इंटरनेशनल टूर्नामेंट में उतरेगी पहली सऊदी महिला स्केटिंग टीम, जो हिजाबी है

0
755

हिजाब में रहकर भी महिलाएं कमाल कर रही हैं, अगर उन्हें मौका मिला। सऊदी अरब की हिजाबी लड़कियां स्केटिंग के इंटरनेशनल टूर्नामेंट में उतरने की तैयारी कर रही हैं। सऊदी अरब में महिला स्केटिंग टीम पहली बार बनी है। (Saudi Women Skating Team)

टीम के जनसंपर्क अधिकारी अलजवारा मिनवर ने बताया इंटरनेशनल टूर्नामेंट में उतरने जा रही महिला स्केटिंग टीम 2018 के अंत में ज़हीर अल-असिरी, रिया अल-अत्तास और कोच अब्दुल के साथ स्थापित की गई थी।

मिनवर ने कहा कि सऊदी स्केटिंग लीग ने 60 से ज्यादा स्थानीय महिला टूर्नामेंट का आयोजन किया, जिसमें 13 से 35 साल की महिला खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया और प्रतिभा तलाशने की इस प्रक्रिया से आज राष्ट्रीय टीम में 32 सदस्य हैं।

उन्होंने बताया, “महिलाओं को यह खेल सिखाने के लिए विशेष अकादमी की स्थापना की गई थी। प्रतियोगिताओं को विभिन्न श्रेणियों जैसे स्पीड स्केटिंग, मैराथन आदि में विभाजित किया गया है। व्यक्तिगत चुनौतियां भी हैं।

सऊदी स्केटिंग लीग के अध्यक्ष ज़हीर अल-असीरी ने कहा कि लीग स्केटिंग प्रतिभाओं को विकसित कर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम राष्ट्रीय टीम की स्थापना करेगी और संख्या बढ़ाने के लिए सभी आयु समूहों के लिए शैक्षिक सेमिनार, कार्यशालाएं और स्थानीय प्रतियोगिताओं का आयोजन करेगी।”

चार साल से अभ्यास कर रही 13 वर्षीय हजर मोहम्मद ने कहा कि उनके परिवार का काफी सपोर्ट मिला।

हजर ने कहा, “स्केटिंग लड़कियों के लिए सबसे खूबसूरत और मजेदार खेलों में से एक है। यह मस्ती, चुनौती और प्रतिस्पर्धा से भरा है, साथ ही यह फिटनेस को बढ़ावा देता है।” (Saudi Women Skating Team)

“यह खेल एकाग्रता पर निर्भर करता है, क्योंकि हमें नसों और मांसपेशियों दोनों के सिंक्रनाइज़ेशन की जरूरत होती है।”

उन्होंने कहा, सऊदी स्केटिंग लीग का सपोर्ट मिलना बहुत अहम था, जिसने क्षेत्रीय स्तर पर मजबूत सऊदी टीम स्थापित को समर्पण के साथ काम किया, ताकि इस टीम को अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचने के लिए तैयार किया जा सके।

वह उम्मीद करती हैं कि स्केटिंग के लिए सऊदी में खास तवज्जो मिलेगी, जो सभी बड़ी प्रतियोगिताओं की मेजबानी के रास्ते भी खोलेगा, क्योंकि दुनियाभर में इस खेल के प्रशंसकों की बड़ी संख्या है। (Saudi Women Skating Team)

उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों की तरह सड़कों या कारों से दूर पार्कों में स्केटिंग का अभ्यास किया जा सकता है। हम एक सुरक्षित प्रतिस्पर्धी माहौल तक पहुंचने के अपने रास्ते पर हैं, जहां खेल को जुनून और लक्ष्य के साथ अभ्यास करना है।


यह भी पढ़ें: लीजिए, यह रहा शिक्षा में हिजाब का हिसाब


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here