हसीन जहां से अलग होने की बड़ी क़ीमत चुकाएंगे तेज़ गेंदबाज़ मुहम्मद शमी

0
26

The Leader. अपनी तेज़ रफ़्तार गेंदों से बल्लेबाज़ों के छक्के छुड़ाने वाले मुहम्मद शमी को हसीन जहां से अलग होने की बड़ी क़ीमत अदा करनी होगी. वह भी हर महीने. उन्हें 1 एक लाख 30 हज़ाीर रुपये बतौर ग़ुजारा भत्ता अपनी बीवी को अदा करने होंगे. कोलकाता की लोअर कोर्ट से फ़ैसला आ गया है. शमी और हसीन जहां में तलाक़ का केस चल रहा है और वो पांच साल से अलग रह रहे हैं. दोनों की एक बेटी भी है, जो मां के पास है.


सिराज के बाद अब मुहम्मद शमी की घातक गेंदबाज़ी से न्यूज़ीलैंड की करारी हार

 


पश्चिम बंगाल में सिउरी के बीरभूम की रहने वाली हसीन जहां की मुहम्मद शमी से शादी और फिर तलाक़ का मामला बेहद चर्चित रहा था. इसकी गूंज बरेली तक सुनाई दी थी.  हसीन जहां ने तलाक़ पीड़िताओं की लड़ाई लड़ने वाले बरेली के संगठन से भी संपर्क साधा था. हसीन जहां ने 2014 में शमी से शादी के बाद उन पर 2018 में घरेलू हिंसा का केस दर्ज करा दिया था. इस तरह वो रिश्ता टूट गया, जो शमी के आइपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा बनने से कोलकाता में जुड़ा था. तब हसीन जहां टीम के लिए चीयरलीडिंग किया करती थीं.


ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक पर नियम तोड़ने के लिए लगा 10 हज़ार का जुर्माना


दोनों तरफ से बहुत सारे इल्ज़ाम सामने आए थे. हसीन जहां का कहना था कि शमी के लड़कियों से साथ अवैध संबंध हैं. मैच फिक्सिंग में भी वो शामिल रहे हैं. उनका दहेज़ के लिए उत्पीड़न किया गया है. शमी ने ट्वीट करके इन इल्ज़ाम को ग़लत ठहराया था. साथ ही यह जानकारी भी दी थी कि उन्हें बहुत बाद में पता चला कि हसीन जहां की यह दूसरी शादी है. उनके पहले पति का नाम सैफुद्दीन है. वो पश्चिम बंगाल के बीरभूम में स्टेशनरी की दुकान चलाते हैं. तब मीडिया हसीन जहां के पूर्व पति के पास पहुंचा तो उन्होंने कहा, हमारी शादी 2002 में हुई थी. इस शादी से उन्हें दो बेटियां हुईं. साल 2010 में तलाक हो गया. तब बीसीसीआइ ने शमी का कांट्रैक्ट भी रद कर दिया था, जो जांच में उनके दोषी नहीं पाए जाने पर दोबारा से किया गया.


29 जनवरी को तय होगा सुन्नी बरेलवी मुसलमान ख़्वाजा के क़ुल में कौन सा पढ़ेंगे सलाम


ख़ैर अब आकर कोलकाता की लोअर कोर्ट ने आदेश सुनाया है कि भारतीय टीम के तेज़ गेंदबाज़ मुहम्मद शमी बीवी को ग़ुज़ारा भत्ता देंगे. 50 हसीन जहां और 80 हज़ार रुपये बेटी के ख़र्च के लिए. हालांकि हसीन जहां की तरफ से उनकी वकील मृगांका मिस्त्री ने अदालत में कहा था कि 2020-21 में शमी की सालाना आय 7 करोड़ रुपये थी. इस आधार पर 10 लाख रुपये गुज़ारा भत्ता दिया जाना चाहिए. इस पर शमी के वकील सेलिम रहमान का कहना था कि हसीन जहां पेशेवर फैशन मॉडल हैं. वो खुद कमा रही हैं. इसलिए इतना गुज़ारा भत्ता ठीक नहीं है. शमी इस वक़्त भारतीय टीम का हिस्सा हैं. न्यूज़ीलैंड के साथ दूसरे वनडे में उन्हें शानदार गेंदबाज़ी के लिए मैन ऑफ दि मैच भी चुना गया था.


यह भी पढ़ें-

बहरीन के मुशायरे से वापसी पर प्रोफेसर वसीम बरेलवी हापुड़ में हादसे का शिकार