रामुपर पहुंचे अखिलेश यादव, आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी से साईकिल रैली का आगाज

0
227
Akhilesh Yadav Ramupar Azam Khan Jauhar University

रामपुर : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) शुक्रवार को रामपुर पहुंचे हैं. उन्होंने सांसद आजम खान के आवास पर जाकर उनकी बीवी डॉ. तजीन फातिमा से मुलाकात की. अखिलेश यादव ने मुहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी (Jauhar University) कैंपस से साईकिल यात्रा का आगाज क‍िया. इस बीच आजम खान की बीवी डा. तजीन फातिमा ने कहा कि ये लड़ाई जौहर यूनविर्सिटी को बचाने और आजम खान व समाजवादी पार्टी के नेताओं पर किए गए उत्पीड़न के खिलाफ है. इसलिए रैली की शुरुआत रामपुर से हो रही है. (Akhilesh Yadav Ramupar Azam Khan Jauhar University)

इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खान पर जितने मुकदमे दर्ज किए गए हैं, देश में पहले किसी सांसद पर एकसाथ इतने मुकदमे नहीं लिखे गए. उन्होंने कहा कि आज वे हमारे बीच नहीं हैं. और मैं समझता हूं कि कहीं न कहीं प्रशासन ने उन्हें सरकारे के इशारे पर झूठे मामलों में फंसाया है. हमें न्यायालय पर भरोसा है कि आजम खान और उनके परिवार को न्याय मिलेगा.

आजम खान रामपुर जिले से सांसद हैं और उनकी बीवी डॉ. तजीन फातिमा रामुपर शहर विधानसभा सीट से विधायक हैं. जौहर यूनविर्सिटी के भूमि विवाद और अन्य मामलों को लेकर आजम खान पिछले लगभग सालभर से जेल में बंद हैं. तजीन फातिमा भी करीब नौ महीने जेल में रह चुकी हैं. उनके बेटे अब्दुल्ला आजम भी जेल में बंद हैं.

 

फरवरी में अखिलेश यादव ने रामपुर जाकर तजीन फातिमा से मुलाकात की थी, जब वह जेल से छूटकर आईं थीं. और कहा था कि जौहर यूनविर्सिटी को बचाने की लड़ाई लड़ेंगे. इसी क्रम में पार्टी ने रामपुर से साईकिल यात्रा का आयोजन रखा है.


इसे भी पढ़ें : आजम के ‘जौहर’ से ‘2022 में साईकिल’ का दम भरने 12 मार्च को रामपुर आ रहे अखिलेश यादव


 

शनिवार को साईकिल यात्रा रामपुर से रवाना होगी, जो बरेली, शाहजहांपुर, लखमीपुर, सीतापुर होते हुए लखनऊ तक जाएगी. रामुपर से लेकर लखनऊ तक यात्रा को भव्य बनाने के लिए पार्टी जिला, तहसीलवार तैयारियों में जुटी है. एक समाचार एजेंसी से बातचीत में तजीन फातिमा ने कहा कि एक यूनिवर्सिटी को बर्बाद करने की जो कोशिशें हो रही हैं. वो दुखद हैं. ये रैली आजम खान के परिवार, सपा के उन कार्यकर्ताओं के लिए भी है, जिन्हें प्रताड़ित किया गया है.

Akhilesh Yadav Ramupar Azam Khan Jauhar University

उन्होंने जोर देकर कहा कि ये बेहद अफसोसनाक बात है कि अपने ही देश में अपने ही लोगों द्वारा एक शिक्षण संस्थान को बर्बाद किया जा रहा है. हर वक्त बुल्डोजर तैयार खड़ा रहता कि कब गेट ढहा दिया जाए, दीवार गिरा दें या लाइब्रेरी को बर्बाद कर दें. हम न्यायपालिका के आभारी हैं कि प्रशासन के हर संभव प्रयास के बाद भी यूनविर्सिटी को टूटने से बचाये रखा. (Akhilesh Yadav Ramupar Azam Khan Jauhar University)


इसे भी पढ़ें : केजरीवाल के रामराज्य में ‘कट्टर देशभक्त’ बने ‘कपिल मिश्रा’ आम आदमी पार्टी का सबसे शानदार मॉडल


 

डॉ. फातिमा ने कहा कि, जहां तक विश्वविद्यालय की जमीन की बात है तो ये जमीन हमें सरकार ने नहीं दी है. बल्कि हमने सरकार से इजाजत लेकर विश्वविद्यालय के लिए जमीन खरीदी थी. मगर हर छोटी-छोटी चीज पर आठ-आठ मुकदमे दर्ज कर दिए गए. जबिक आजम खान द्वारा संचालित स्कूल में गरीब बच्चे 20 रुपये महीने पर सीबीएसई बोर्ड की शिक्षा हासिल कर रहे हैं.

देश में ऐसा कौन सा सीबीएसई स्कूल है, जहां 20 रुपये मासिक फीस पर पढ़ाई हो रही हो. मैं तो यही समझती हूं कि एक व्यक्ति, परिवार से तो किसी की दुश्मनी हो सकती है, लेकिन एक शिक्ष्ज्ञण संस्थान से क्या दुश्मनी होगी, जो जौहर यूनिवर्सिटी के साथ बरती जा रही है. (Akhilesh Yadav Ramupar Azam Khan Jauhar University)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here