जनता को डराए बिना कोरोना की दूसरी लहर को भगाना होगा

0
123

दिल्ली | देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नें बुधवार को देश के अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ ऑनलाइन बैठक की। हालांकि, इस मीटिंग में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अलावा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शामिल नहीं हुए।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिये मोदी ने कहा कि हमें कोरोना की इस उभरती हुई “सेकंड पीक” को तुरंत रोकना होगा,इसके लिए हमें Quick और Decisive कदम उठाने होंगे। कोरोना की लड़ाई में हम आज जहां तक पहुंचे हैं, उससे आत्मविश्वास आया है,हमें जनता को पैनिक मोड में भी नहीं लाना है और परेशानी से मुक्ति भी दिलानी है।

यह भी पढ़े – कांग्रेस नेता के घर इनकम टैक्स का छापा

मोदी ने कहा कि टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट को लेकर हमें उतनी ही गंभीरता की जरूरत है जैसे कि हम पिछले एक साल से करते आ रहे हैं, हर संक्रमित व्यक्ति के कॉन्टेक्ट्स को कम से कम समय में ट्रैक करना और RT-PCR टेस्ट रेट 70 प्रतिशत से ऊपर रखना बहुत अहम है। हमें छोटे शहरों में टेस्टिंग को बढ़ाना होगा और “रेफरल सिस्टम” और “एम्बुलेंस नेटवर्क” के ऊपर विशेष ध्यान देना होगा।

वैक्सीन को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में वैक्सीनेशन की गति लगातार बढ़ रही है,हम एक दिन में 30 लाख लोगों को वैक्सीनेट करने के आंकड़े को भी पार कर चुके हैं,लेकिन इसके साथ ही हमें वैक्सीन डोज़ वेस्ट होने की समस्या को बहुत गंभीरता से लेना है।

यह भी पढ़े – सचिन वाजे के पास नोट गिनने की मशीन : क्या हैं मायने

पिछले साल मार्च से कोरोना फैलने के साथ पीएम लगातार मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग करते रहे हैं. इस मीटिंग में केंद्र का फोकस कोरोना के बढ़ते मामलों से जूझ रहे राज्यों का जायजा लेना और वैक्सीनेशन प्रोग्राम में तेजी लाना है |

यह भी पढ़े – बढ़ते कोरोना मामलों ने बढ़ाई सरकार की चिंता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here