हुजूम देख के रस्ता नहीं बदलते हम – हबीब जालिब की चुनिंदा पांच गजलें

0
828

(1)

न डगमगाए कभी हम वफ़ा के रस्ते में
चराग़ हमने जलाए हवा के रस्ते में
किसे लगाए गले और कहाँ कहाँ ठहरे
हज़ार ग़ुँचा-ओ-गुल हैं सबा के रस्ते में
ख़ुदा का नाम कोई ले तो चौंक उठते हैं
मिले हैं हमको वो रहबर ख़ुदा के रस्ते में
कहीं सलासिल-ए-तस्बीह और कहीं ज़ुन्नार
बिछे हैं दाम बहुत मुद्दआ के रस्ते में
अभी वो मँज़िल-ए-फ़िक्र-ओ-नज़र नहीं आई
है आदमी अभी जुर्म ओ सज़ा के रस्ते में
हैं आज भी वही दार-ओ-रसन वही ज़िन्दाँ
हर इक निगाह-ए-रुमूज़-आश्ना के रस्ते में
ये नफ़रतों की फ़सीलें जहालतों के हिसार
न रह सकेंगे हमारी सदा के रस्ते में
मिटा सके न कोई सैल-ए-इँक़लाब जिन्हें
वो नक़्श छोड़े हैं हम ने वफ़ा के रस्ते में
ज़माना एक सा ‘जालिब’ सदा नहीं रहता
चलेंगे हम भी कभी सर उठा के रस्ते में

यह भी पढ़ें: इसी खंडहर में कहीं कुछ दिए हैं टूटे हुए, इन्हीं से काम चलाओ बड़ी उदास है रात…

(2)

झूटी ख़बरें घड़ने वाले झूटे शे’र सुनाने वाले
लोगो सब्र कि अपने किए की जल्द सज़ा हैं पाने वाले
दर्द आँखों से बहता है और चेहरा सब कुछ कहता है
ये मत लिक्खो वो मत लिक्खो आए बड़े समझाने वाले
ख़ुद काटेंगे अपनी मुश्किल ख़ुद पाएँगे अपनी मंज़िल
राहज़नों से भी बद-तर हैं राह-नुमा कहलाने वाले
उनसे प्यार किया है हमने उनकी राह में हम बैठे हैं
ना-मुम्किन है जिन का मिलना और नहीं जो आने वाले
उनपर भी हँसती थी दुनिया आवाज़ें कसती थी दुनिया
‘जालिब’ अपनी ही सूरत थे इश्क़ में जाँ से जाने वाले

(3)

कराहते हुए इनसान की सदा हम हैं
मैं सोचता हूँ मिरी जान और क्या हम हैं
जो आज तक नहीं पहुँची ख़ुदा के कानों तक
सर-ए-दयार-ए-सितम आह-ए-ना-रसा हम हैं
तबाहियों को मुक़द्दर समझ के हैं ख़ामोश
हमारा ग़म न करो दर्द-ए-ला-दवा हम हैं
कहाँ निगह से गुज़रते हैं दुख भरे दिहात
हसीन शहरों के ही ग़म में मुब्तला हम हैं

यह भी पढ़ें: निसार मैं तेरी गलियों पे ए वतन, कि जहां चली है रस्म कि कोई न सर उठा के चले…

(4)

हुजूम देख के रस्ता नहीं बदलते हम
किसी के डर से तक़ाज़ा नहीं बदलते हम
हज़ार ज़ेर-ए-क़दम रास्ता हो ख़ारों का
जो चल पड़ें तो इरादा नहीं बदलते हम
इसीलिए तो नहीं मो’तबर ज़माने में
कि रँग-ए-सूरत-ए-दुनिया नहीं बदलते हम
हवा को देख के ‘जालिब’ मिसाल-ए-हम-अस्राँ
बजा ये ज़ोम हमारा नहीं बदलते हम

(5)

चूर था ज़ख़्मों से दिल ज़ख़्मी जिगर भी हो गया
उस को रोते थे कि सूना ये नगर भी हो गया
लोग उसी सूरत परेशाँ हैं जिधर भी देखिए
और वो कहते हैं कोह-ए-ग़म तो सर भी हो गया
बाम-ओ-दर पर है मुसल्लत आज भी शाम-ए-अलम
यूँ तो इन गलियों से ख़ुर्शीद-ए-सहर भी हो गया
उस सितमगर की हक़ीक़त हम पे ज़ाहिर हो गई
ख़त्म ख़ुश-फ़हमी की मँज़िल का सफ़र भी हो गया

 

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here