बांग्लादेश स्वर्ण जयंती की उपलब्धि में शुमार हुई यह टीवी एंकर

0
686

तश्नुवा आनन शिशिर नाम है उनका। खूबसूरत टीवी एंकर, जिनका समाचार सुनने को लोग इंतजार करते हैं। यह एंकर बांग्लादेश की आजादी के स्वर्ण जयंती वर्ष की उपलब्धि में शुमार हो गई हैं। महज सालभर में उन्हाेंने अपने लिए खास जगह बनाई। बीते वर्ष अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर तश्नुवा ने पहली बार एक निजी सैटेलाइट टीवी चैनल ‘बोईशाखी टेलीविजन’ पर समाचार बुलेटिन प्रस्तुत किया। (Transgender News Anchor Tashnuva)

कार्यक्रम सफल होने पर तश्नुवा को बधाई का सिलसिला शुरू हुआ तो वह भावुक हो गईं। चैनल ने एक बयान में कहा, “तश्नुवा आनन शिशिर के जरिए हमने न सिर्फ वंचित समुदायों के सशक्तिकरण का संदेश दिया, बल्कि देश की आजादी के 50 वर्षों के जश्न का हिस्सा बनाने की कोशिश की।”

तश्नुवा ट्रांसजेंडर हैं। इस तरह के प्लेटफॉर्म पर जिम्मेदारी मिलना उनके लिए ही नहीं, ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए भी बड़ी उपलब्धि है, क्योंकि समाज में उनको हिकारत की निगाह से देखा जाता है। तमाम बाधाओं के बावजूद तश्नुवा ने कोशिश की और वह बांग्लादेश की पहली ट्रांसजेंडर टीवी एंकर बन गईं।

समाचार एंकर के रूप में अपनी नियुक्ति के बारे में 29 वर्षीय तश्नुवा ने कहा, ” मैं बहुत खुश हूं, बता नहीं सकती कि यह मेरे और मुझ जैसे लोगों के लिए कितनी बड़ी उपलब्धि है। मेरे समुदाय के लोगों को सदियों से तंग किया गया है, इस कोशिश से उनके अंदर उम्मीद जागेगी, उनकी सोच में यह एक नया आयाम पैदा कर सकता है।”

“सबसे बड़ी समस्या यह है कि लोग संवेदनशील नहीं हैं। मैं गुजारिश करती हूं कि वे अपने आसपास की ‘तश्नुवाओं’ ख्याल करें, कुदरती बनावट के लिए उनका मजाक बनाने की जगह उनको सम्मानजनक जिंदगी जीने में मदद करें “, उन्होंने कहा। (Transgender News Anchor Tashnuva)

नौकरी शुरू करने से पहले, तश्नुवा ने एक निजी समाचार नेटवर्क में गहन प्रशिक्षण लिया, जिसके बाद उसे नौकरी की पेशकश की गई।

मॉडलिंग, एक्टिंग, सामाजिक कार्यकर्ता और फिर न्यूज एंकर बनने का सफर

तश्नुवा आनन शिशिर एक प्रसिद्ध मॉडल और सामाजिक कार्यकर्ता हैं। वह लंबे समय से अभिनय के क्षेत्र में भी हाथ आजमा रही हैं। उन्होंने 2007 में थिएटर मंडली नाटुआ के साथ अभिनय कॅरियर की शुरुआत की। दो साल से ज्यादा समय तक थिएटर मंडली बोटटोला का हिस्सा बनकर कई बेहतरीन किरदार का रोल निभा चुकी हैं।

उन्होंने दो फिल्मों के लिए साइन किया है, जिसमें एक फिल्म में महिला फुटबॉल कोच की भूमिका निभाएंगी। तश्नुवा गाने और नाचने में भी माहिर हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, तश्नुवा ने कुछ अरसे पहले एक अन्य ट्रांसजेंडर महिला के साथ बराक यूनिवर्सिटी के जेम्स पी ग्रांट स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ से मास्टर ऑफ पब्लिक हेल्थ (MPH) कार्यक्रम में हायर स्टडी के लिए स्कॉलरशिप हासिल की है। (Transgender News Anchor Tashnuva)

सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में तश्नुवा ने संगत – ए फेमिनिस्ट नेटवर्क, रूपबन, ओबॉयब और बांग्लादेश यूथ लीडरशिप सेंटर (बीवाईएलसी) सहित कई संगठनों के साथ काम किया है। बंधु सोशल वेलफेयर सोसायटी में परियोजना अधिकारी के रूप में काम किया है। यही नहीं, बांग्लादेश के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की कार्यकारी अधिकारी भी रही हैं।

Tashnuva anan shishir, Photo: Internet

वह कहती हैं, ”ट्रांसजेंडर समुदाय के इच्छुक डांसर्स, अभिनेताओं और मीडिया हस्तियों के साथ एक टीम का निर्माण मेरा ख्वाब है, जो मेरे समुदाय की बाधाओं को दूर करने के लिए जागरुकता का माहौल बनाएं।”

”मैंने बचपन में ही यौन शोषण का सामना किया, बड़े होने पर भी “तंग और प्रताड़ित” किया गया। 16 साल की उम्र में घर छोड़ा था। हाल ही में सार्वजनिक स्वास्थ्य में परास्नातक करने के लिए छात्रवृत्ति हासिल की। ट्रांसजेंडर के लिए यह असामान्य है।” (Transgender News Anchor Tashnuva)

उन्होंने कहा, ” मैं चाहती हूं कि इस समुदाय के पास सम्मानजनक जिंदगी जीने के लिए स्थायी आजीविका का बंदोबस्त हो। उनकी लैंगिक पहचान के साथ क्षमताओं के आधार पर प्राथमिकता देने की जरूरत है।”

सरकारी अनुमानों के अनुसार, बांग्लादेश में लगभग 11,500 ट्रांसजेंडर लोग हैं, लेकिन कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं प्रचारकों का कहना है कि यह आंकड़ा कम से कम एक लाख है।

गौरतलब है, बांग्लादेश में एक धार्मिक चैरिटी ने ट्रांसजेंडर्स के लिए देश का पहला स्कूल खोला है।


यह भी पढ़ें: उज्बेकिस्तान में पुलिस मुसलमानों के साथ कर रही यह ‘गंदा काम’


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here