बहरीन के मुशायरे से वापसी पर प्रोफेसर वसीम बरेलवी हापुड़ में हादसे का शिकार

0
47

The Leader. मशहूर शायर ज़ाहिद हसन उर्फ प्रोफेसर वसीम बरेलवी दो दिन पहले हापुड़ के पास हादसे का शिकार हो गए. वो दिल्ली से बरेली स्थित मुहल्ला फूटा दरवाज़ा में अपने घर आ रहे थे. उनके कांधे और सिर में चोट आई है. कांधे का आपरेशन किया गया है. पत्नी निकहल वसीम ने द लीडर हिंदी को बताया कि वसीम साहब ठीक हैं. घबराने की ज़रूरत नहीं है. आराम मिलने के बाद जल्द ही बरेली आ जाएंगे. उनका अभी दिल्ली के अस्पताल में इलाज चल रहा है.


आज़म ख़ान के मुम्बई कोर्ट जाने पर रामपुर में यह किसने बना दिया तमाशा


वसीम साहब बहरीन में मुशायरा पढ़ने के लिए गए थे. फ्लाइट से रविवार को दिल्ली लौटे थे. मीरगंज कस्बे के रहने वाले शायर अक़ील नोमानी भी साथ थे. क्रेटा कार शाम क़रीब चार बजे हापुड़ के पास एक ट्रक से टकरा गई. अक़ील नोमानी ने बताया कि ट्रक साइड में खड़ा था, ड्राईवर ने अचानक टर्न लिया, जिससे हमारी कार उससे टकरा गई. वसीम साहब को थोड़ी ज़्यादा चोट आई थी. फौरन ही पुलिस पहुंच गई. वसीम साहब को दिल्ली ले जाया गया. वहां मंगलवार को उनका कांधे का आपरेशन हुआ है. इसके लिए बरेली से डॉक्टर ब्रजेश्वर सिंह भी दिल्ली गए थे. अब डॉक्टरों से सलाह की जा रही है, ताकि वसीम साहब को बरेली लाया जा सके.


बरेली में प्रवीण तोगड़िया की नई मांग-तब्लीग़ी जमात, अहले हदीस, जमाते इस्लामी और देवबंद पर लगे बैन


हादसे की ख़बर दो दिन बाद सामने आने के पीछे की वजह वसीम साहब हैं. उनकी पत्नी का कहना है कि वसीम साहब ने मना कर दिया था कि किसी को बताया नहीं जाए. लोग फिक्रमंद हो जाएं, उन्हें तकलीफ़ होगी. बाद में दिल्ली से ही कुछ लोग उन्हें देखने पहुंचे तो ख़बर मीडिया तक पहुंची. अक़ील नोमानी ने बताया कि जिस वलक़्त हादसा हुआ, वसीम साहब बहरीन के मुशायरे को लेकर बात कर रहे थे. लंबे वक़्त के बाद बहुत कामयाब मुशायरा हुआ है. इसी बीच कार ट्रक से टकरा गई. अल्लाह का बहुत बड़ा अहसान है, उसने बचा दिया.


यह भी पढ़ें-

दरगाह आला हज़रत की गलियों में बेचैनी का सबब बना दूल्हे का यह डांस