बरेली में अतीक के भाई अशरफ़ के साले का मकान एसआइटी ने किया सील

0
240

The Leader. बरेली की जेल में वीआइपी ट्रीटमेंट लेने और यहीं से नेटवर्क चलाते रहने वाले अतीक अंसारी के भाई अशरफ़ अंसारी के परत दर परता राज़ फ़ाश हो रहे हैं. उसे किस तरह जेल में सुविधाएं मिल रही थीं और ऐसा कैसे हो रहा था, एक के बाद एक नाम सामने आ रहा है. जेल के आरक्षी शिवहरि अवस्थी और सब्ज़ी पहुंचाने वाले दयाराम उर्फ़ नन्हें को पहले गिरफ़्तार किया जा चुका है. उसके बाद जांच के लिए एसआइटी बनाई गई है.


Umesh Pal Murder Case-प्रयागराज में अरबाज़ का एनकाउंटर और बरेली जेल में अशरफ़ की बैरक पर छापा


राजू पाल हत्याकांड के मुख्य गवाह उमेश पाल की हत्या करने वाले शूटर विजय उर्फ उस्मान को बरेली जिला जेल में बंद माफिया अतीक के भाई अशरफ से मिलवाने में किन-किन का रोल रहा, एसआइटी तह तक पहुंचने में लगी है. इस बीच बरेली के दो और युवकों को थाना बिथरी चैनपुर पुलिस ने गिरफ़्तार किया है. इनमें एक मीरगंज थाने के ग्राम परौर का राशिद और दूसरा इज़्ज़तनगर में मुंशीनगर का रहने वाला फ़ुरक़ान नबी है. इन दोनों के बारे में जानकारी जेल के आरक्षी शिवहरि अवस्थी की कॉल डिटेल से सामने आई.


एडीजी बरेली ज़ोन से मिलने पहुंची युवती ने ज़हर खाकर किया जान देने का प्रयास


दूसरी तरफ एसआइटी ने जेल में उस जगह का नक़्शा बनाया, जहां कि अशरफ़ अंसारी से मुलाक़ात कराई जाती थी. जेल के स्टाफ़ से पूछताछ भी की गई है. फाइक़ इनक्लेव से सटे ख़ुशबू इनक्लेव में उस मकान को भी सील कर दिया गया है, जहां अशरफ़ का साला तीन साल से किराये पर रह रहा था. उससे किसी तरह का कोई एग्रीमेंट भी नहीं कराया गया था. ऐसे में पुलिस अब यहां एक-एक मकान की जानकारी जुटाने की तैयारी में है. कितने किरायेदार हैं और कब से रह रहे हैं. पुलिस ने अशरफ के साले सद्दाम को मकान देने वाले मकान मालिक से एक बार फिर पूछताछ की है. साफ हुआ कि सद्दाम को मकान बग़ैर किसी एग्रीमेंट के दिया गया था. इस सिलसिले में मकान मालिक की तरफ से पहचान छपाकर रहने का मुक़दमा भी दर्ज किया जा चुका है. एसपी सिटी राहुल भाटी ने बताया कि अशरफ़ के साले सद्दाम और बरेली में उसका मुख्य सोर्स बताए जा रहे लल्ला गद्दी की तलाश में दबिश दी जा रही है.