मुस्लिमों में सबसे तेजी से गिरी जन्मदर, हिंदुओं का फर्टिलिटी रेट 2.29 फीसदी है : NFHS सर्वे

0
106

द लीडर। भारत में सभी धर्मों के लोग रहते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश में सभी धर्मों से जुड़ी महिलाएं पहले की तुलना में कम बच्चों को जन्म दे रही हैं। देश में फर्टिलिटी रेट लगातार कम हो रहा है।

फर्टिलिटी रेट से मतलब एक महिला अपने जीवन में जितने बच्चों को जन्म देती है, उसके औसत से है। 2015-16 में हुए चौथे नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे और 2019-20 में हुए चौथे NFHS सर्वे के बीच में फर्टिलिटी रेट में काफी अंतर देखा गया है। इसी सप्ताह यह डेटा सरकार ने जारी किया है।

मुस्लिमों में सबसे तेजी से गिरी फर्टिलिटी रेट

आंकड़े देखने पर यह भी पता चलता था कि, जिस समुदाय के लोग पहले ज्यादा बच्चे पैदा किया करते थे उनकी फर्टिलिटी रेट में गिरावट भी ज्यादा तेजी से आई है।

मुस्लिम समुदाय में सबसे ज्यादा 9.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। यह 2.62 से घटकर 2.36 हो गई है। हालांकि दूसरे समुदायों के तुलना में मुस्लिमों में फर्टिलिटी रेट अब भी ज्यादा है।


यह भी पढ़ें : Gyanvapi Mosque Row: ज्ञानवापी मस्जिद मामले में फैसला सुरक्षित, ओवैसी बोले – 1990 का माहौल बनाना चाहती है BJP

 

1992-93 में यह सर्वे पहली बार हुआ था। तब से अब तक टोटल फर्टिलिटी रेट में 40 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। उस वक्त फर्टिलिटी रेट 3.40 हुआ करती थी जो कि अब कम होकर 2.0 रह गई है।

यह रेट रिप्लेसमेंट लेवल से भी कम है। रिप्लेसमेंट लेवल वह औसत होता है जिसपर जनसंख्या स्थिर हो जाती है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे का डेटा बताता है कि मुस्लिमों के अलावा दूसरे बडे़ धार्मिक समुदायों में टोटल फर्टिलिटी रेट रिप्लेसमेंट लेवल से कम हो गया है।

पांच बार हो चुका है एनएचएफएस सर्वे

वहीं मुस्लिमों में फर्टिलिटी रेट कम होने के बावजूद यह रिप्लेसमेंट लेवल से ऊपर है। अब तक पांच बार एनएफएचएस का सर्वे हो चुका है। इतने सालों में मुस्लिमों का टीआरएफ 46.5 फीसदी और हिंदुओं का 41.2 फीसदी कम हो चुका है।

फर्टिलिटी डेटा यह भी दिखाता है कि, बच्चों की संख्या का सीधा संबंध मां की शिक्षा से भी है। मुस्लिमों में 15 से 49 साल की महिलाओं में 31.49 फीसदी महिलाएं अशिक्षित हैं और केवल 44 फीसदी ऐसी हैं जिन्होने स्कूली शिक्षा पूरी की है।

वहीं हिंदुओं में यह आंकड़ा 27.6 फीसदी और 53 फीसदी का है। यह भी बात ध्यान देने योग्य है कि एक ही समुदाय में कई बार अलग-अलग राज्यों में टोटल फर्टिलिटी रेट में अंतर आ जाता है।

अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो हिंदुओं का टोटल फर्टिलिटी रेट 2.29 फीसदी है। वहीं तमिलनाडु में इसी धर्म समूह का टीआरएफ 1.75 है। इसी तरह यूपी में मुस्लिमों का टीआरएफ 2.6 है तो तमिलनाडु में 1.93 है जो कि रिप्लेसमेंट रेट से कम है।


यह भी पढ़ें :  Haj Yatra 2022: लंबे समय के बाद शुरू होने जा रही हज यात्रा को लेकर मुंबई में ट्रेनिंग कैंप का उद्घाटन, जानिए क्या बोले केंद्रीय मंत्री नकवी ?