Agneepath के खिलाफ सड़कों पर उतरी कांग्रेस : कहा- सेना का भी निजीकरण करना चाहती है सरकार

0
52
यूपी के सुल्तानपुर जिले में अग्निपथ के खिलाफ सड़कों पर उतरी कांग्रेस

द लीडर। एक तरफ देशभर में अग्निपथ के विरोध में बवाल मचा हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ कई राजनीतिक पार्टियां भी इस मामले में कूद पड़ी हैं। बिहार में हो रहे प्रदर्शन को जहां राजद समेत कई पार्टियों का समर्थन मिला है तो वहीं देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस भी छात्रों के सपोर्ट में है। और सरकार के खिलाफ कल देशभर में कांग्रेस सत्याग्रह करने जा रही है।

अग्निपथ के विरोध में सड़कों पर उतरे कांग्रेस कार्यकर्ता

उत्तर प्रदेश के जिला सुल्तानपुर सेना में अग्निपथ नाम से सरकार द्वारा लाई जा रही भर्ती योजना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे और सरकार के खिलाफ नगर कोतवाल, सीओ सिटी और एसडीएम सदर के सामने जमकर विरोध प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।


यह भी पढ़ें: इटावा : तालाब में ऑक्सीजन की कमी के चलते हजारों मछलियों की हुई मौत

 

इसके साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एसडीएम सदर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष वरुण मिश्र के नेतृत्व में दर्जनों युवा कांग्रेसी कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे। और अग्निपथ योजना का विरोध किया।

सुल्तानपुर में कांग्रेस ने राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन

अग्निपथ योजना नौजवानों के साथ धोखा है

प्रदेश महासचिव शकील अंसारी ने कहा कि, अग्निपथ योजना नौजवानों के साथ धोखा है। वह नौजवान जो सुबह 3 बजे उठकर हाड़ तोड़ मेहनत करते हैं। और सेना में जाने का सपना देखते हैं। यह उनके साथ धोखा है। उन्होंने कहा कि, सेना के पास अपना रिक्रूटमेंट बोर्ड मौजूद है। उसके बाद भी सरकार को उस रिक्रूटमेंट बोर्ड पर भरोसा नहीं है। वह नौजवानों के साथ धोखाधड़ी पर आमादा है।

युवा कांग्रेस जिला अध्यक्ष वरुण मिश्र ने कहा कि, मोदी सरकार जब से सत्ता में आई है। तब से रोजगार के नाम पर कुछ नहीं कर पाई है। 3 साल से रूकी हुई आर्मी की भर्ती को अग्निवीर बताकर सेना के निजी करण की तरफ भी सरकार ने कदम बढ़ा दिए हैं। जल्द ही सरकार में अडानी रेजीमेंट और अंबानी रेजीमेंट भी दिखाई पड़ेंगे।

अब सेना का भी निजीकरण करना चाहती है सरकार

उन्होंने कहा कि, सरकार ने बैंकिंग, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और सरकारी नौकरियों का जिस तरह से निजी करण किया। अब वह सेना भी अडानी और अंबानी के हवाले करना चाहती हैं। भारत के नौजवान इस तानाशाह सरकार को उखाड़ फेंक देंगे। तानाशाही किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

उन्होंने कहा कि, युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता देश के नौजवानों के साथ हैं। लेकिन नौजवानों को भी हिंसा का रास्ता छोड़कर बातचीत का रास्ता अपनाना होगा। किसान आंदोलन इस बात की सबसे बड़ी नजीर है। यह देश गांधी जी का देश है। यहां अहिंसा से ही कोई लड़ाई जीती जा सकती है। उन्होंने नौजवानों से धैर्य रखने की अपील की।

देश में लगा है अघोषित अपातकाल

जिला उपाध्यक्ष राहुल तिवारी ने कहा कि, इस सरकार से नौजवानों का भरोसा उठ चुका है। शीघ्र ही नौजवान इस चुनी हुई सरकार के खिलाफ उठ खड़े होंगे। जिसकी शुरुआत देश के कई राज्यों से हो चुकी है।

महासचिव संतोष वर्मा और शहबाज खान ने कहा कि, देश के नौजवानों के साथ ज्यादती हो रही है। लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। ईडी और सीबीआई के सहारे सरकार चलाई जा रही है। देश में अघोषित आपातकाल लगा हुआ है।


यह भी पढ़ें:  बिहार में हिंसा बेकाबू : उपद्रवियों ने बस, ट्रेन समेत दर्जनों गाड़ियों में लगाई आग, पुलिस पर पथराव