कामयाबी के शिखर पर बेबाकी से अपनी राय रखने वाली रिहाना

0
251
Rihanna, who holds her opinion with impunity at the peak of success

पॉप स्टार रिहाना उन सेलेब्रिटीज में शुमार हैं जो विवादित मुद्दों पर भी बेबाकी से अपनी राय रखते हैं, हर मुद्दा जिस पर उन्हें राय रखना मुनासिब लगता है. रिहाना घरेलू हिंसा, डोनाल्ड ट्रंप और म्यांमार के मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रख चुकी हैं. रिहाना का हालिया ट्विट ने भारत की राजनीति में उबाल ला दिया है. किसान आंदोलन के पक्ष में रिहाना के इस ट्विट के बाद उनके फॉलोवर्स की तादाद में 10 लाख का इजाफा हो चुका है. हालांकि इससे पहले भी रिहाना के 10 करोड़ फॉलोवर हुआ करते थे. रिहाना की लोकप्रियता किसान आन्दोलन पर उनके ट्विट के बाद इस कदर बढ़ी की आज उन्हें गूगल पर 15 करोड़ से ज्यादा लोगों ने सर्च किया. (Rihanna Opinion Success)

रिहाना के इस ट्विट के बाद बॉलीवुड में अब तक चुप्पी पसारे बैठे सितारों के भी बोल फूट पड़े. इनमें से ज्यादातर किसान आन्दोलन के खिलाफ सरकार के पक्ष में खड़े रहकर रिहाना और उनके जैसों को इस मुद्दे से दूर रहने की हिदायत देते दिखे.

अपने एक ट्विट से दुनिया भर में उबाल ला देने वाली रिहाना 20 फरवरी 1988 को कैरेबियन देश बारबाडोस के सैंट माइकल में पैदा हुई. उनके आयरिश पिता रोनाल्ड फैंटी मुनीम थे और मां अफ्रीका की गुआनीज. रिहाना के पिता कोकीन की लत का शिकार थे, इस वजह से उनके माता-पिता का पारिवारिक जीवन कलह से भरा था. रिहाना के बचपन को उनके माता-पिता की शादीशुदा जिंदगी ने बहुत प्रभावित किया.

इसे भी पढ़ें : संयुक्त किसान मोर्चा ने समर्थन के लिए दुनिया भर के सेलेब्रिटीज का आभार जताया

7 साल की उम्र में गाने की शुरुआत करने वाली रिहाना को एक बर्बाद ईसाई परिवार विरासत में मिला था. इसके बावजूद रिहाना ने अपने संगीत के जुनून को आगे बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. साल 2003 में रिहाना ने अपने 2 सहपाठियों के साथ एक म्यूजिकल बैंड बनाया. रिहाना का पहला म्यूजिक एल्बम ‘अ गर्ल लाइक मी’ और ‘अल्बम म्यूजिक ऑफ़ द सन’ 2005 में रिकॉर्ड हुए. कैरेबियन संगीत पर आधारित ये दोनों एल्बम बिलबोर्ड के टॉप एलबम्स में शामिल हुए. साल 2007 में ‘गुड गर्ल गॉन बैड’  एल्बम ने रिहाना का न सिर्फ दुनिया भर में डंका बजाय बल्कि उन्हें पहला ग्रैमी अवार्ड भी दिलाया.

इसके बाद के 10 साल के कैरियर में रिहाना ने 8 ग्रैमी अवार्ड जीते और 14 बिलबोर्ड म्यूजिक अवार्ड.

कामयाबी के शिखर में पहुंचने के बाद भी रिहाना ने अपने कैरियर की चिंता किये बगैर ढेरों मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखती रही हैं. उनके कई बयान विवादों के शिकार होते रहे हैं. इसी सिलसिले में भारत के किसान आन्दोलन पर उनके बयान ने भारत की सियासत में उबाल ला दिया है. आज खामोश बैठे कई बॉलीवुड सितारे अपनी चुप्पी तोड़कर बेपर्दा होने पर मजबूर हो गए. (Rihanna Opinion Success)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here