कुरान शरीफ को लेकर शिया-सुन्नी एक, वसीम रिजवी के खिलाफ लखनऊ में प्रदर्शन, दरगाह आला हजरत से निंदा

0
180
Shia Sunni Quran Sharif Wasim Rizvi
लखनऊ के बड़ा इमामबाड़ा पर वसीम रिजवी के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग.

द लीडर : कुरान शरीफ से 26 आयतें हटाने संबंधी सुप्रीमकोर्ट में याचिका दाखिल करने वाले वसीम रिजवी का विरोध बढ़ता जा रहा है. शिया समुदाय से वसीम रिजवी के सामाजिक बहिष्कार के अगले दिन परिवार ने भी उससे नाता तोड़ लिया है. रविवार को लखनऊ के बड़ा इमामबाड़ा पर शिया समाज के हजारों लोगों की भीड़ जुटी है, जो वसीम के खिलाफ नारेबाजी कर रही है.

वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन हैं और विवादित बयानबाजी को लेकर पहचाने जाते हैं. लेकिन इस बार वसीम ने मुसलमानों के सबसे पवित्र ग्रंथ-कुरान की कुछ आयतों को कट्टरपंथ-आतंकवाद को बढ़ावा देने वाला बता डाला है. इससे मुस्लिम समाज के हर फिरके में रोष है. शिया समुदाय वसीम के खिलाफ सड़कों पर है तो सुन्नी मुसलमान भी उसका विरोध कर रहे हैं.

सुन्नी-बरेलवी मुसलमानों के मरकज (केंद्र) दरगाह आला हजरत के सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मियां ने वसीम रिजवी के दावे को खारिज करते हुए कहा कि कुरान-ए-पाक 1400 साल पहले नाजिल हुई. तब से आज तक इसमें एक नुक्ता यानी बिंदी का भी बदलाव नहीं हुआ है.

और न ही इसमें किसी फेरबदल की रत्ती भर भी गुंजाइश है. उन्होंने कहा कि किसी भी खलीफा ने इसमें कुछ घटाया बढ़ाया नहीं है. न ही कोई आयत समाज में गलत मैसेज देती है. बल्कि वसीम की ये सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का जरिया है. दरगाह के प्रवक्ता नासिर कुरैशी ने कहा कि वसीम रिजवी जैसे लोग इंसानियत, समाज और देश के लिए खतरा हैं.


इसे भी पढ़ें : जब 9 साल की उम्र में आंबेडकर को मुस्लिम पहचान बताने पर भी नहीं मिला था पानी


 

दरगाह आला हजरत-ताजुश्शरिया के संगठन जमात रजा-ए-मुस्तफा के उपाध्यक्ष सलमान हसन खां ने वसीम रिजवी के इस कदम की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि मुकद्​दस किताब में कोई बदलाव नहीं हो सकता. न ही इसकी कोई गुंजाइश है. उन्होंने कहा कि कुरान में कट्टरपंथ देखने वाले वसीम रिजवी जैसे ही लोग ही समाज और देश के लिए खतरा है.

असल में ऐसे लोग ही समाज में नफरत बढ़ा रहे हैं. वसीम रिजवी पर एनएसए के तहत कार्रवाई होनी चाहिए. जमात के प्रवक्ता समरान खान ने कहा कि वसीम ने मुस्लिम समाज की भावनाओं को चोट पहुंचाई है. सरकार को तत्काल कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here