दिल्ली हिंसा पर कांग्रेस की गृहमंत्री को बर्खास्त करने की मांग और सुब्रमण्यम स्वामी के सवाल

0
517
Congress Home Minister Delhi Violence
द‍िल्‍ली में क‍िसान यात्रा के दौरान भड़की ह‍िंंसा, फोटो द लीडर

नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा को लेकर कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने गृहमंत्री को बर्खास्त करने की मांग उठाई है. उन्होंने कहा कि ‘उपद्रवियों की अगुवाई कर रहे अवांछित तत्वों पर कार्रवाई न करके किसान मोर्चा के नेताओं पर मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं. इसने सरकार और उपद्रवियों की मिलीभगत व साजिश को बेनकाब किया है.’

कांग्रेस ने एक प्रेसनोट जारी कर कहा कि ‘कल जो हुआ वो पूरी तरह से योजनाबद्ध तरीके से किया गया काम है. ये किसानों की योजना नहीं है, बल्कि आंदोलन को बदनाम करने की साजिश है. जिसे, सीधे मोदी सरकार का समर्थन और संरक्षण हासिल है.’

वहीं, भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी सिलसिलेवार ट्वीटर कर कई सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा, एक अफवाह है. शायद झूठी हो या दुश्मनी की फर्जी आइडी से चलाई गई हो. वो ये कि पीएमओ के करीबी भाजपा के एक नेता ने लाल किले पर हुए ड्रामे में भड़काऊ व्यक्ति के तौर पर काम किया है. चेक करके जानकारी दें. उनहोंने लाल किले पर झंडा फहराने के आरोपी दीप सिद्धू से जुड़े ट्वीट को भी रि-ट्वीट किया है.


आंदोलन को बदनाम करने की साजिश कामयाब, किसान नेता बोले-सरकार बताए दीप सिद्धू लाल किला कैसे पहुंचे


इस घटनाक्रम के बाद किसान आंदोलन से दो संगठनों ने खुद को अलग कर लिया है. एक हैं किसान नेता वीएम सिंह और दूसरे भारतीय किसान यूनियन के नेता भाानू प्रताप सिंह. इन्होंने आंदोलन से अलग होने की घोषणा कर दी है.

किसान नेता वीएम सिंह ने एक न्यूज वेबसाइट से बातचीत में किसान नेता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप लगाए हैं. वीएम सिंह ने कहा कि राकेश टिकैत बैरिकेड तोड़कर भीड़ को लाल किले की तरफ ले गए.

किसानों के समर्थन में हरिणा के विधायक अभय चोटाला का इस्तीफा 

कांग्रेस नेता हार्दिक पेटल का ट्वीट

शांतिपूर्वक आंदोलन पर लगा दाग

पिछले 2 महीने से केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का शांतिपूर्वक आंदोलन चल रहा है. मंगलवार को किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाली, जो इस आंदोलन की बदनामी का सबब बन गई है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here