जानना चाहते हैं… योगी ने चार साल में क्या किया

0
137

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी सरकार का 4 साल कार्यकाल 19 मार्च को पूरा हो रहा है। एक तरफ विपक्ष सरकार को सभी मुद्दाें पर फेल बता रहा है, वहीं सरकार अपने 4 साल के काम के जरिए 2022 के चुनाव में जाने की तैयारी कर रही है। इसी क्रम में योगी सरकार अब अपनी उपलब्धियां भी गिनवा रही है।

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने 4 साल का कार्यकाल पूरा होने पर अपने लोक निर्माण विभाग का लेखा-जोखा दिया है। उन्होंने कहा है कि सरकार ने विपक्षी दलों के नेताओं के क्षेत्र में जाने वाली सड़कें भी न सिर्फ बनवाई हैं बल्कि टूटी हुई सड़कों की मरम्मत भी करवाई।
विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, जनता ने उनको नकार दिया है इसलिए इस तरह की बातें कर रहे हैं।

यह भी पढ़े – दो मई के बाद टीएमसी के गुंडों को चुन-चुन कर सजा दी जाएगी

वित्तीय वर्ष 2020-21 के कामकाज का ब्योरा

हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के छात्र-छात्राओं के लिए डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम गौरव पथ योजना की शुरुआत।

राज्य से आईएएस/आईपीएस बनने वाली युवाओं के घर तक स्वामी विवेकानंद प्रेरणा मार्ग का ऐलान।

सम्मानित/ प्रतिष्ठित और पुरस्कृत खिलाड़ियों के निवास स्थान तक मेजर ध्यानचंद अभिनव योजना की शुरुआत 29 अगस्त 2020 को की गई। अब तक 19 खिलाड़ियों के सम्मान में 19 मार्गो का शिलान्यास।

शहीद जवानों अर्धसैनिक बलों और पुलिसकर्मियों के लिए जय हिंद वीर पथ योजना के तहत अब तक 23 शहीद मार्ग स्वीकृत। 17 मार्गों की स्थिति अच्छी होने के कारण साइन बोर्ड बदला गया.

यह भी पढ़े – बैंक यूनियन की हड़ताल पर संसद में कामकाज स्थगित करने का नोटिस

175 हबर्ल मार्ग को मंज़ूरी

सामाजिक सांस्कृतिक आध्यात्मिक और आयुर्वेदिक चिकित्सा के साथ-साथ पर्यावरण सुरक्षा के लिए हर्बल मार्गों की योजना के तहत प्लास्टिक मार्ग योजना की शुरुआत की गई। हर जिले के 1-1 मार्ग का चयन करते हुए 175 हर्बल मार्गो को स्वीकृत किया है।

प्रत्येक लोकसभा सीट में स्टेट हाईवे निर्माण के क्रम में सरकार गठन से अब तक 67 स्टेट हाईवे घोषित किए गए।

ग्रामीण समुदाय को मुख्यधारा से जोड़ने के लिए किसान भाइयों की कार्य पद्धति में बदलाव लाने के लिए जनगणना 2001 और 2011 में 250 से अधिक आबादी वाले संपर्क मार्ग को जोड़ने का कार्य.

यह भी पढ़े – देश में बढ़ते कोरोना ने मोदी की बढ़ाई चिंता : मंथन को बुलाई बैठक

यूपी का प्रहरी ऐप बना रोल मॉडल

यूपी लोक निर्माण विभाग में लागू हुआ ‘‘प्रहरी ऐप’’ एक रोल मॉडल बन गया है. देश में केवल यूपी लोक निर्माण विभाग में सबसे पहले इस ऐप का उपयोग किया जा रहा है. इसके क्रियान्वयन से निविदा प्रक्रिया में और अधिक पारदर्शिता आयी है. प्रहरी ऐप का नीति आयोग ने भी संज्ञान लिया है. चर्चाएं हैं कि क्यों न इसे देश के सभी प्रान्तों में लागू किया जाए.

रोड सेफ्टी के लिए मार्गों पर साइन बोर्ड लगाने, रोड मार्किंग के लिए स्वीकृतियां देते हुए कार्यों की लगातार जोनवाइज समीक्षा की जा रही है. सड़कों की ऑनलाइन निगरानी के लिए निगरानी एप भी लांच किया गया. साथ ही टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर– 1800-121-5707 और व्हाट्सएप नंबर 7991995566 जारी किया गया.

पहले से लंबित 89 सेतु बनवाए

अब तक 102 लम्बे सेतुओं को पहुंच मार्ग सहित पूरा कर आवागमन के लिए उपलब्ध करवाया गया है, जिसमें से 89 सेतु ऐसे हैं, जो एक अप्रैल 2017 के पहले से लम्बित थे.

यूपी की सड़कों को गड्ढामुक्त करने का फैसला किया गया, जिसके तहत वित्तीय वर्ष 2018–19 में लगभग 44,376 किमी मार्ग, 2019-2020 में 53,273 किमी मार्ग और 2020-21 में अब तक 56,799 किमी मार्गो को गड्ढ़ामुक्त किया जा चुका है.

यह भी पढ़े – बाटला हाउस : इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा की हत्या के आरोपी आरिज खान को फांसी की सजा

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here