ड्रग डीलर जो दुनिया का सातवां सबसे अमीर आदमी बन गया

0
875
Pablo Emilio Escobar Gaviria

1 दिसम्बर 1949 को कोलंबिया में जन्मा पाब्लो एमिलियो एस्कोबार गैविरिया इतिहास का सबसे कामयाब और अमीर तस्कर था. कोलंबियाई ड्रग डीलर कोकीन की तस्करी से इतना ज्यादा पैसा बनता था कि साल  1989 में फ़ोर्ब्स पत्रिका ने एस्कोबार को दुनिया का सातवां सबसे अमीर घोषित किया. उस समय पाब्लो की संपत्ति 25 बिलियन अमेरिकी डॉलर हुआ करती थी. थी. वह इतना अमीर था कि साल 1986 में उसने अपने मुल्क के 10 बिलियन डॉलर के कर्ज को चुकता कर देने का प्रस्ताव सरकार के सामने रखा. ऐसा करने के पीछे उसके राजनीतिक मंसूबे थे, वह कोलंबिया की राजनीति के शीर्ष पर पहुंचने का सपना देखने लगा था. (Pablo Emilio Escobar Gaviria)

कहते हैं कि एक दफा अपनी बेटी को ठण्ड से बचने के लिए पाब्लो ने 2 मिलियन डॉलर के नोट जला डाले. उसके पास असंख्य लग्जरी गाड़ियां, घर और ऑफिस हुआ करते थे. वह सरकारी अधिकारियों, पुलिस, पत्रकारों और नेताओं को लाखों डॉलर के तोहफे और नकदी नजराने के तौर पर बांट दिया करता था. पाब्लो कहता था कोकीन व्यापार का सार है कि— ‘आप किसी को यहाँ किसी को वहाँ रिश्वत देते है’


दिल्ली दंगा : स्टूडेंट्स एक्टिविस्ट नताशा नरवाल, आसिफ इकबाल और देवंगना कलिता तिहाड़ जेल से रिहा


 

पाब्लो के एकाउंटेंट रॉबर्टो के मुताबिक पाब्लो को नोटों की गड्डियों को बांधने के लिए एक हजार डॉलर के रबर बैंड हर हफ्ते खरीदने होते थे. वह अपनी काली कमाई को बैंक में नहीं रख सकता था इसलिए इसे गोदामों और गड्ढों में रखा जाता था. इस वजह से इस नकदी का 10 फीसदी (1 मिलियन डॉलर प्रतिवर्ष) चूहे डकार जाया करते थे. 1975 में पाब्लो ने अमेरिका में कोकीन की खेप पहुँचाने के लिए अपना खुद का विमान उड़ाया. बाद में इस विमान को उसने अपने फार्म हाउस के आंगन में टांग दिया. एक समय दुनिया भर में फैले कोकीन के कारोबार में से 85 फीसदी पर पाब्लो का कब्ज़ा था.

एस्कोबार का जन्म एक सामान्य खेतिहर परिवार के छह बच्चों में से एक थे. उनके घर में बिजली, पानी की सुविधा थी. एक दफा पाब्लो और उसके भाई को स्कूल से इसलिए लौटा दिया गया कि उनके पास जूते नहीं थे. ‘यूनिवर्सिदाद डी एन्तियोकिया’ से राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएशन के दौरान उसे अपनी पढ़ाई अधूरी छोड़ देनी पड़ी क्योंकि उसके पास फीस भरने के पैसे तक नहीं थे.


