चंपावत उपचुनाव : सीएम धामी के लिए प्रचार करेंगे CM योगी, 31 मई को होगी वोटिंग, 4 जून को आएंगे नतीजे

0
154

द लीडर। उत्तराखंड के चंपावत विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के पक्ष में चुनाव प्रचार करने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, अनुराग ठाकुर आएंगे. भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री व पार्टी मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह ने 40 स्टार प्रचारकों के नामों की सूची जारी की है.

स्टार प्रचारकों की सूची में ये नाम शामिल

स्टार प्रचारकों की सूची में प्रदेश पार्टी प्रभारी दुष्यंत गौतम, सह प्रभारी रेखा वर्मा, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट, भाजयुमो के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद तेजस्वी सूर्या, पूर्व केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, सांसद तीरथ सिंह रावत, अजय टम्टा व अनिल बलूनी, नरेश बंसल, पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के नाम शामिल हैं.


यह भी पढ़ें: यूपी में योगी सरकार बनाएगी काऊ सफारी, आवारा पशुओं को मिलेगा सहारा

 

इनके अलावा पूर्व मुख्यंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश संगठन महामंत्री अजेय कुमार, कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल, सतपाल महाराज, गणेश जोशी, डॉ. धनसिंह रावत, सुबोध उनियाल, रेखा आर्य, सौरभ बहुगुणा, राजेंद्र भंडारी, कुलदीप कुमार, सुरेश भट्ट, दीप्ति रावत, सरिता आर्य, खिलेंद्र चौधरी, किरण देवी, दीपचंद्र पाठक, कैलाश गहतोड़ी, हर भजन सिंह चीमा, प्रेम सिंह राणा, ज्योति राय, डॉ. विनोद प्रजापति, लीलावती राण, हीमा जोशी व प्रेमानंद भी स्टार प्रचारक के तौर पर मुख्यमंत्री के लिए प्रचार करेंगे.

31 मई को वोटिंग, 4 जून को नतीजे

उत्तराखंड चुनाव में बीजेपी को दोबारा सत्ता में लाने के बावजूद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी सीट खटीमा नहीं बचा पाए थे. अब वे चंपावत सीट से उपचुनाव लड़ने जा रहे हैं. 31 मई को वोटिंग होने जा रही है और चार जून को नतीजे आएंगे.

इस चुनाव में पुष्कर सिंह धामी को टक्कर देने के लिए कांग्रेस ने निर्मला गहतोड़ी को अपना उम्मीदवार बनाया है. वे भी जमीन से जुड़ी नेता मानी जाती हैं और जनता के बीच उनकी मजबूत पकड़ है. लेकिन बीजेपी के पास इस समय मजबूत उम्मीदवार के अलावा एक ताकतवर स्टार प्रचारक भी मौजूद है.

उपचुनाव में सीएम धामी के लिए प्रचार करेंगे CM योगी

ऐलान किया गया है कि, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस उपचुनाव में सीएम धामी के लिए प्रचार करने वाले हैं. उनका एक उपचुनाव में प्रचार के लिए उतरना निर्णायक माना जाता है. स्थानीय लोगों की माने तो, सीएम योगी के यहां रैली करने से समीकरण भाजपा के पक्ष में जा सकते हैं.


यह भी पढ़ें:  Khargone : मुस्लिम महिलाओं ने एसपी कार्यालय का किया घेराव, पुलिस पर दंगों की जांच के नाम पर दुर्व्यवहार करने का आरोप

 

बता दें कि, विधानसभा चुनाव के दौरान भी टिहरी,और कोटद्वार सीट पर योगी की रैलियों में उमड़े जन सैलाब से भाजपा प्रत्याशी फंसी हुई सीट को भी निकालने में कामयाब रहे थे, एक बार फिर उनकी एंट्री से धामी की जीत पर मोहर लग सकती है.

कई नेताओं ने थामा था भाजपा का दामन

वहीं दूसरी तरफ चंपावत सीट खटीमा से करीब है, ऐसे में पुष्कर धामी के लिए यहां भी एक मजबूत जनाधार माना जा रहा है. विधायक रहते हुए भी मुख्यमंत्री का इस सीट के आसपास कार्यक्षेत्र रहा है जिसका प्रभाव यहां भी दिखाई दे रहा है. दूसरी महत्वपूर्ण बात जो धामी के लिए फायदेमंद हो सकती है वो है उपचुनाव की घोषणा के साथ ही कांग्रेस के कई स्थानीय नेताओं का भाजपा में शामिल होना.

तीसरी महत्वपूर्ण बात ये है कि, मुख्यमंत्री खुद राजपूत वर्ग से हैं और कांग्रेस उम्मीदवार ब्राह्मण वर्ग से, ऐसे में राजपूत वोटों का ज्यादा होना मुख्यमंत्री के पक्ष में जा सकता है. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि राजपूत वोटरों की संख्या यहां पर अधिक है. इस सीट पर कुल वोटर 96016 हैं जिनमें पुरुष वोटरों की संख्या 50057 जबकि 45959 महिलायें हैं.

इस सीट पर क्षेत्रवाद की हवा बहती रही है

आंकड़े भी बताते हैं कि, इस सीट पर जातिगत समीकरण से ज्यादा क्षेत्रवाद की हवा बहती रही है. अल्मोड़ा लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाली 14 विधानसभा सीटों में सिर्फ चंपावत सीट ऐसी है, जिसमें पहाड़ के अलावा 15 प्रतिशत हिस्सा मैदान का भी है. कांग्रेस उम्मीदवार निर्मला गहतोड़ी की बात करें तो वे पूर्व जिला अध्यक्ष और पूर्व राज्यमंत्री (राज्य महिला सशक्तिकरण परिषद उपाध्यक्ष) जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रही हैं.

हालांकि वे हर बार यहां से चुनाव लड़ने के लिए पार्टी से टिकट मांगती रही हैं, पर कांग्रेस ने उनकी अनदेखी हर चुनाव में की. लेकिन इस बार उपचुनाव में पार्टी ने उनके ऊपर दावं खेला है. विरोधी कमजोर प्रत्याशी कह रहे हैं तो कांग्रेस जमीन से जुड़ी नेता बता रहे हैं.


यह भी पढ़ें:  यूपी में पीएम किसान सम्मान निधि में सामने आया फर्जीवाड़ा, 3 लाख किसानों से होगी वसूली