बांग्लादेश दौरे पर पीएम मोदी ने कर दिया ‘खेला’

0
183

दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर बांग्लादेश पर हैं। बंगाल में चुनाव भी है। इस नजरिए से भी इस दौरे को देखा जा रहा है। बंगाल में जो खास वोटर हैं मोदी का दौरा भी बांग्लादेश में उन्हीं इलाकों और मंदिरों में हो रहा है जो इस पर असर डाले।

दौरे के दूसरे दिन प्रधानमंत्री ने ओराकांडी में स्थित मतुआ मंदिर में पूजा अर्चना की। ओरकांडी में ही मतुआ समुदाय के अध्यात्मिक गुरु हरिचंद ठाकुर का जन्म हुआ था। यहां पीएम मोदी ने मतुआ समुदाए के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ओराकांडी में भारत सरकार लड़कियों के मिडिल स्कूल को अपग्रेड करेगी और एक प्राइमरी स्कूल का निर्माण भी करेगी। ये भारत के करोड़ों लोगों की तरफ से हरिचंद ठाकुर जी को श्रद्धांजलि है। यहां गौर करने वाली बात ये है कि बंगाल में मतुआ समाज का तकरीबन 70 सीटों पर जलवा है, और यहां वो पूरा फेरबदल करने का दम रखते हैं।

पीएम मोदी ने ओरकांडी मंदिर के दर्शन किए
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काली मंदिर के दर्शन करने के बाद ओरकांडी मंदिर में पूजा-अर्चना की। इसके थोड़ी देर बाद प्रधानमंत्री मोदी मतुआ समुदाय के प्रतिनिधियों से मुलाकात किया।

मतुआ समुदाय के लोगों से की मुलाकात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओरकांडी में मतुआ समुदाय के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। इस मुलाकात में प्रधानमंत्री मोदी के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और विदेश सचिव हर्षवर्धन मौजूद थे।

ओरकांडी में प्राथमिक स्कूल बनाने का एलान
प्रधानमंत्री मोदी ने ओरकांडी में मतुआ समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ओराकांडी में भारत सरकार लड़कियों के मिडिल स्कूल को अपग्रेड करेगी और भारत सरकार द्वारा यहां एक प्राइमरी स्कूल भी स्थापित किया जाएगा। ये भारत के करोड़ों लोगों की तरफ से हरिचंद ठाकुर जी को श्रद्धांजलि है।

दुनिया में स्थिरता चाहते हैं भारत-बांग्लादेश – पीएम मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैंने यहां आने की इच्छा बहुत पहले प्रकट की थी। उन्होंने आगे कहा कि हमारे रिश्ता मन से मन का और जन से जन का है। प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि ठाकुर परिवार का प्यार हमेशा मिलता रहा है। उन्होंने कहा कि भारत और बांग्लादेश दुनिया में स्थिरता चाहते हैं।

 

शेख मुजीब उर रहमान स्मारक पहुंचे पीएम मोदी
प्रधानमंत्री मोदी जशोरेश्वरी काली मंदिर की पूजा करने के बाद शेख मुजीब उर रहमान स्मारक पहुंचे और इस महानायक को श्रद्धांजलि दी। तुंगीपारा में बंगबंधु संग्रहालय में प्रधानमंत्री मोदी ने शेख मुजीब उर रहमान को श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री मोदी के बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भी वहां मौजूद रहीं।

मां काली को चढ़ाया हाथ से बना सोने-चांदी का मुकुट
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज बांग्लादेश के प्रसिद्ध जशोरेश्वरी काली मंदिर के दर्शन किए और मां काली की पूजा की। आज के दिन प्रधानमंत्री मोदी ने मां काली को सोने और चांदी का मुकुट चढ़ाया, जो कि हाथ से बना हुआ है। एक पारंपरिक कलाकार ने मां काली के लिए ये मुकुट तैयार किया था, इसे बनाने में तीन हफ्तों का समय लगा। प्रधानमंत्री ने विधि-विधान से मां काली की पूजा अर्चना की। उन्होंने मां काली को एक मुकुट, साड़ी व अन्य पूजन सामग्रियां भी अर्पित की और अंत में मंदिर की परिक्रमा भी की।

मां काली से विश्व को कोरोना मुक्त करने की मांग की – पीएम मोदी
जशोरेश्वरी काली मंदिर की पूजा करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मां काली के चरणों में आने का सौभाग्य मिला। मैंने मां काली से कामना की है कि पूरे विश्व को कोरोना से मुक्ति मिले। उन्होंने आगे कहा कि मेरी कोशिश रहती है कि 51 शक्तिपीठों का दर्शन करने का मौका मिले, तो जरूर करूं। प्रधानमंत्री ने ‘‘सर्वे भवंतु सुखिन:’’ के मंत्र का उल्लेख किया और ‘‘वसुधैव कुटुम्बकम’’ को भारतीय संस्कृति की विरासत बताते हुए कहा, ‘‘हम पूरी मानव जाति के कल्याण के लिए प्रार्थना करते हैं।’’

बांग्लादेश में मतुआ समुदाय से मिलकर बंगाल साधने की कोशिश
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बांग्लादेश के दूसरे दिन के दौरे पर है। आज के दिन प्रधानमंत्री मोदी मतुआ समुदाय के लोगों से मुलाकात करेंगे। ये मुलाकात पश्चिम बंगाल के मायनों में काफी अहम मानी जा रही है। ऐसा इसलिए क्योंकि जिस समुदाय से आज पीएम मोदी मिलने जा रहे हैं उनका बंगाल की 70 विधानसभा सीटों पर असर है और सबसे खास बात यह है कि आज इनमें से कई सीटों पर मतदान भी है।

बंगाल में मतुआ समुदाय के दो करोड़ लोग
आजादी के समय इस समय के कई लोग पश्चिम बंगाल में आकर बस गए थे। 2011 की जनगणना के अनुसार पश्चिम बंगाल में इस समुदाय की आबादी दो करोड़ के आस-पास है। बता दें कि ज्यादातर मतुआ आबादी उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना, नादिया, जलपाईगुड़ी, सिलीगुड़ी, कूचबिहार और बर्धमान जिलों में फैली है।

2019 के बाद भाजपा के समर्थन बना मतुआ समुदाय
कुल अनुसूचित जाति आबादी का 20 फीसदी हिस्सा मतुआ समुदाय के लोग हैं। बंगाल की 70 विधानसभा सीटों पर इनका सीधा असर पड़ता है। साल 2009 से पहले मतुआ समुदाय के लोग लेफ्ट के समर्थक माने जाते थे लेकिन 2009 के बाद ये लोग टीएमसी की ओर मुड़ गए। हालांकि लोकसभा चुनाव के बाद इस समुदाय के लोगों का वोट भाजपा की ओर मुड़ गया।

मोदी के दौरे का विरोध भी

प्रधानमंत्री की यात्रा के खिलाफ बांग्लादेश में कट्टरपंथी इस्लामवादी काफी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हिंसक हुए प्रदर्शनों को देखते हुए बॉर्डर गार्ड्स तक को शहरों में तैनात करना पड़ा है। राजधानी ढाका की मुख्य मस्जिद में शुक्रवार से शुरू हुआ हिंसा प्रदर्शन देश के कई जिलों में फैल गया है, जिसमें अब तक पांच लोग मारे जा चुके हैं और कई घायल हो गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here