लक्षद्वीप : प्रशासक प्रफुल पटेल के हवाई यात्रा खर्चे पर क्यों छिड़ा हंगामा, जिसने द्वीप पर बढ़ा दिया असंतोष


 

इसके बाद पाब्लो ने कब्र के पत्थर चुराकर तस्करों को बेचकर अपने अपराधिक सफर की शुरुआत की. इसके बाद अकूत पैसा कमाने की गरज से पाब्लो ने प्रतिबंधित सिगरेटें, नकली लॉटरी टिकट बेचने, कार चुराने के अलावा कई तरह के गैरकानूनी कामों की शुरुआत की. इस समय पाब्लो की उम्र मात्र 20 बरस थी. कोलंबिया के मेडेलिन शहर के एक एग्जिक्यूटिव के अपहरण के बाद उसने फिरौती से 100,000 डॉलर वसूले और ड्रग कारोबार की दुनिया में कदम रखा. इस समय उसने नशे के सौदागर अलवारो प्रेटो के लिए काम करना शुरू किया. जल्द ही मात्र 22 साल की उम्र में पाब्लो करोड़पति बन गया.

पाब्लो के सफर का ब्यौरा उसके भाई रॉबर्टो एस्कोबार की किताब  ‘द एकाउंटस स्टोरी’ में मिलता है. अपने उत्कर्ष के दौरान पाब्लो का मेडेलिन ड्रग कार्टेल एक दिन में कई दफा 15 टन कोकीन की तस्करी करता था, अमेरिका में इसकी कीमत आधा बिलियन डॉलर से ज्यादा थी.

पाब्लो अपनी काली कमाई से चर्च, गिरजाघरों के निर्माण के अलावा गरीबों के बीच पैसा बांटता था. मेडेलिन की गरीब जनता उसकी पहरेदारी करती थी और युवा उसके विश्वासपात्र मुखबिर हुआ करते थे. पाब्लो ने अपना वर्चस्व बनाये रखने के लिए कई तस्करों, पुलिसकर्मियों, न्यायधीशों, अधिकारियों और नेताओं की हत्याएं करवाई. सिर्फ साल 1991 में ही इस खूनी जंग में 700 से ज्यादा लोग मारे गए.


Haj 2021 : 24 घंटे के अंदर सऊदी के 4.50 लाख नागरिकों ने किए हज आवेदन


 

अपनी मृत्यु के समय पाब्लो अपनी पत्नी मारिया विक्टोरिया और बच्चों जुआन पाब्लो और मैनुएला के लिए एक ग्रीक किले का निर्माण करवा रहा था. अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के लिए पाब्लो ने कोलंबियन राष्ट्रपति पड़ के उम्मीदवार लुइस कार्लोस गैलान की हत्या करवा दी. अब वह कोलंबिया का राष्ट्रपति बनने के ख्वाब पाल रहा था. इस हत्या के बाद कोलंबिया का शासन-प्रशासन एस्कोबार के पूरी तरह खिलाफ हो गया. सरकार द्वारा सुधरने का मौका देने पर पाब्लो खुद को अपनी ही निजी जेल ‘ला कैटेड्रल’ में कैद करने को राजी हो गया.

पाब्लो ने न सिर्फ ला कैटेड्रल से अपनी अपराधिक गतिविधियां जारी रखी बल्कि वहां कई क़त्ल भी कर डाले. इसके बाद सरकार ने उसे जेल में रखना चाहा. पाब्लो ने खुद को अमेरिका प्रत्यारोपित किये जाने के भी से जेल में जाना स्वीकार नहीं किया और भाग गया. फरार रहने के दौरान ही 2 दिसंबर 1993 को मेडेलिन के एक घर में उसे गोली मार दी गयी. रेडियो ट्राएंगुलेशन तकनीक के इस्तेमाल से कोलंबियाई पुलिस ने उसकी लोकेशन पता लगाया था और घेराबंदी के दौरान पाब्लो और उसके अंगरक्षक ने पुलिस पर फायरिंग कर दी. इस दौरान एस्कोबार मारा गया. कहते हैं कोलंबिया की जनता ने अपने रॉबिनहुड की मृत्यु पर शोक मनाया.

कहानी : गाँव में कुछ बहुत बुरा होने वाला है

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here