यूपी : दो पुलिसकर्मियों को बंधक बनाकर पीटा-सिपाही की मौत, घटना में शामिल एक आरोपी का पुलिस ने किया एनकाउंटर

0
345
UP Police Hostage Encounter
कासगंज में पुलिस हमले की घटना को लेकर सक्रिय पुलिस अधिकारियों की टीम.

द लीडर : उत्तर प्रदेश (UP) के कासगंज जिले में पुलिस (Police) पर हमले का एक मामला सामने आया है. इसमें एक सिपाही (Constable) की मौत हो गई. और सब इंस्‍पेक्‍टर गंभीर रूप से घायल हैं. बुधवार को पुलिस ने हमलावरों में शामिल कथित रूप से एक आरोपी का एनकाउंटर कर दिया है. राज्य सरकार ने मृतक सिपाही के परिजनों को 50 लाख रुपये का मुआवजा और एक आश्रित को नौकरी देने की घोषणा की है. (UP Police Hostage Encounter)

मंगलवार को सब इंस्‍पेक्‍टर (SI) अशोक कुमार और कांस्टेबल देवेंद्र कागसगंज के नगला धीमर गांव पहुंचे थे. बताते हैं कि गांव में अवैध शराब के कारोबार की सूचना मिली थी. आरोप है कि शराब माफियाओं ने सिपाही और दारोगा को बंधक बना लिया. और बेरहमी से पिटाई की. इसमें सिपाही देवेंद्र की मौत हो गई.

पुलिस टीम जब क्षेत्र के भ्रमण पर निकली, तो दोनों पुलिसकर्मी खून से लथपथ हालत में मिले. तब तक सिपाही की मौत हो चुकी थी. पुलिसकर्मियों को बंधक बनाकर हत्या की घटना ने पुलिस विभाग को झकझोर द‍िया.

बुधवार को सुबह पुलिस ने इस घटना के एक कथित आरोपी को मुठभेड़ में मार गिराया है. उसकी पहचान एलकार नामक शख्स के रूप हुई है, जो इस पुलिस पर हमले के मुख्य आरोपी मोती धीमर का भाई बताया गया है.

पुलिस के मुताबिक हमलावरों की तलाश के लगातार दबशें दी जा रही थीं, काली नदी के खादर में बदमाशों से मुठभेड़ हुई. जिसमें गोली लगने से एलकार घायल हो गया. जबकि अन्य बदमाश भाग निकले. एलकार को सिढ़पुरा सीएचसी ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.


उत्तराखण्ड आपदा : चौथे दिन भी सुरंग में फंसी हैं 35 जिंदगियां


 

जिलाधिकारी सीपी सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सब इंस्पेक्टर और कांस्टेबल मंगलवार को नगला धीमर गांव में अपराधी की तलाश में गए थे. एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में कांस्टेबल देवेंद्र ने अपनी जान गवां दी है. मुख्यमंत्री ने कांस्टेबल के परिवार को 50 लाख रुपये अनुग्रह राशि और नौकरी देने की घोषणा की है.

विकास दुबे कांड की यादें ताजा

इसी तरह की एक घटना पिछले साल भी हुई थी. कानपुर के चौबेपुर क्षेत्र के बिकरू गांव में पुलिस विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए पहुंची थी. विकास दुबे ने पुलिस पर हमला कर दिया था. इसमें आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे. इस घटना ने पूरे देश का ध्यान का खींचा था. बाद में पुलिस ने विकास दुबे का एनकाउंटर कर दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here