स्विट्जरलैंड के शानदार टेनिस खिलाड़ी रोजर फ़ेडरर ने किया सन्यास का एलान

0
36

वसीम अख़्तर. जिन रोजर फेडरर की सादगी और खेल की दुनिया दीवानी है, उन्होंने टेनिस से रिटायरमेंट का एलान कर दिया है. लंदन में खेला जाने वाला लेवर कप उनका आख़िरी एटीपी टूर्नामेंट होगा.

इसके बाद वह किसी भी ग्रैंड स्लैम या टेनिस प्रतियोगिताओं में हिस्सा नहीं लेंगे. बहुत ही भावुक पोस्ट में सन्यास का फैसला सुनाते हुए फ़ेडरर ने लिखा है-टेनिस मेरी ज़िदगी हैं, मैं इसे कभी नहीं छोड़ूगा. (Roger Federer announced his retirement)

दुनिया का सबसे ख़ुशक़िस्मत शख़्स हूं, जिसे वो सब भी मिला जिसके बारे में न सोचा था और न सपने देखे थे. परिवार से लेकर कोच और बहुत से उन लोगों का शुक्रग़ुजार हूं, जो 40 से ज़्यादा देशों में खेलते वक़्त मेरे दोस्त बन गए.

स्विस खिलाड़ी रोजर फ़ेडरर को शानदार खेल के साथ उनके रवैये के लिए भी याद रखा जाएगा. कोर्ट पर मैच जीतने के बाद उनकी शानदार मुस्कान और हार के बाद प्रतिद्वंदी खिलाड़ी को बधाई देने के मोहक अंदाज़ के लिए दुनिया तरसेगी.

कहीं न कहीं टेनिस प्रेमियों के बीच यह कसक रहेगी. इस ख़बर को लिखते वक़्त बतौर दर्शक फ़ेडरर की शख़्सियत की बात करूं तो अपना प्रशंसक बना लेने की ख़ूबी उनमें क़ुदरती थी. (Roger Federer announced his retirement)

जब कभी उनका स्पेन के रफ़ाएल नडाल से मैच होता था, दिली तमन्ना रहती कि मैच रोजर ही जीतें. वह जीत जाते तो मन ख़ुश हो जाता.

शायद यही वजह रही कि मैच के दौरान स्टैंड से बजने वाली तालियां फ़ेडरर के हक़ में ज़्यादा होती थीं. जब वह जीतने पर मुस्कराते तो मैच देखने वालों के चेहरे पर भी खिल जाते.


इसे भी पढ़ें- लॉरेंस गैंग लगातार कर रही थी सलमान खान को मरने की साजिश, सलमान के फार्महाउस पे रखी जा रही थी नजर


 

अगर फ़ेडरर के रिकॉर्ड की बात करें तो वो अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वियों रफ़ाएल नडाल और नोवाक जोकोविच के बाद तीसरे स्थान पर हैं. रोजर ने 20 ग्रैंड स्लैम ख़िताब जीते हैं. (Roger Federer announced his retirement)

अपना पहला ग्रैंड स्लैम ख़िताब विम्बलडन के तौर पर 2003 में जीता. छह ऑस्ट्रेलियन ओपन, एक फ़्रेंच ओपन, आठ विम्बल्डन और पांच यूएस ओपन टूर्नामेंट में जीत परचम लहराया.

24 साल तक टेनिस खेलते रहे रोजर फ़ेडरर सफ़र अपने होम टाउन बासेल में एक बॉल किड के रूप में सपने देखने के बाद शुरू हुआ था.

अपनी अथक मेहनत और लगन के बल पर वो टेनिस का स्वर्णिम अध्याय बन गए. जिसे जब-जब पढ़ा जाएगा सुखद अनुभूति का अहसास दिलाएगा. (Roger Federer announced his retirement)