दागदार हुई खाकी : गैंगरेप पीड़ित नाबालिग से थाने में की गई दरिंदगी, थानाध्यक्ष सस्पेंड, 6 लोगों पर केस दर्ज

0
183

द लीडर। उत्तर प्रदेश में एक बार फिर खाकी दागदार हो गई है. ललितपुर में गैंगरेप पीड़ित नाबालिग लड़की से थाने में की गई दरिंदगी का मामला पुलिस विभाग के लिए बेहद शर्मनाक मामला है. ललितपुर पाली थाना इंचार्ज तिलकधारी सरोज पर रेप के आरोप के मामले में बड़ी कार्रवाई की गई है.

पुलिस ने मामले पर 6 लोगों पर मामला दर्ज किया

ललितपुर जिले के पाली थाने के एसएचओ पर गैंगरेप पीड़िता ने रेप का आरोप लगाया है. पुलिस अधीक्षक द्वारा इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष को सस्पेंड कर दिया गया है. हालांकि पुलिस ने इस मामले में 6 लोगों पर मामला दर्ज किया है.

नाबालिग की मां ने तहरीर में लिखा कि, गांव के चार युवकों द्वारा 13 वर्षीय नाबालिग पुत्री को बहला-फुसलाकर भोपाल ले गए थे. जहां 3 दिन तक उसका बलात्कार किया गया. उसके बाद उसे थाने के पास छोड़ कर चले गए थे.

थानाध्यक्ष ने भी किया नाबालिग के साथ दुष्कर्म

लड़की की मौसी पीड़िता का बयान दर्ज कराने के लिए थाने ले गई, जहां मौसी द्वारा नाबालिग को थाना अध्यक्ष के पास छोड़ दिया गया. वहीं थानाध्यक्ष ने पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया. नाबालिग ने चाइल्ड लाइन में काउंसलिंग के दौरान आरोप लगाया.


यह भी पढ़ें: Loudspeaker पर घमासान : राज ठाकरे बोले- जहां भी मस्जिदों में लाउडस्पीकर लगा रहेगा, वहां हनुमान चालीसा का पाठ होगा

 

हालांकि इस घटना के बाद से थानाध्यक्ष तिलकधारी सरोज फरार हैं वहीं पुलिस अधीक्षक द्वारा थानाध्यक्ष को सस्पेंड कर दिया गया है और चार युवकों में से एक को गिरफ्तार भी कर लिया गया है.

इसके अलावा अन्य को गिरफ्तार करने के लिए टीमें बनाई गई है. इस घटना के बाद डीआईजी झांसी और पुलिस अधीक्षक ने थाना पाली का निरीक्षण कर जांच की कार्रवाई की है.

छह लोगों को बनाया गया है नामजद

पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक ने जानकारी देते हुए बताया कि बुधवार को एक बच्ची अपनी मां के साथ पुलिस ऑफिस में आई थी और उनके द्वारा तहरीर भी दी गई थी.

तहरीर में ये कहा गया है कि, चार लड़के उसे अपने साथ भोपाल लेकर गए थे और वहां आरोपियों ने उसके साथ बलात्कार किया. जब वह इस घटना की शिकायत करने थाने में गई तब थानाध्यक्ष ने भी उनके साथ दुष्कर्म किया. इस मामले में संज्ञान लेते हुए पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज की गई है, जिसमें कुल छह नामजद हैं. इन आरोपियों में से एक को गिरफ्तार किया गया है.

उन्होंने बताया कि, आरोपी से पूछताछ चल रही है बाकी अभियुक्तों के लिए भी हम लोगों ने टीमें लगाई है उनकी गिरफ्तारी भी जल्द की जाएगी, थाना इंचार्ज को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है.

24 घंटे में जांच पूरी करने के निर्देश दिए

रेप मामले पर पुलिस पर बड़ी कार्रवाई हुई है. दुष्कर्म के आरोपी ललितपुर थाना इंजार्ज को पहले ही पद से निलंबित कर दिया गया था. लेकिन अब एडीजी कानपुर जोन भानु भास्कर ने बड़ी कार्रवाई की है, जिसमें पाली थाने के सभी पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है. ADG ने 24 घंटे में जांच पूरी करने के निर्देश दिए हैं.

साथ ही थाने में नाबालिग से रेप मामले की जांच डीआईजी झांसी जोगेंद्र कुमार को सौंपी है. इसके अलावा आदेश दिए है कि दोषी पुलिसकर्मियों पर कानूनी कार्रवाई हो. वहीं पीड़ित किशोरी का मेडिकल कराया जा रहा है. इसके साथ ही आरोपी मौसी को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

भोपाल में चार लड़कों ने तीन दिन तक किया रेप

बीते सोमवार को चाइल्ड लाइन की टीम को मां ने बताया कि 22 अप्रैल को चंदन, राजभान, हरिशंकर और महेंद्र चौरसिया किशोरी को बहला फुसलाकर भोपाल ले गए थे. वहां इन चारों ने तीन दिनों तक उसके साथ रेप किया. उसके बाद 25 अप्रैल को पाली कस्बे के थाने में छोड़कर भाग गए.

पुलिस ने किशोरी की मौसी को बुलाकर उन्हें सौंप दिया. लेकिन जब 27 अप्रैल को एसएचओ ने बयान के लिए थाने में बुलाया तो देर शाम किशोरी को अपने कमरे में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया. इसके बाद 30 अप्रैल को पुलिस ने उसे फिर थाने बुलाया और लड़की को चाइल्ड लाइन भेजा और वहां पर पीड़ित किशोरी ने आपबीती सुनाई.

नाबालिग के साथ हुए रेप मामले में पुलिस ने आरोपी थानाध्यक्ष पाली तिलकधारी सिंह सरोज, राजभान, चंदन, महेन्द्र चौरसिया, हरिशंकर और एक महिला के खिलाफ धारा 363, 376, 376B, 120B और पॉक्सो एक्ट के साथ साथ SC एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है.

वहीं एसपी निखिल पाठक ने बताया कि, दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. साथ ही एसएचओ को निलंबित कर लाइन में अटैच किया गया था लेकिन वह फरार हो गया. एसपी आगे कहते है कि, आरोपियों को पकड़ने के लिए टीमें लगी हुई है. जल्द ही पकड़कर सख्त से सख्त कार्रवाई होगी.


यह भी पढ़ें:  न कोई विवाद, न हंगामा… यूपी में उतारे गए 1 लाख लाउडस्पीकर, सीएम योगी ने अपनी सरकार की थपथपाई पीठ