पाकिस्तान में महंगाई की मार और गिरफ़्तारी की दहलीज़ पर पूर्व पीएम इमरान ख़ान

0
229

The Leader. पाकिस्तान कभी दिल दहला देने वाली बम विस्फ़ोट की घटनाओं को लेकर तो फ़िलहाल आसमान पर पहुंच गई महंगाई के लिए दुनियाभर में मौज़ू-ए-बहस था. अब पाकिस्तान से नई ख़बर पूर्व प्रधानमंत्री इमरान ख़ान को लेकर आ रही है. वो कभी भी गिरफ़्तार किए जा सकते हैं. पुलिस उन्हें पकड़ने के लिए हरकत में आ चुकी है, ऐसा एंटी टेररिज़्म एक्ट के तहत वारंट और लाहौर हाईकोर्ट से ज़मानत ख़ारिज हो जाने के बाद हुआ है. इसे लेकर इमरान ख़ान का पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ़ (PTI) के कार्यकर्ता ख़फ़ा हैं और वो भारी संख्या में इमरान ख़ान के घर के बाहर इकट्ठा हो गए हैं.


तुर्किये-सीरिया में ज़लज़लाः मौत के दिल दहला देने वाले मंज़र में खिलखिलाती ज़िंदगी


कामयाब क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान ख़ान पर तोशाख़ाना मे जमा गिफ़्ट सस्ते में ख़रीदने और उन्हें महंगा बेच देने का इल्ज़ाम है. इसे लेकर चुनाव आयोग ने उनके पांच साल तक चुनाव लड़ने पर पाबंदी लगा दी है. उनकी सदस्यता भी रद कर दी गई है. इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ इलेक्शन कमिश्नर दफ़्तर पर पीटीआई की तरफ़ से हिंसक प्रदर्शन हुआ था. कुछ लोग ज़ख़्मी भी हो गए थे. तब इमरान ख़ान के ख़िलाफ़ एंटी टेररिज्म एक्ट के तहत वारंट जारी कर दिया गया था. तब बात बढ़ गई और इस्लामाबाद में एक रैली में इमरान ख़ान ने महिला जज के साथ पुलिस अफ़सरों को धमकी दे डाली. गिरफ़्तारी से बचने के लिए पीटीआई की लीगल टीम ने इस्लामाबाद हाईकोर्ट में ज़मानत याचिका दायर की थी. दो दिन पहले इमरान ख़ान को एंटी-टेररिज्म कोर्ट (ATC) में पेशी थी. वो नहीं गए तो कोर्ट ने गिरफ्तारी के आदेश जारी कर दिए. इमरान ख़ान को लाहौर हाईकोर्ट से भी राहत नहीं मिल पाई उनकी ज़मानत याचिका खारिज हो गई.


मुहम्मद आज़म ख़ान सियासत के अर्श से फ़र्श तक


संभावना साफ़ है कि पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान ख़ान को कभी भी गिरफ़्तार किया जा सकता है. इसे देखते हुए ही पीटीआई के कार्यकर्ताओं की भीड़ ने उनके घर पर घेरा बना लिया है. इस बीच पाकिस्तान के गृह मंत्री राणा सानाउल्लाह ख़ान का बयान भी सामने आया है. जिसमें उन्होंने कहा है कि इमरान ख़ान को गिरफ़्तार किया जाना चाहिए. इसलिए भी कि वो न्याय व्यवस्था का मज़ाक उड़ाने में लगे हैं. पाक गृहमंत्री का यह भी कहना है कि वह इमरान ख़ान की जल्द ही गिरफ़्तारी पर सरकार से बात भी करेंगे.