झुमका गिरा था बरेली के बाज़ार में और अब 4 हज़ार करोड़ से बरसेंगी नई नौकरियां

0
49

The Leader. झुमका गिरने से मशहूर हुए बरेली के बाज़ार में अब 4 हज़ार करोड़ के इनवेस्ट से नई रौनक़ दिखाई देगी. लोकल और बाहर के इनवेस्टर ने अब तक इतनी बड़ी रक़म का इनवेस्ट करने के लिए हामी भर दी है. इसमें और इज़ाफ़ा हो सकता है, उसके लिए डीएम शिवकांत द्विवेदी संजीदगी से लगे हुए हैं. लखनऊ में ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट से पहले वो बरेली में लोकल इनवेस्टर समिट करने जा रहे हैं.


दर्शकों के बीच लोकप्रिय शो “तारक मेहता का उल्टा चश्मा” पर मंडरा रहा खतरा, 14 साल बाद डायरेक्टर ने छोड़ा शो


डीएम और एसएसपी अखिलेश कुमार चौरसिया ने सोमवार को कलेक्ट्रेट में प्रेस कांफ्रेंस करके मीडिया भारी भरकम रक़म से लगने वाले उद्योगों के बारे में जानकारी दी. बताया कि फूड प्रोसेसिंग, डेरी उद्योग, टूरिज्म समेत कई उद्योगों में क़रीब 4 हज़ार करोड़ का निवेश होने की उम्मीद है.जिसमें बरेली और बाहर के भी इन्वेस्टर भी शामिल हैं. सभी को आश्वस्त किया गया है कि विभागीय स्तर पर जितनी भी औपचारिकताएं हैं, उन्हें सरलता के साथ पूरा करा दिया जाएगा. किसी तरह की कोई दिक़्क़त नहीं आएगी. एसएसपी अखिलेश कुमार चौरसिया ने कहा कि क़ानून व्यवस्था के मोर्चे पर पुलिस पूरी तरह से सजग है. उद्यमियों की सुविधा को सामने रखते हुए पुलिस लाइंस में इनवेस्टर सेल का भी गठन किया जा रहा है. प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बरेली के उद्यमी भी मौजूद रहेय


रामपुर के भाजपा सांसद लोधी को धमकी पर धमकी, फिर भी ज़्यादा सुरक्षा लेने से इन्कार


बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में 10 लाख करोड़ के निवेश का लक्ष्य रखा है. उसके लिए मंत्रियों को विदेश भी भेजा था, ताकि इनवेस्टर को सूबे में आमंत्रित किया जा सके. मुख्यमंत्री ख़ुद पिछले दिनों देश की औद्योगिक राजधानी कहने वाली मुम्बई का दौरा करके लौटे हैं. वो लखनऊ में 10 से 12 फरवरी के बीच ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट भी कर रहे हैं. उसे सामने रखते हुए ही डीएम ने बरेली में 18 जनवरी को स्थानीय इन्वेस्टर समिट रखी है. यह समिट IMA हाल में होगी. कोशिश यही है कि बाहर से भी ज़्यादा इनवेस्टर को बरेली में इनवेस्ट के लिए बुलाया जा सके. उसके लिए प्रशासन और पुलिस माहौल बनाने में लगी है. चूंकि बरेली स्मार्ट सिटी योजना में भी संवर रहा है और यहां एयरपोर्ट भी शुरू हो चुका है, ऐसे में नये उद्योग लगने और रोज़गार के अवसर बढ़ने की संभावना बहुत ज़्यादा प्रबल है.


यह भी पढ़ें-

पठान फ़िल्म का विरोध और सुनील शेट्टी का यूपी के सीएम योगी से अनुरोध, दोनों का ज़बर्दस्त चर्चा