मध्यप्रदेश में आखिर क्यों हैवान बने पति, पत्नियों के कुल्हाड़ी से काट डाले हाथ

0
164
Madhya Pradesh Husband Hands Cut Off Wives
अस्पताल में भर्ती एक पीड़ित महिला.

द लीडर : महिलाओं के प्रति घरेलू हिंसा आम बात है. लेकिन मध्यप्रदेश में जिस तरह की घटनाएं सामने आई हैं. वो इंसानियत को शर्मसार करती हैं. पत्नी के साथ झगड़े में पति हैवान बन रहे हैं. और कुल्हाली से हमला करके उनके हाथ-पैर तक काट रहे हैं. मार्च में ही सिलसिलेवार तरीके से ऐसी तीन घटनाएं सामने आ चुकी हैं. जिसने समाज ही नहीं सरकार को भी झकझोर डाला है. (Madhya Pradesh Husband Hands Cut Off Wives)

पहली घटना 9 मार्च को भोपाल के निशातपुर इलाके की है. यहां, प्रीतम सिंह ने अपनी पत्नी संगीता का एक हाथ और पैर का पंजा काट दिया. इसलिए क्योंकि उनके बीच झगड़ा हुआ था और उसी में प्रीतम क्रूरता की हदें पार कर गया.

दूसरी घटना बैतूल जिले की है. 26 मार्च को राजू ने अपनी 40 साल की पत्नी कविता वंशकार पर कुल्हाड़ी से वार करके दोनों हाथ काट डाले. आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.


पाकिस्तान : औरत मार्च के खिलाफ इस्लाम की तौहीन का इल्जाम, मुकदमा दर्ज करने की याचिका


 

तीसरी घटना सागर जिले की है. बागनहोर गांव के रणवीर ने अपनी 20 साल की पत्नी आरती को जंगल में ले जाकर दोनों हाथ काट डाले. आरती हमीदिया अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रही हैं.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन घटनाओं पर गहरा दुख और नाराजगी जताते हुए कहा कि ऐसे अपराध अक्षम्य हैं. और अपराधियों को कड़ी सजा मिलेगी, इसके लिए कानून को और कठोर बनाया जाएगा. इस तरह के आम अपराधों में आइपीसी की धारा-307 के तहत कार्रवाई होती है. चूंकि अपराधी पति हैं, इसलिए उनके लिए और कड़ी धारा की जरूरत है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस संबंध में हमने अधिकारियों के साथ बैठक कर कड़ा कानून बनाने को कहा है. और राज्य के 700 थानों में महिला डेस्क खोली जाएगी. घरेलू हिंसा के मामले प्राथमिकता पर सुने जाएंगे. कई बार पुलिस घरेलू हिंसा के मामलों में उतनी गंभीरता नहीं दिखाती है, जितनी दिखानी चाहिए. लेकिन अब ऐसा नहीं है.

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ऐसी घटनाएं सामने न आएं, इसके लिए पुलिस तो अपना काम करेगी ही, लेकिन पीड़ित महिलाओं के गुजर-बसर के लिए आर्थिक सहायता की व्यवस्था भी करनी होगी. क्योंकि हाथ-पैर कटने के बाद उनकी जिंदगी कैसे चलेगी. सीएम ने पीड़ित तीनों महिलाओं को 4-4 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी है. और एक वेलफेयर स्कीम बनाने के निर्देश दिए हैं, जिसके अंतर्गत घरेलू हिंसा में पीड़ित महिलाओं की मदद की जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here