद भगवंत मान की सख्त चेतावनी

एसएसपी ने बताया कि, मूसेवाला को फौरन सिविल अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. दो अन्य की हालत स्थिर है. उन्होंने बताया कि, पुलिस ने 9 एमएम हथियार की कारतूस के खोखे बरामद किये हैं और इस बात की संभावना है कि 315 बोर के हथियार का इस्तेमाल किया गया होगा.

घटना में एक एके-47 राइफल का इस्तेमाल किये जाने के बारे में पूछे जाने पर एसएसपी ने कहा कि ऐसा हुआ होगा लेकिन सभी तथ्य जांच के दौरान सामने आएंगे.

अंतर-गिरोह रंजिश का परिणाम हो सकती है घटना

उन्होंने कहा कि, घटना अंतर-गिरोह रंजिश का परिणाम हो सकती है. उन्होंने कहा कि मूसेवाला के मैनेजर का नाम पिछले साल युवा अकाली नेता विकी मिद्दुखेरा की हत्या के मामले में सामने आया था. एसएसपी ने कहा कि लॉरेंस बिश्नोई और लकी पटियाल गिरोहों के बीच रंजिश थी और हमला इससे जुड़ा रहा होगा.

उन्होंने कहा कि,हम विषय की जांच कर रहे हैं और हमें कुछ सुराग मिले हैं. पंजाब पुलिस ने शुभदीप सिंह सिद्धू उर्फ सिद्धू मूसेवाला समेत 424 लोगों की सुरक्षा शनिवार को वापस ले ली थी. मुख्यमंत्री भगवंत मान ने घटना को लेकर अपनी सरकार की आलोचना होने पर कहा कि हमले में संलिप्त किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा.

सिद्ध मूसावाला से थी पुरानी रंजिश

सूत्रों ने आज तक को बताया कि, 8 अगस्त 2021 को मोहाली में दिन दहाड़े यूथ अकाली लीडर विक्की मिडुखेड़ा की हत्या की गई थी. विक्की पंजाब के गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई का बेहद करीबी था. हत्याकांड में सिद्धू मोसेवाला के मैनेजर शगन प्रीत सिंह का नाम सामने आया था. पुलिस मैनेजर तक पहुंच पाती, उसके पहले ही वो भारत से फरार होकर ऑस्ट्रेलिया पहुंच गया.

सूत्रों ने बताया कि अगस्त 2021 में मोहाली में विक्की मिडुखेड़ा की हत्या का बदला लेने के लिए लारेंस बिश्नोई गैंग सिद्धू पर हमले की फिराक में था. लारेंस बिश्नोई फिलहाल जेल में बंद है.

बताया जा रहा है कि वह जेल से गैंग ऑपरेट कर रहा है. इस गैंग के लोग कनाडा समेत विदेशों में मौजूद हैं. कनाडा में बैठे लारेंस बिश्नोई के करीबी गोल्डी बरार ने ये भी दावा किया है कि विकी के अलावा उसके खुद के भाई गुरुलाल बरार की हत्या के पीछे भी सिद्धू मोसेवाला था, लेकिन अपने रसूख के दम पर वो बच गया था.

सिद्धू को लगातार मिल रही थीं धमकियां

मूसावाला के पिता बलकौर सिंह ने भी दावा किया है कि उनके बेटे को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की गैंग की तरफ से धमकियां मिल रही थीं और फिरौती मांगी जा रही थी. पिता के मुताबिक, मूसावाला को कई बार फिरौती के लिए धमकी भरे फोन आए थे.

पिता बलकौर सिंह ने कहा कि धमकियों की वजह से परिवार ने बुलेटप्रूफ फॉर्चूनर कार भी खरीदी हुई थी. लेकिन रविवार को सिद्धू अपने दो दोस्तों (गुरविंदर सिंह और गुरप्रीत सिंह) के साथ थार कार से कहीं निकला था. पिता ने बताया कि बुलेटप्रूफ कार और गममैन दोनों को ही सिद्धू घरपर छोड़ कर गए थे.

इस वजह से निशाने पर था मूसावाला?

सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी लॉरेंस बिश्नोई के साथी कनाडा बेस्ड गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने ली है. सूत्रों की मानें तो सिद्धू मूसेवाला बिश्नोई गैंग के विरोधी कैंप को सपोर्ट कर रहा थे. इसी वजह से सिद्धू मूसेवाला लॉरेंस बिश्नोई गैंग के निशाने पर था.


यह भी पढ़ें : Rampur News : सीने में दर्द की शिकायत के बाद, आज़म ख़ान सर गंगाराम में भर्ती