#ChandraGrahan 2021: जानिए क्यों खास है इस साल का लगने वाला चंद्र ग्रहण?

0
257

नई दिल्ली। चंद्र ग्रहण का सभी राशियों पर प्रभाव पड़ता है. जिस कारण हर शख्स की नजर चंद्र ग्रहण और  सूर्य ग्रहण पर होती है. इस साल मई में पढ़ने वाला चंद्र ग्रहण का असर भी राशियों पर कुछ इस तरह पड़ने वाला है. इस साल 2021 में दो बार चंद्रग्रहण लगेगा. पहला चंद ग्रहण 26 मई 2021 को लगेगा जो पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा. ये ग्रहण भारत में नजर नहीं आएगा. लेकिन पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका के लोग पूर्ण चंद्र ग्रहण का नजारा देख पाएंगे.

कब है चंद्र ग्रहण ?

पंचांग के अनुसार 26 मई बुधवार को वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर दोपहर 02 बजकर 17 मिनट पर चंद्र ग्रहण लगेगा. यह चंद्र ग्रहण शाम 07 बजकर 19 मिनट तक रहेगा. यह चंद्र ग्रहण पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका में पूर्ण ग्रहण होगा.

यह भी पढ़े: अखिलेश का नही बना सीन , शिवपाल ने लगवाई वैक्सीन 

क्यों मान्य नहीं है सूतक काल ?

चंद्र ग्रहण से 9 घंटे पूर्व सूतक काल प्रारंभ हो जाता है. भारत में साल का प्रथम चंद्र ग्रहण उपछाया ग्रहण है. इस कारण इसमें सूतक काल मान्य नहीं होगा, लेकिन फिर भी कुछ मामलों में विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है. खास तौर पर छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान घर में ही रहना चाहिए. ताकि ग्रहण के अशुभ प्रभावों से बचा जा सके. उपछाया ग्रहण का अर्थ होता है कि, जब चंद्रमा पेनुम्ब्रा से होकर गुजरता है. तो चन्द्रमा पर सूर्य का प्रकाश कुछ कटा हुआ सा पहुंचता है. उपछाया की स्थिति में चन्द्रमा की सतह कुछ धुंधली सी दिखाई देने लगती है, यह स्थिति ही उपछाया ग्रहण कहलाती है.

कैसे पड़ता है चंद्र ग्रहण का प्रभाव?

ज्योतिष शास्त्र में चंद्र ग्रहण को शुभ नहीं माना गया है. इसे एक अशुभ खगोलीय घटना के तौर पर देखा जाता है. पौराणिक मान्यता के अनुसार ग्रहण के समय चंद्रमा पीड़ित हो जाता है. ग्रहण के दौरान चंद्रमा पर तेज आंधी चलती है, जिस कारण नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है, जिसका प्रभाव मनुष्य पर भी पड़ता है. ग्रहण का असर देश और दुनिया पर भी देखा जाता है.

यह भी पढ़े: #CoronaVirus: महाराष्ट्र में हालात बेकाबू, ब्लड बैंक में खून की कमी 

चंद्र ग्रहण के समय क्या होगी ग्रहों की स्थिति ?

चंद्र ग्रहण के दिन ग्रहों की स्थिति विशेष रहेगा. चंद्र ग्रहण का असर वृश्चिक राशि और अनुराधा नक्षत्र पर सबसे अधिक देखा जा सकता है. क्योंकि चंद्रमा वृश्चिक राशि में रहेगा. अन्य ग्रहों की बात करें तो वृषभ राशि में बुध, राहु, सुर्य और शुक्र ग्रह मौजूद रहेंगे. शनि मकर राशि, मंगल मिथुन राशि, गुरू मीन राशि और केतु चंद्रमा के साथ वृश्चिक राशि में मौजूद रहेंगे.

10 जून को साल का पहला सूर्य ग्रहण

साल 2021 में जून महीने की 10 तारीख को साल का पहला सूर्य ग्रहण लग रहा है. यह सूर्य ग्रहण आंशिक ग्रहण होगा. इस सूर्य ग्रहण को अपने देश भारत, कनाडा, रूस, ग्रीनलैंड, यूरोप, एशिया और उत्तरी अमेरिका में देखा जा सकेगा.

यह भी पढ़े: बंगाल का चुनाव चाहे जितना कड़वा हो, लेडीकेनी उतनी ही टेस्टी 

4 दिसंबर को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण

साल 2021 का दूसरा यानी इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर को लग रहा है. इस सूर्य ग्रहण को दक्षिण अफ्रीका, अंटार्कटिका, दक्षिण अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में देखा जा सकेगा, भारत में यह सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देगा.

यह भी पढ़े: #CoronaVirus: विकराल हुआ कोरोना, 24 घंटे में 81,466 नए केस, 469 लोगों की मौत 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here