कांग्रेस को झटका : उदयपुर में चल रहे चिंतन शिविर के बीच सुनील जाखड़ ने छोड़ी पार्टी, कही ये बात ?

0
123

द लीडर। राजस्थान के उदयपुर में एक ओर जहां कांग्रेस का चिंतन शिविर चल रहा है. वहीं इस बीच कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ ने पार्टी से अलग होने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस पार्टी खटिया पर नजर आ रही है. गुड लक एंड गुड बाय टू कांग्रेस पार्टी.

सुनील जाखड़ ने शनिवार को अपने आधिकारिक फेसबुक पेज से लाइव होकर कांग्रेस छोड़ने का ऐलान किया. पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष ने कांग्रेस में जातिगत समीकरण को ध्यान में रखकर की जा रही राजनीति पर सवाल उठाए और आलकमान पर निशाना साधा.


यह भी पढ़ें: Wheat Export Ban: बढ़ती महंगाई का सितम, मोदी सरकार ने तत्काल प्रभाव से गेहूं के निर्यात पर लगाई रोक

 

सुनील जाखड़ ने कहा कि, पंजाब में जो कांग्रेस के इंचार्ज थे उन्हें नोटिस न देकर हमें दिया. अगर मेरी वजह से पंजाब में सरकार नहीं बनी तो हमें निकला क्यों नहीं. उन्होंने आगे कहा कि नोटिस देकर मेरा क्या बिगाड़ लेंगे. चापलूसों के साथ रहना आपको मुबारक हो, लेकिन फैसले तो लीजिए. सही हो या गलत हो ये तो समय ही बताएगा.

13 मई को शुरू हुआ ये शिविर तीन चलेगा

सुनील जाखड़ ने ये ऐलान ऐसे वक्त किया जब उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन शिविर हो रहा है. यहां पर पार्टी के दिग्गज नेता जुटे हैं और आगे की रणनीति तय कर रहे हैं. 13 मई को शुरू हुआ ये शिविर तीन चलेगा. आज इसका दूसरा दिन है.

सुनील जाखड़ पार्टी विरोधी गतिविधियों के खिलाफ अपने खिलाफ हुई कार्रवाई को लेकर पार्टी से नाराज थे. 68 वर्षीय नेता ने कहा कि दिल्ली में बैठे कांग्रेस नेताओं ने पंजाब में पार्टी को बर्बाद कर दिया.

उन्होंने कहा कि, राज्य में कांग्रेस को एक गरीब बसपा के रूप में पेश करने का भी प्रयास किया गया था. उन्होंने भावनात्मक आक्रोश में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कहा कि आप अपनी विचारधारा से मत हटिए.

तीन पीढ़ियों ने की 50 साल तक कांग्रेस की सेवा

पंजाब से असंतुष्ट कांग्रेस नेता सुनील जाखड़ ने फेसबुक लाइव के जरिए पार्टी छोड़ने की घोषणा की. जाखड़ ने कांग्रेस आलाकमान पर गंभीर आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाए जाने के बाद मुख्‍यमंत्री की नियुक्ति के मुद्दे पर पंजाब के एक खास नेता की बात पार्टी सुन रही है.

सुनील जाखड़ ने आगे कहा कि उनके परिवार की तीन पीढ़ियों ने 50 साल तक कांग्रेस की सेवा की. इसके बाद “पार्टी लाइन पर नहीं चलने” के लिए “पार्टी के सभी पदों को छीन लिया” जाना…मुझे ये ठीक नहीं लगा.

कारण बताओ नोटिस

अपने मन की बात बोलने के लिए फेसबुक पर LIVE जाने से कुछ घंटे पहले सुनील जाखड़ ने कुछ ऐसा किया जिससे उनके द्वारा पार्टी छोड़ने के कयास लगाये जाने लगे.

दरअसल जाखड़ ने अपने ट्विटर बायो से कांग्रेस को हटा दिया था, जो उनकी भविष्य की कार्रवाई के संकेत देने के लिए काफी था. यहां चर्चा कर दें कि जाखड़ को “पार्टी विरोधी” बयानों के लिए कारण बताओ नोटिस दिया गया था. हालांकि इसका जवाब उनके द्वारा नहीं दिया गया.


यह भी पढ़ें:  दिल्ली में मेट्रो स्टेशन के पास बिल्डिंग में भीषण आग से अब तक 27 की मौत, दो फायर ब्रिगेड कर्मियों की भी गई जान

 

कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर

कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर उदयपुर में जारी है. शिविर के पहले दिन शुक्रवार को पार्टी में कई बड़े सुधारों को लेकर चर्चा हुई, जिनमें ‘एक परिवार, एक टिकट’ की व्यवस्था को लागू करने पर मुख्य रूप से मंथन किया गया.

इस व्यवस्था के साथ यह प्रावधान भी जुड़ा है कि, परिवार के किसी दूसरे सदस्य को टिकट तभी मिलेगा, जब उसने पार्टी के लिए कम-से-कम पांच साल तक काम किया हो.‘नवसंकल्प चिंतन शिविर’ की शुरुआत के मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विशाल सामूहिक प्रयासों के माध्यम से पार्टी में नयी जान फूंकने का आह्वान किया.

राहुल गांधी की तारीफ की

राहुल गांधी की प्रशंसा करते हुए सुनील जाखड़ ने उन्हें एक अच्छा इंसान बताया और कहा कि वह पार्टी की बागडोर अपने हाथों में ले. सुनील जाखड़ ने राहुल गांधी को चापलूसों से खुद को दूर करने का आग्रह किया. उन्होंने गुड लक और अलविदा कांग्रेस कहते हुए अपनी बातें समाप्त की.

बता दें कि कांग्रेस ने हाल ही में सुनील जाखड़ के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की थी. उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया गया था. पंजाब कांग्रेस ने उन्हें 2 साल के लिए पार्टी से सस्पेंड करने की सिफारिश की थी, जिस पर सोनिया गांधी को फैसला लेना था.


यह भी पढ़ें:  UP Politics : BSP सुप्रीमो मायावती ने चला दांव… ‘मिशन 2024’ से पहले मुस्लिमों वोटरों को लुभाने में जुटी