टूलकिट : दिशा के बाद शांतनु को अदालत से राहत, 9 मार्च तक गिरफ्तार नहीं कर सकेगी दिल्ली पुलिस

0
320
Toolkit Delhi Police Shantanu
शांतनु, फोटो-साभार ट्वीटर

द लीडर : टूलकिट मामले में दिशा रवि (Disha Ravi) की जमानत के बाद शांतनु मुलुक (Shantnu) को फौरीतौर पर गिरफ्तारी से राहत मिल गई है. गुरुवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने शांतनु को 9 मार्च तक प्रोटेक्शन दी है. यानी इस बीच दिल्ली पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकेगी. 9 मार्च को ही शांतनु की जमानत याचिका पर सुनवाई होनी है. (Toolkit Delhi Police Shantanu)

किसान आंदोलन के समर्थन में टूलकिट को लेकर क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि, निकिता जैकब और शांतनु के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई थी. इसमें दिशा को 13 फरवरी को बैंगलुरु से गिरफ्तार किया गया था. वह 10 दिन तक दिल्ली पुलिस की हिरासत में रहीं.


इसे भी पढ़ें : चीफ जस्टिस बोबड़े ने ‘योर ऑनर’ कहने पर कानून के छात्र को चेताया, जानते हैं क्यों नहीं बोलना चाहिए योर ऑनर


 

23 फरवरी को पटियाला हाउस कोर्ट ने दिशा को जमानत दी थी. इस मामले में दूसरे आरोपी शांतनु के वकील ने कोर्ट में कहा कि, अभी दिल्ली पुलिस का जवाब नहीं मिला है. इसके लिए 7 दिन की और मोहलत चाहिए. इस बीच पुलिस जब भी चाहे शांतनु से पूछताछ कर सकती है, वो हाजिर होंगे.

टूलकिट मामले में पुलिस का आरोप है कि खालिस्तानी संगठनों की मदद से दिशा, निकिता और शांतनु ने देश को बदनाम करने की साजिश रची थी. दावा किया था कि ये टूलकिट भी इन्हीं लोगों ने बनाई थी. हालांकि दिशा रवि को जमानत देते समय कोर्ट ने कई महत्वपूर्ण टिप्पणियां की थीं.


इसे भी पढ़ें : टूलकिट मामले में गिरफ्तार दिशा रवि को 9 दिन बाद मिली जमानत


 

कहा था कि, ‘मेरे ख्याल से नागरिक एक लोकतांत्रिक देश में सरकार पर नजर रखते हैं. सिर्फ इसलिए कि वो राज्य की नीतियों से असहमत हैं. उन्हें जेल में नहीं रखा जा सकता.राजद्रोह का आरोप इसलिए नहीं लगाया जा सकता कि सरकार को उससे चोट पहुंची है.’

बता दें कि इस मामले में तीसरी आरोपी निकिता जैकब ने अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख किया था, जहां से उन्हें राहत मिल गई थी. निकिता पेशे से अधिवक्ता हैं. तीनों आरोपियों के लिए कोर्ट से अब तक की बड़ी राहत मानी जा रही है.

विदेशियों के ट्वीट के बाद विवाद

किसान आंदोलन के समर्थन में अमेरिकी पॉप सिंगर रिहाना, मशहूर क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग और अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस ने ट्वीट के जरिये किसान आंदोलन को अपना समर्थन जताया था. इसमें ग्रेटा के ट्वीट में टूलकिट का दावा किया गया. और इसी को लेकर दिल्ली पुलिस ने 3 फरवरी को अज्ञात के विरुद्ध एफआइआर दर्ज की थी.

बाद में जांच के बाद दिशा, निकितिा और शांतनु को आरोपी बनाया गया. दिशा की गिरफ्तारी की देश-दुनिया भर में कड़ी आलोचना हुई थी. तब सरकार के मंत्रियों और अधिकारियों ने इसको लेकर सफाई पेश की थी. यह कहते हुए कि कानून के मुताबिक कार्रवाई की जा रही है. (Toolkit Delhi Police Shantanu)


इसे भी पढ़ें : अगर पुलिस अधिकारी अदालत के आदेश का अनुपालन नहीं करा पाते तो वे अपने पद पर बने रहने के लायक नहीं : मद्रास हाईकोर्ट


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here