पैंगोंग झील से पीछे हटेंगी सेनाएं, रक्षामंत्री बोले हम अपनी एक इंच भी जमीन किसी को लेने नहीं देंगे

0
417
Army Pangong Defense Minister
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, सेना के अधिकारियों के साथ. फोटो, साभार ट्वीटर

द लीडर : भारत-चीन सीमा पर पिछले साल से बना गतिरोध खत्म होता दिख रहा है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को संसद में बताया कि ‘चीन के साथ पैंगोंग झील से पूर्व सेनाओं के हटने के स्तर पर समझौता हुआ है. भारत अपने बेस फिंगर तीन और चीन फिंगर आठ के पीछे हटेगा. ये प्रक्रिया कल से शुरू हो चुकी है. अपनी पुरानी जगह पर जाएंगे.’

रक्षमंत्री, पूर्वी लद्​दाख के मौजूदा हालात से संसद को अवगत कराया. उन्होंने कहा कि ‘चीन ने कई बार अतिक्रमण की कोशिश की है. लेकिन सेना ने उसे नाकाम कर दिया. दोनों पक्षों की ओर से सितंबर से बातचीत जारी है. सीमा का मुद्​दा बातचीत से ही हल हो सकता है.’

भारत और चीन के साथ करीब 34,80 किलोमीटर सीमा साझा करता है. बीते साल 2020 के जून माह में लद्​दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पास भारत-चीन सेना में झड़प हुई थी. इस तनाव के कारण 15 जून को फिर गलवान घाटी में झड़प हुई. जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे.


जानिए, कैसे इस आंदोलन से शुरू हुआ नरेंद्र मोदी का राजनीतिक कॅरियर और बने प्रधानमंत्री


 

इसको लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर सवाल उठाता रहा है. बुधवार को भी कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी ने संसद में चीन के साथ विवाद का मुद्​दा सदन में उठाया था.

गुरुवार को रक्षामंत्री ने संसद को हालात से वाकिफ कराया. उन्होंने कहा कि ‘हम अपनी एक इंच जमीन भी किसी को लेने नहीं देंगे. ये हमारे हौसलों का यही नतीजा है कि हम पूर्वी लद्​दाख में सीमा गतिरोध के मद्​देनजर समझौते की स्थिति तक पहुंचे हैं.

उन्होंने कहा कि भारत ने चीन से हमेशा कहा है कि द्विपक्षीय संबंध दोनों पक्षों के प्रयास से बने रह सकते हैं.’ हम हर चुनौती का सामना करने में सक्षम हैं.


आपदा : 34 शव बरामद, 170 लोग अभी भी लापता, सुरंग में फंसीं 35 जिंदगियां बचाने की जंग जारी


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here