दरगाह आला हज़रत के सुब्हानी मियां ने यह क्यों कहा-मुसलमान सादगी से मनाएं ईद

0
239
Ala Hazrat Urs 2022
आला हज़रत दरगाह बरेली.

The Leader. दरगाह आला हज़रत के प्रमुख मौलाना सुब्हान रज़ा ख़ान सुब्हानी मियां का लंबे वक़्त के बाद बयान आया है. हालांकि तहरीरी बयान को जारी करने का मक़सद तो साफ़ नहीं किया है लेकिन मंशा बहुत अच्छी है. ज़ाहिर सी बात है कि उन्हें कहीं न कहीं यह ज़रूर लगा है कि क़ौम तक अपनी बात को पहुंचाना बेहद ज़रूरी है. एक बार मौजूदा हालात से परेशान हो रहे लोगों को सुब्हानी मियां का यह बयान ज़रूर पढ़ना चाहिए. जानना चाहिए कि दरगाह प्रमुख क्या और क्यों कहा है.


रमज़ान का यह मुबारक महीना और इज़रायल का निहत्थे फिलस्तीनियों पर ज़ुल्म


फ़ाज़िल-ए-बरेलवी की यूपी के बरेली में स्थित दरगाह के प्रमुख सुब्हानी मियां ने मुबारक महीने रमज़ान के विदा होने और ईद के आने से पहले मुसलमानों को कई अहम बातों की तरफ़ मुतवज्जा किया है. सुब्हानी मियां ने कहा है कि कुछ सूबों में असेंबली के चुनाव होने जा रहे हैं. यूपी में निकाय चुनाव की सरगर्मी शुरू हो चुकी है. इसलिए मफ़ादपरस्त और फ़िरक़ापरस्त लोग चुनावी फ़ायदा उठाने के लिए उकसा सकते हैं. उनके ज़रिये अफ़वाहें फैलाई जा सकती हैं. माहौल को बिगाड़ने की कोशिश की जा सकती है. उकसावे और अफ़वाहों को दरकिनार कर माहौल बिगड़ने से रोकें और दूसरों को ऐसा करने भी नहीं दें. अपने ईर्द-गिर्द माहौल पर नज़र रखें और अमन बनाए रखें.


असदुद्दीन ओवैसी से सुझाया दंगे रोकने और दंगाइयों को पकड़ने का कारआमद प्लान


सुब्हानी मियां ने कहा है कि रमज़ान का महीना चल रहा है, जो सब्र, शुक्र, ख़ैरख़्वाही, हमदर्दी, एकदूसरे की मदद और साथ देने का महीना है. ज़कात, सदक़े और ख़ैरात से अपने दीनी, मसलकी भाईयों की मदद करें. बग़ैर किसी दिखावे के अपने मज़लूम-लाचार भाईयों का ख़्याल रखते हुए सादगी और शरअई तरीक़े से ईद मनाने की तैयारी करें. सबके हक़ में दुआ भी करें. उनके इस बयान को प्रयागराज में पिछले दिनों जो कुछ हुआ और उसके बाद पूरे सूबे में हाई अलर्ट घोषित कर दिए जाने से जोड़कर भी देखा जा रहा है.