Friday, April 16, 2021
Homeदमदार ख़बरेंख़ास ख़बर‘दलित दीवाली’ मनाएगी समाजवादी पार्टी, अखिलेश यादव ने की अपील, कहा- खतरे...

‘दलित दीवाली’ मनाएगी समाजवादी पार्टी, अखिलेश यादव ने की अपील, कहा- खतरे में संविधान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश और देशवासियों से आह्वान किया है कि, 14 अप्रैल को बाबा साहेब डॉ भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर दलित दीवाली मनाएं. उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि, आज संविधान खतरे में है.

यह भी पढ़े: #BengalElection: ओवैसी बोले- मोदी और ममता एक ही है, अब यूपी में भी किस्मत आजमाएंगे ओवैसी 

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है कि, भाजपा के राजनीतिक अमावस्या के काल में वो संविधान खतरे में है, जिससे बाबा साहेब भीम राव अम्बेडकर ने स्वतंत्र भारत को नई रोशनी दी थी. इसलिए बाबासाहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती, 14 अप्रैल को समाजवादी पार्टी देश और विदेश में ‘दलित दीवाली’ मनाने का आह्वान करती है.

सरकार पर लापरवाही का आरोप

बता दें, इससे पहले सपा प्रमुख ने बयान जारी कर कहा था कि, उत्तर प्रदेश में कोरोना संकट भयावह होता जा रहा है. संक्रमित लोगों की संख्या और मौतों में रोजाना वृद्धि हो रही है. कोरोना पर नियंत्रण की पारदर्शी समुचित व्यवस्था के बजाय मुख्यमंत्री भाजपा के स्टार प्रचारक बने अन्य राज्यों में भाषण देते घूम रहे हैं.

यह भी पढ़े: असम: लड्डू से नहीं पीठा से होगा मुंह मीठा, पर किसका! 

कोरोना पर नियंत्रण के झूठे दावे कर रही बीजेपी

राज्य सरकार के बेपरवाह भाजपाई कोरोना पर नियंत्रण के झूठे दावे के साथ बस अपनी वाहवाही लूटने में लगे रहे. नतीजा सामने है कोरोना की दूसरी लहर के कहर से हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है. और मौतों का आंकड़ा भी बढ़ गया है.

अखिलेश यादव ने कहा कि, भाजपा की लापरवाह सरकार के चलते कोरोना का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है. जिसको लेकर स्वास्थ्य सेवाएं भी पूरी तरीके से बदहाल हो चुकी हैं. कोरोना जांच के नाम पर महज खानापूर्ति हो रही है. समय से जांच परिणाम न मिलने से गम्भीर रोगियों को भी अस्पतालों में इलाज नहीं मिल रहा है. कितने ही लोग इलाज के अभाव में दम तोड़ चुके हैं.

यह भी पढ़े: #CoronaVirus: हो जाए सावधान, कोरोना की बिगड़ती स्थिति के चलते राजधानी में नाइट कर्फ्यू 

अस्पतालों में न बेड हैं, न पैरामेडिकल स्टाफ

हालात ये है कि, अस्पतालों में न बेड हैं, न पर्याप्त मेडिकल और पैरामेडिकल स्टाफ है. पूरा एक साल ऐसा बीता है, जिसमें जीवन की सभी गतिविधियां लगभग ठप्प रही है. शिक्षण संस्थानों में अभी भी पढ़ाई नियमित रूप से शुरू नहीं हो पाई है. लेकिन सरकार सिर्फ वाहवाही लूट रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments