भारत के साथ पाकिस्तानी फैन्स ने भी मनाया जीत का जश्न

0
121

द लीडर. भारतीय क्रिकेट प्रेमियों को और न पाकिस्तान टीम के फैंस को एकदूसरे को जीतते देखने पर ख़ुशी हासिल होती है. दोनों के बीच प्रतिस्पर्धा ही ऐसी है.

जब दोनों टीम आमने-सामने होती हैं तो ऐसा लगता है-खेल नहीं, मैदान पर कोई लड़ाई लड़ी जा रही लेकिन रविवार की रात को एक इत्तेफाक़ ने दोनों देशों के प्रशंसकों को ख़ुशी से उछाल दिया.

जब हार्दिक पांड्या ने आख़िरी ओवर की पांचवी गेंद पर चौका लगाकर आस्ट्रेलिया से मैच और सीरीज़ दोनों जिताईं तो उस वक़्त पाकिस्तानी टीम नेशनल स्टेडियम कराची में सीरीज़ का चौथा मैच हारने के कगार पर थी. इंग्लैंड की जीत सामने दिख रही थी लेकिन पासा पलट गया.

इंग्लैंड को महज़ दो ओवर में 11 रन दरकार थे. लायम डावसन 17 गेंद पर 34 रन बनाकर क्रीज़ पर थे. कप्तान बाबर आज़म जिस तरह बार-बार अपना सिर पकड़ रहे थे, मैच से पाक की पकड़ ढीली होने का अंदाज़ा साफ़तौर से लग रहा था.

ऐसे में 19वां ओवर लेकर आए हारिस रऊफ़ ने बाज़ी पलट दी. पहले डावसन को कैच आउट कराया और अगली ही गेंद पर ओली स्टोन को बोल्ड कर दिया. उनकी तीसरी यार्कर लेंथ गेंद रीस टोपले के पैड पर नीचे के हिस्से में लगी.

पाक कप्तान ने रिव्यू भी लिया लेकिन गेंद बाहर जा रही थी, तीसरे अंपायर ने नाटआउट क़रार दिया लेकिन पाकिस्तानी टीम मैच में वापस लौट चुकी थी.

आख़िरी ओवर में चार रन दरकार ने बाबर आज़म ने गेंद मुहम्मद वसीम जूनियर को थमाई. उनकी पहली गेंद खाली गई. दूसरी गेंद पर रीस टोपले गेंद को बल्ले से धकेलने के बाद रन लेने के लिए दौड़ पड़े, मसूद को उन्हें रन आउट करने में कोई परेशानी नहीं हुई.

पाक हमेशा ही अपनी तेज़ गेंदबाज़ी को लेकर जाना जाता है. इस मैच में शानदार प्रदर्शन करके पेसर ने यह साबित भी कर दिया. पाकिस्तान हारा हुआ मैच चार रन से जीत गया.

पाकिस्तान की इस अप्रत्याशित जीत से पहले भारत ने आस्ट्रेलिया को टी-20 सीरीज़ में हरा दिया. भारत को यह जीत 2013 के बाद मिली है. इस जीत के हीरो सूर्यकुमार यादव रहे, जिन्होंने मैच विनिंग पारी में शानदार छक्के लगाकर सभी का दिल जीत लिया.

36 गेंद में 69 रन, पांच छक्के और इतने ही चौके जड़े. आख़िर में जब मैच फंसता दिख रहा था तो विराट कोहली ने पुराने अंदाज़ में शानदार छक्का जड़कर आस्ट्रेलिया को बैकफुट पर धकेल दिया. बाद में हार्दिक पांड्या ने चौका लगाकर एक गेंद शेष रहते ही मैच को ख़त्म कर दिया.

ज़ाहिर सी बात है, जश्न मनना चाहिए था. मैदान और और फिर उसके बाहर भी प्रशंसक ख़ुशी से उछलते दिखाई दिए. थोड़े ही वक़फ़े के बाद सीमा पार भी क्रिकेट फैंस टीवी पर ख़ुशियां मनाते दिखाई दिए.

उन्हें उस जीत पर झूमने का मौक़ा मिला, जिसे हार तसलीम कर चुके थे. भारत की तरफ से सूर्य कुमार यादव और इंग्लैंड पर जीत के लिए चार में 32 रन देकर तीन खिलाड़ियों को आउट करने वाले हारिस रऊफ़ मैन ऑफ द मैच चुने गए.