FIFA World Cup 2022 देखने जाने पर ‘प्रतिबंध’ लगा सकता इजरायल

0
432

फुटबॉल विश्वकप देखने के लिए लगभग 15 हजार इजरायलियों ने टिकट खरीदे हैं, जबकि खेल पर्यटन एजेंसियों का अनुमान है कि 25 से 30 हजार इजरायली विश्वकप देखने को कतर की यात्रा कर सकते हैं। इस बीच इजरायल के सुरक्षा सूत्रों ने कहा है, इजरायल अपने नागरिकों को नवंबर में फुटबॉल विश्वकप मैच देखने के लिए कतर की यात्रा पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है। इजरायल की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद अगले सप्ताह इस सिलसिले में बैठक करेगी, जिसमें कतर की यात्रा से बचने के लिए इजरायलियों को परामर्श जारी करने पर चर्चा की जाएगी। (Israel On World Cup)

इजरायल की प्रेस रिपोर्टों ने मंगलवार को कहा कि कतर में इजरायलियों को “नुकसान” होने की आशंकाओं को लेकर इजरायल की सुरक्षा चिंताएं बढ़ती जा रही हैं। ऐसा इसलिए भी कि इज़राइल वहां सुरक्षा व्यवस्था नहीं कर सकता, क्योंकि दोहा और तेल अवीव के बीच कोई राजनयिक संबंध नहीं हैं। इज़राइल कतर की नीतियों को हमास “समर्थक” मानता है और विश्वकप मैचों में ईरानियों का भी आना होगा।

इज़राइल टुडे अखबार ने इस मामले से संबंधित एक इजरायली सूत्र के हवाले से कहा: “यह साधारण सुरक्षा चुनौती नहीं है। इसके लिए कतर में अधिकारियों के सहयोग की जरूरत है, जिसकी कोई गारंटी नहीं है। सुरक्षा चर्चाओं के बाद पता चलेगा कि क्या किया जा सकता है और कैसे। अगर इजरायली सुरक्षा कारणों से कोई समझौता नहीं होता है, तो ठोस वजह बताकर कतर की यात्रा से बचने की सिफारिशें हो सकती हैं।” (Israel On World Cup)

यह भी पढ़ें: फिलिस्तीनियों पर जुल्म के खिलाफ बेला हदीद ने खोला मोर्चा

रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकवाद विरोधी प्राधिकरण ने कतर की गैर-जरूरी यात्रा से बचने की सिफारिश यह मानकर की है कि “इजरायल के प्रति कतर का नजरिया और कतर में आतंकवादी तत्वों की मौजूदगी की संभावनाएं होंगी, जो इजरायली नागरिकों की सुरक्षा के लिए खतरा है।”

रिपोर्ट के अनुसार, ईरान और कतर के बीच भौगोलिक निकटता है और माना जा रहा है कि ईरान विश्वकप देखने के लिए अपने हजारों नागरिकों को भेजेगा, जिससे दुश्मनाना रवैया होने के बाद नजदीक में होना खतरा पैदा कर सकता है।

एक दूसरा तरीका भी है। हजारों इजरायलियों के पास दूसरा विदेशी पासपोर्ट भी है, जिसका इस्तेमाल वे बिना इजरायली पहचान के कतर की यात्रा कर पसंदीदा मैच देखने को कर सकते हैं। (Israel On World Cup)

इजरायल की राष्ट्रीय टीम विश्वकप के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई, जिसने आखिरी बार 1970 में मैक्सिको में भाग लिया था।

अरबी में आधिकारिक इज़राइल रेडियो स्टेशन माकन के रिपोर्टर व खेल विशेषज्ञ अहमद ओवैसैट ने अरब न्यूज़ से कहा कि बड़ी इज़राइली स्पोर्ट्स मीडिया टीमें कवरेज के लिए कतर जाने का इरादा रखती हैं। टेलीविजन चैनल केएएन और माकन और आधिकारिक इजरायली रेडियो खासतौर पर सभी विश्वकप मैचों को इजरायल के दर्शकों के लिए प्रसारित करेंगे।

ओवैसैट ने कहा कि हजारों इजरायली फुटबॉल प्रशंसकों का इरादा दोहा जाने और प्रतियोगिता के आखिर तक वहीं रहने का है।

“यहां तक ​​​​कि अगर उन्हें कतर जाने से रोकने के लिए फैसला लिया जाता है – जिसे मैं खारिज करता हूं – उन्हें नहीं रोक पाएगा और वे विदेशी पासपोर्ट का इस्तेमाल कर यात्रा करेंगे, क्योंकि ज्यादातर इजरायली नागरिकों की दूसरी राष्ट्रीयताएं हैं और वे धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलते हैं, कतर में हिब्रू बोलने की जरूरत नहीं है, इसलिए उन्हें पहचानना मुश्किल होगा।”

ओवैसैट का कहना है कि कई इजरायली सीधे इजरायली नागरिक बतौर कतर जाने में दिलचस्पी रखते हैं, क्योंकि फीफा कानून उन्हें अपने पासपोर्ट के साथ वहां जाने की मंजूरी देते हैं, भले ही उनके देश और मेजबान देश के बीच कोई राजनयिक संबंध न हों। (Israel On World Cup)

उन्होंने कहा, अगर विश्वकप से पहले कतर में इजरायल विरोधी प्रदर्शन होते हैं, तो इतना होगा कि कम संख्या में इजरायलियों को कतर जाने की अनुमति मिले।

इजरायल की राष्ट्रीय सुरक्षा और आतंकवाद विरोधी परिषद ने इजरायलियों को चेतावनी दी हुई है कि वे चरमपंथी समूहों का निशाना न बनें इसलिए मिस्र में सिनाई प्रायद्वीप न जाएं, फिर भी सैकड़ों इजरायली जाते हैं।

इजरायल के एक पूर्व वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने अरब न्यूज से कहा: “मुझे लगता है कि आखिर में, इजरायल के सुरक्षा अधिकारी इजरायल के नागरिकों को कतर जाने से नहीं रोकेंगे, वे ज्यादा से ज्यादा सलाह या चेतावनी दे सकते हैं और कुछ नहीं।”

इजरायल के राजनीतिक विशेषज्ञ और विश्लेषक योनी बेन मेनाचेम ने अरब न्यूज से कहा, “मुझे लगता है कि सुरक्षा अधिकारियों का डर अपनी जगह सही है, इन तमाम आशंकाओं और चेतावनियों के बावजूद सैकड़ों इजरायली कतर विश्वकप देखने जाएंगे।” (Israel On World Cup)

उन्होंने कहा कि सिनाई जाने के खिलाफ इजरायलियों के लिए सुरक्षा चेतावनियों के बावजूद अभी भी 15 हजार इजरायली वहां यहूदी फसह की छुट्टी बिता रहे हैं।

Source: Arab News


यह भी पढ़ें: FIFA WORLD CUP 2030 की मेजबानी करेगा इजरायल


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)