लंदन से राहुल गांधी का मोदी सरकार पर अटैक : कहा- बीजेपी देश में केरोसिन छिड़कने का काम कर रही, एक चिंगारी से भड़क सकती है आग

0
140

द लीडर। देश की मोदी सरकार पर विपक्ष लगातार हमलावर है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी इन दिनों ब्रिटेन में हैं. शुक्रवार 20 मई को उन्होंने लंदन की कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में “आइडियाज फॉर इंडिया” सम्मेलन में हिस्सा लिया.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस दौरान कहा कि, भारत में लोकतंत्र वैश्विक सार्वजनिक भलाई है. हम अकेले ऐसे लोग हैं जिसने अद्वितीय पैमाने पर लोकतंत्र का प्रबंधन किया है.


यह भी पढ़ें: आज़म ख़ान बोले-ज़मीर नहीं बेचा, मुल्क न क़ौम का सौदा किया

 

राहुल गांधी ने ट्विटर पर इस कार्यक्रम की तस्वीरें भी शेयर की हैं. इनमें राहुल विपक्षी नेताओं, राजद के तेजस्वी यादव, मनोज झा, टीएमसी के महुआ मोइत्रा और सीपीआई (एम) के सीताराम येचुरी के साथ खड़े हैं. राहुल ने ट्वीट कर बताया कि, लंदन में #IdeasForIndia सम्मेलन में व्यापक विषयों पर समृद्ध आदान-प्रदान हुआ.

राहुल का केंद्र सरकार पर हमला

राहुल ने इस दौरान केंद्र सरकार द्वारा सीबीआई जैसी संस्थाओं के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए भारत की तुलना पाकिस्तान से की है. राहुल ने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके लिए भारत सोने की चिड़िया है और कर्मों के आधार पर उसका हिस्सा बांटना चाहते हैं जिसमें दलितों के लिए कोई जगह नहीं है.

इसके अलावा राहुल गांधी ने कांग्रेस की हार की वजह ध्रुवीकरण और सत्ता का मीडिया पर नियंत्रण को बताया. उन्होंने कहा कि आरएसएस ने लोगों के बीच अपनी जगह बनाई है कांग्रेस और विपक्षी दलों को भी ऐसा ही करना चाहिए और उन 60-70% लोगों को एकजुट करना चाहिए जो उनके लिए वोट नहीं करते हैं.

भारत के लद्दाख और डोकलाम से की यूक्रेन की तुलना

राहुल गांधी ने इस दौरान, यूक्रेन की तुलना भारत के लद्दाख और डोकलाम से करते हुए कहा कि, दोनों जगह चीन की सेना भारत की सीमा के अंदर बैठी है. चीन अगर वहां निर्माण कर रहा है तो किसी तैयारी के लिए कर रहा है लेकिन सरकार इस पर बात नहीं करती. मुझे चिंता है क्योंकि मैं यूक्रेन जैसी स्थिति देख रहा हूं. राहुल ने दावा किया कि एक निजी बातचीत में विदेश मंत्री जयशंकर ने भी उनके नजरिए को महत्वपूर्ण बताया.

इससे पहले आर्थिक नीतियों पर बोलते हुए राहुल ने कहा, 1991 के विचारों से आज काम नहीं चलेगा. मैंने 2012 में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से पूछा तो उन्होंने भी कहा कि हम नई दुनिया में आ गए हैं जहां हमारे पुराने तरीके काम नहीं आ रहे.


यह भी पढ़ें:  सुप्रीम कोर्ट ने ज्ञानवापी मामला वाराणसी जिला अदालत को किया ट्रांसफर

 

पीएम मोदी ने भी उन्हीं आर्थिक नीतियों का विस्तार किया जबकि वह मृत दृष्टिकोण है. राहुल गांधी ने कहा कि हमारे देश में संवाद की कमी है. प्रधानमंत्री सुनते नहीं है. कुछ अफसरों ने बताया कि विदेश विभाग में बदलाव आ चुका है किसी की नहीं सुनी जाती.

बीजेपी कांग्रेस की आवाज दबा रही है- राहुल

वहीं, इस दौरान राहुल गांधी ने बीजेपी पर भी कड़ा वार किया. उन्होंने कहा कि, कांग्रेस पहले जैसा भारत हासिल करना चाहती है जिसके लिए वो लड़ रही है. वहीं, बीजेपी उनकी आवाज दबा रही है.

उन्होंने कहा कि, देश उन संस्थानों पर हमले होते देख रहा है जिन्होंने देश का निर्माण किया है. बता दें, राहुल गांधी के साथ इस सम्मेलन में शामिल होने सीताराम येचुरी, सलमान खुर्शीद, तेजस्वी याद समेत अन्य कई विपक्ष के नेता शामिल हुए.

बीजेपी पर केरोसिन छिड़कने का आरोप

राहुल ने कहा, बीजेपी की सरकार और आरएसएस देश को एक भूगोल की तरह देखते हैं लेकिन हमारे लिए, हमारी पार्टी के लिए भारत लोगों से बनता है. हालांकि, राहुल ने इस बात से भी नहीं नकारा कि पार्टी इस वक्त अंदुरूनी कलह, बगावत, चुनाव में हार से जूझ रही है.

राहुल ने इस बात पर जोर दिया कि, भारत में इस वक्त अच्छे हालात नहीं है. उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि, बीजेपी देश में केरोसिन छिड़कने का काम कर रही है. एक चिंगारी से आग भड़क सकती है. इस गर्मी को शांत करना कांग्रेस की जिम्मेदारी है.


यह भी पढ़ें:  यूपी में अगले 5 दिनों में बढ़ेगी गर्मी, जानें- कहां पहुंचा मानसून और कब होगी बारिश