आज़म ख़ान को मिलेगी बेल या रहेंगे सीतापुर जेल, हाईकोर्ट में आज साढ़े तीन बजे होगी सुनवाई

0
91
Rampur MLA Azam Khan
आज़म ख़ान.

क़द्दावर सियासी नेता रामपुर के विधायक मुहम्मद आज़म ख़ान की तरफ़ से उनके बेटे अब्दुल्ला आज़म ने ईद वाले दो शेर ट्वीट किए हैं. एक यह कि-तू छोड़ रहा है तो ख़ता इसमें तिरी क्या, हर शख़्स मिरा साथ निभा भी नहीं सकता और दूसरा-वैसे तो इक आँसू ही बहाकर मुझे ले जाए, ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता. इन दोनों शेर के राजनीतिक गलियारों में मायने निकाले जा रहे हैं.


शिवपाल सिंह यादव ने अखिलेश पर साधा निशाना : कहा – हमने उसे चलना सिखाया और वो हमें रौंदता चला गया


किसके साथ छोड़ने की बात कही, उस पर सभी अपनी तरह से विवेचना कर रहे हैं. इस बीच आज़म ख़ान, उनके परिवार और समर्थकों के लिए बड़ी ख़बर यह है कि उनकी ज़मानत हाईकोर्ट में गुरुवार को शाम साढ़े तीन बजे सुनवाई होगी. उसके लिए सरकार की तरफ़ से भी शपथपत्र दाख़िल किया गया है. यह शत्रु संपत्ति से जुड़ा मामला है, जिसमें आज़म ख़ान पर धोखाधड़ी करके ज़मीन जौहर यूनिवर्सिटी में मिला लेने का मुक़दमा दर्ज कराया गया था.


Bihar News : RJD के रोज़ा इफ़्तार में पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, क्या हैं राजनीतिक मायने


पूर्व में हाईकोर्ट ने सुनवाई पूरी होने के बाद फैसला सुरक्षित कर लिया था. उसी पर फिर से बहस के लिए 4 मई की तारीख़ लगी थी. बुधवार को सुनवाई नहीं हुई. समर्थक दुआएं कर रहे हैं कि आज़म ख़ान को ज़मानत मिल जाए और वो सीतापुर से जेल से रिहा होकर उनके बीच आ जाएं. अब कल क्या होगा, उसके लिए इंतज़ार करना होगा.


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)