यूपी में योगी सरकार बनाएगी काऊ सफारी, आवारा पशुओं को मिलेगा सहारा

0
88

द लीडर | यूपी के सबसे बड़े काऊ सफारी के लिए उरई में 150 एकड़ से ज्यादा जमीन चिन्हित की गयी है। जिला प्रशासन वन विभाग की भूमि पर जल्द ही काम शुरू करेगा। प्रशासन का कहना है कि इस माह के अंत तक काऊ सफारी पर काम शुरू कर दिया जाएगा। ‘काऊ सफारी’ बनने से आवारा पशुओं पर रोकथाम लगेगी और बेसहारा पशुओं को एक स्थाई जगह मिल सकेगी। यह प्रोजेक्ट सफल रहती है तो यूपी के अन्य जिलों में भी काऊ सफारी बनाने की योजना पर काम शुरू होगा।

मेनिफेस्टो में अन्ना पशु को किया गया था शामिल

यूपी की सरकार शुरूआत से ही गोवंश की रक्षा के लिए काम कर रही है। चुनाव के मेनिफेस्टो में भी अन्ना पशु को शामिल किया गया था, जिससे इस बाद से ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि गौवंश की सुरक्षा को लेकर सरकार बड़ा कदम उठा सकती हैं।  इसकी शुरुआत जालौन से हो गई है। लगभग 150 हेक्टेयर में जल्द ही ‘काऊ सफारी’ का नजारा देखने को मिलेगा। जिले के मुख्यालय उरई में काऊ सफारी बनाने के लिए जिला प्रशासन की तरफ से कवायद शुरु कर दी गई है। नवीन गल्ला मंडी के समीप रगौली गांव में बंजर पड़ी वन विभाग की भूमि पर इसकी आधार शिला रखी जायेगी। इसका दायरा 150 हेक्टेयर के बीच तय किया गया है। काऊ सफारी बनने के बाद आवारा पशुओं से भी निजात मिलेगा।


यह भी पढ़े –यूपी में पीएम किसान सम्मान निधि में सामने आया फर्जीवाड़ा, 3 लाख किसानों से होगी वसूली


मध्य प्रदेश में बनी थी पहली काऊ सेंचुरी 

देश में ‘गो संरक्षण’ का मॉडल रखने  का काम सबसे पहले मध्य प्रदेश में किया गया। शिवराज सरकार ने 2017 में पहली काऊ सेंचुरी बनाई थी। यह काऊ सफारी आगर मालवा जिले की सुसनेर तहसील के सालरिया गांव में बनाई गई है। 472 हेक्टेयर में बनी इस काऊ सेंचुरी में 24 शेड हैं।

150 हेक्टेयर जमीन चिन्हित

जालौन में लगभग 150 हेक्टेयर में ‘काऊ सफारी’ बनायी जाएगी। इसके लिए उरई में नवीन गल्ला मंडी के समीप रगौली गांव में बंजर पड़ी वन विभाग की भूमि चिन्हित की गयी है। इसका क्षेत्रफल करीब 150 हेक्टेयर होगा।

3 हजार पशुओं को रखा जा सकेगा

जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने बताया कि जिले में सात कान्हा गौशाला एवं 360 अस्थाई गौशालाएं हैं। अब वन विभाग की भूमि पर ‘काऊ सफारी’ की कार्ययोजना तैयार की गई हैं। वन विभाग और मंडी समिति के द्वारा भूमि की पैमाईश कर ली गई है। इस काऊ सफारी में लगभग 2-3 हजार पशुओं को रखा जा सकेगा।

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)