ओवैसी ने गरमाई यूपी की सियासत, अखिलेश यादव बोले-आजम हमारे नेता, दूसरों से ज्यादा हमें उनकी चिंता

0
803
Owaisi Azam Akhilesh Yadav

द लीडर : ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्​दीन ओवैसी ने जेल में बंद सांसद आजम खान से जेल में मुलाकात का ऐलान करके उत्तर प्रदेश (UP) की राजनीति में गर्माहट पैदा कर दी है. इससे पहले कि दोनों मुस्लिम नेताओं के बीच मुलाकात हो. समाजवादी पार्टी संभावित नुकसान की भरपाई में लग गई है. सपा मुखिया एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव शुक्रवार को रामपुर पहुंच गए. पहले आजम खां की पत्नी डॉ. तजीन फातिमा से घर पहुंचकर मुलाकात की. उसके बाद जौहर यूनिवर्सिटी भी गए. (Owaisi Azam Akhilesh Yadav)

ये जुगत आगामी विधानसभा चुनाव के मद्​देनजर मुस्लिम वोटरों को साधने की है. इसके केंद्र में हैं रामपुर से सांसद आजम खान, जो पिछले करीब दस महीने से जेल में बंद हैं. उन्हीं, आजम खान को लेकर अचानक से सियासी जमातों की दिलचस्पी बढ़ गई है. कांग्रेस (Congress) से लेकर AIMIM हो या फिर समाजवादी पार्टी. सब आजम नाम जपने लगे हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव बरेली दौरे पर हैं. पार्टी के एक प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने वे गुरुवार को यहां पहुंचे थे. पत्रकारों ने अखिलेश यादव से आजम खान को लेकर सीधा सवाल पूछा-आपकी पार्टी में आजम खान का अगला विकल्प कौन होगा? अखिलेश यादव ने जवाब दिया-पार्टी, आजम खान और उनके परिवार के साथ खड़ी है.

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख और सांसद असदुद्​दीन ओवैसी, आजम खान से जेल में मिलना चाहते हैं? अखिलेश इस सवाल को टाल गए. बोले-पार्टी ने लगातार संघर्ष किया. रामपुर जाना पड़ा हो या फिर विधान परिषद की कार्यवाही स्थगित करानी पड़ी हो.


उवैसी के बंगाल में चुनाव लड़ने के एलान पर यूपी से मौलाना तौकीर का बड़ा एलान


 

आजम खान के साथ हम लोकसभा स्पीकर से भी मिले. उन्हें बताया कि यूपी सरकार फंसाने के लिए झूठे मुकदमे लिखवा रही है. दरअसल, ओवैसी यूपी की राजनीति में जगह तलाश रहे हैं. पिछले दिनों वे आजमगढ़ पहुंचे थे.

हाल ही में कांग्रेस नेता और मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी रामपुर स्थित आजम खान के घर गए थे. उन्होंने आजम खान की बीवी डॉ. तंजीन फातिमा से मुलाकात की. साथ भोपाल से विधायक आरिफ मसूद भी थे. इससे जुड़े सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि जब से बरेली में हमारा सम्मेलन हुआ है ,पता नहीं दूसरे दलों को क्या हो गया है.

पत्रकारों पर सवाल उछालते हुए बोले-आप खुद जानते होंगे क्या आजम खान को फंसाने में कांग्रेस के नेता शामिल नहीं थे? क्या कांग्रेस नेताओं ने एफआइआर दर्ज कराने के लिए पत्र नहीं लिखे. क्या रामपुर में भाजपा और कांग्रेस एक नहीं है?

आजम खान पर करीब 84 मुकदमे दर्ज हैं. जिसमें से कई मुकदमों में उन्हें जमानत भी मिल चुकी है. आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम खान अभी भी जेल में हैं. जबकि उनकी बीवी डॉ. तंजीन फातिमा करीब 9 महीने की जेल काटकर बीते दिसंबर माह में ही रिहा हुई हैं. राज्य सरकार ने मौलाना जौहर अली यूनिवर्सिटी की करीब 70 हेक्टेयर जमीन भी अपने नाम कर ली है.

सबसे मुखर सियासतदानों में से एक आजम खान और उनका परिवार अकेले ही यह लड़ाई लड़ता रहा. आमतौर पर ये चर्चा भी उठी कि समाजवादी पार्टी ने अपने सबसे कद्दावर नेता को इस लड़ाई में अकेला छोड़ दिया.

पत्रकारों ने इसी रूप में सारे सवाल अखिलेश यादव के सामने रखे. यूनिवर्सिटी से जुड़े एक सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खान ने पीढ़ियों का भविष्य संवारने के लिए यूनिवर्सिटी बनवाई है.

सरकार, भूमि का नक्शा पास न होने का हवाला देकर मकानों पर बुल्डोजर चलवा रही है. एक बार फिर पत्रकारों की तरफ सवाल उछालते हुए कहा-मुख्यमंत्री के आवास का नक्शा पास है या नहीं? आप चेक करवा सकते हैं. सुना है कि गोरखुपर में मुख्यमंत्री एक तालाब पाटकर मेडिकल कॉलेज बनवा रहे हैं.

अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस पर निशाना साधते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि हम भाजपा को रोकना चाहते हैं. जबकि कांग्रेस बीजेपी से नहीं लड़ना चाहती है. आजम खान हमारे हैं. हमें, दूसरों से ज्यादा उनकी चिंता है. अगर दूसरों को चिंता थी तो ये बताओ कि उन्हें फंसाया किसने. उन्हें मतलब बीजेपी को हटाओगे या नहीं. असल में ये तमात ताकतें बीजेपी से लड़ना ही नहीं चाहतीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here