Umesh Pal Murder Case-प्रयागराज में अरबाज़ का एनकाउंटर और बरेली जेल में अशरफ़ की बैरक पर छापा

0
264

The Leader. विधानसभा से लेकर सड़क पर बहस का सबब बने उमेशपाल हत्याकांड में यूपी पुलिस ने जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी है. जेल में बंद अतीक गैंग के एक गुर्गे को मार गिराया है. ऐसा मुठभेड़ में हुआ है, जो प्रयागराज के धूमनगंज में नेहरू पार्क के पास हुई है. इसमें पुलिस इंस्पेक्टर को भी गोली लगी है. बरेली ज़िला जेल में उस बैरक की तलाशी गई है, जिसमें मुख़्तार अंसारी का भाई पूर्व विधायक अशरफ़ बंद है.


का ब फेम गायिका नेहा राठौर को पुलिस का नोटिस और अखिलेश यादव का यह ग़ुस्सा


पुलिस के शूटर अरबाज़ को मार गिराने की सूचना जारी करने के साथ ही इस एनकाउंटर को सीएम योगी के सदन में दिए गए बयान-राजूपाल हत्याकांड के गवाह को मारने वाले मिट्टी में मिला दिए जाएंगे से जोड़कर देखा जा रहा है. पुलिस ने इस मामले में अब तक जो जानकारी दी है, उससे साफ हुआ कि जिस क्रेटा गाड़ी से अतीक अंसारी के खिलाफ़ गवाही देने वाले उमेशपाल पर हमला किया गया था, उसे अरबाज़ ही चला रहा था. पुलिस उस तक इंजन और चेसिस नंबर से पहुंची. उसे पकड़ने के दौरान ही मुठभेड़ हुई है. इसमें धूमनगंज इंस्पेक्टर के हाथ में गोली लगी है.


सोनिया गांधी के पारी ख़त्म होने की बात का मतलब संयास या कुछ और


उमेशपाल हत्याकांड की गूंजल बरेली में भी सुनाई दे रही है. इसलिए क्योंकि यहां अतीक अंसारी का भाई ज़िला जेल हाई सिक्योरिटी बैरक में बंद है. बरेली के डीएम शिवाकांत द्विवेदी और एसएसपी अखिलेश कुमार चौरसिया ने जिला जेल में छापा मारा. बाहुबली अतीक अहमद की बैरक की सघन तलाशी ली गई. एक-एक चीज़ का गहनता से अध्ययन किया हुआ है. किसी आपत्तिजनक चीज़ के बरामद होने की बात सामने नहीं आई है. एक संभावना यह भी जताई जा रही है कि गवाह उमेशपाल की हत्या के तार जिला जेल बरेली से जुड़े हो सकते हैं लेकिन फिलहाल पुलिस की तरफ से किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं की गई है. बरेली के अधिवक्ताओं ने भी मानव श्रंखला बनाकर अधिवक्ता उमेशपाल हत्याकांड को लेकर नाराज़गी ज़ाहिर की. डीएम को ज्ञापन सौंपकर मांग उठाई कि अधिवक्ता प्रोटेक्शन एक्ट लागू किया जाए. प्रदर्शन में बार काउंसिल के अध्यक्ष शिरीष मेहरोत्रा भी शामिल रहे.