किसान आंदोलन पर फिल्मी और क्रिकेट सितारों के ट्वीट की जांच कराएगी महाराष्ट्र सरकार

0
361
Maharashtra Government Investigate Tweets
महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख. फोटो, साभार ट्वीटर

द लीडर : किसान आंदोलन के समर्थन में अमेरिकी पॉप सिंगर रिहाना के एक ट्वीट के बाद जिस तरह से भारतीय अभिनेता, क्रिकेटरों ने ट्वीटर पर सरकार का बचाव करते हुए एकजुटता का प्रदर्शन किया था. महाराष्ट्र सरकार ने अपने खुफिया विभाग को उसकी जांच के आदेश दे दिए हैं. इसमें सचिन तेंदुलकर, लता मंगेश्कर, अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी आदि के ट्वीट की जांच हो सकती है.

कांग्रेस नेता सचिन सावंत ने समाचार एजेंसी एएनआइ से बातचीत में कहा कि, ‘रिहाना के ट्वीट पर विदेश मंत्रालय की प्रतिक्रिया के बाद ट्वीट्स की एक सीरीज चली थी. अगर कोई शख्स अपनी मर्जी से ऐसा करता है, तब तो ठीक है. लेकिन इसमें शक की गुंजाइश है कि इसके पीछे भाजपा हो सकती है. मैंने गृहमंत्री अनिल देशमुख से बात की है. उनहोंने इंटेलिजेंस विभाग को जांच के आदेश दिए हैं.’


किसान आंदोलन: रेहन्ना, ग्रेटा और मीना हैरिस के बाद देसी सेलेब्रिटी मैदान में कूदे, तेंदुलकर ने की अपील, विदेश मंत्रालय ने दी सफाई


 

सचिन सावंत ने कहा कि, ‘कुछ ट्वीट की भाषा, पैटर्न बिल्कुल एक जैसा था. एक अभिनेता ने तो भाजपा नेता को टैग भी किया है. इसलिए शक बढ़ जाता है.’

दरअसल, पिछले दिनों पॉप सिंगर रिहाना ने किसानों आंदोलन से जुड़ी सीएनएनएन की एक खबर शेयर करते हुए कहा था कि हम इस पर बात क्यों नहीं करते. इसके बाद स्वीडन की मशहूर पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटाथुनबर्ग भी किसानों के समर्थन में उतर आईं.

इसे भी देखें : किसान आंदोलन पर संसद में क्यो बोले पीएम मोदी

उन्होंने पहले जो ट्वीट किया था, वो टूलकिट का हिस्सा माना जा रहा है, जिसे ग्रेटा डिलीट कर चुकी हैं. और दोबारा से समर्थन में ट्वीट किए. किसानों के समर्थन देने वालों में अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस समेत अन्य बड़ी हस्तियों के नाम शामिल हैं.


जलवायु परिवर्तन मुद्दे पर ‘हाउ डेयर यू’ कहने वाली किशोरी ग्रेटा थुनबर्ग ने कहा, ‘हम भारत के किसानों के साथ’


 

इन ट्वीट्स को लेकर दिल्ली पुलिस ने एक केस दर्ज कर रखा है. पहले इसमें ग्रेटाथुनबर्ग को आरोपी बताया गया था. बाद में दिल्ली पुलिस ने साफ किया कि एफआइआर में किसी का नाम नहीं है. पुलिस ने इन ट्वीट्स को टूलकिट मानते हुए जांच करेगी.

वहीं, सचिन तेंदुलकर और लता मंगेश्वर के ट्वीट को लेकर शरद पवार और शिवसेना के नेता लगातार अपनी चिंता व्यक्त करते रहे हैं. इस आरोप के साथ कि सरकार को इन हस्तियों से ट्वीट नहीं करवाने चाहिए थे. महाराष्ट्र सरकार की ओर से जांच के आदेश को इसी दिशा में देखा जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here