दिल्ली में मेट्रो स्टेशन के पास बिल्डिंग में भीषण आग से अब तक 27 की मौत, दो फायर ब्रिगेड कर्मियों की भी गई जान

0
278

द लीडर : दिल्ली में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास तीन मंजिला कमर्शियल बिल्डिंग में शुक्रवार शाम को भीषण आग लग गई थी, जसमें अब तक 27 लोगों की जलकर मौत हो गई। बड़ी संख्या में लोग झुलसे भी हैं, जिनमें करीब एक दर्जन की हालत नाज़ुक है. मरने वालों में दो फायर ब्रिगेड के कर्मचारी भी शामिल हैं. बिल्डिंग मालिक को हिरासत में ले लिया गया है.


बुल्डोज़र के ख़िलाफ लड़ रहे ओखला विधायक अमानतुल्लाह ख़ान भेजे गए तिहाड़ जेल


शुरूआती जांच में साफ हुआ है कि फायर एनओसी नहीं ली गई थी. आग बुझाने के इंतजाम भी नहीं थे.  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख जताते हुए PM रिलीफ फंड से मृतकों के परिजन को 2-2 लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये की मदद देने की घोषणा की है. (Massive fire breaks out in Delhi)



UAE के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद का निधन, 40 दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित


दमकल कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर खिड़कियां तोड़ी और बिल्डिंग के अंदर फंसे कुछ लोगों को बचाया. लोगों को बचाने के प्रयास में दो कर्मचारियों की जान भी चली गई. कुछ लोगों की जान आग लगने के बाद कूदने से भी गई है. इमारत की पहली मंजिल पर CCTV की फैक्ट्री और गोदाम है, पहले इसी में आग लगी. फिर आग ने भीषण रूप धारण किया और पूरी बिल्डिंग को अपनी चपेट में ले लिया.


अब यूपी में दंगा नहीं चाहते लोग, गरीबी के खिलाफ मिलकर लड़ रहे हैं हिन्दू-मुसलमान : स्वतंत्र देव सिंह

 


फैक्ट्री में काफी संख्या में मजदूर काम कर रहे थे । जगह काफी कंजस्टेड होने से रेस्क्यू ऑपरेशन में भारी परेशानी आई. इमारत में प्रवेश और निकास एक ही होने से बचाव कार्य जल्द शुरू नहीं हो सका. रात में एनडीआरएफ की टीम भी पहुंच गई. कॉरीडार बनाकर घायलों को संजय गांधी मेमोरियल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. बिल्डिंग की तीन में से दो मंजिलों की सर्चिंग पूरी हो गई है. तीसरी मंजिल की सर्चिंग भी लगभग पूरा हो गया है. अब तक 27 लोगों की मौत की खबर है. भीषण आग की घटना ने दिल्ली को दहला दिया है.


लखनऊ में अब ई-रिक्‍शा पर लगेगी ब्रेक, मेट्रो रूट पर नहीं मिलेगी एंट्री


दिल्ली के फायर डायरेक्टर अतुल गर्ग ने कहा कि अब तक 27 शव निकाल लिए गए हैं. इमारत में सामान काफी था. संभवतया गत्ता भरा हुआ था. इस कारण आग बुझाने में काफी परेशानी आ रही है.यहां से करीब 150 लोगों को रेस्क्यू किया गया है । राहत और बचाव कार्य के लिए मौके पर 100 लोगों को तैनात किया गया है. अब तक की जांच में यह साफ हो गया कि बिल्डिंग में आग से बचाव के साधन नहीं थे. फायर एनओसी तक नहीं ली गई थी. इससे विभाग की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि बिल्डिंग में कई आफिस लंबे समय से चल रहे थे. उसमें भारी संख्या में कर्मचारी काम करते थे.


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)