नेपाल ने उत्तराखंड आपदा के पीड़ित परिवारों के लिए जताई शोक संवेदना

0
272

नेपाल ने रविवार को उत्तराखंड के चमोली जिले में हुए हादसे के पीड़ितों के परिवारों के लिए शोक संवेदना व्यक्त की है।

एक ट्विटर पोस्ट में नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि उत्तराखंड आपदा में हुई मौतों और लोगों के लापता होने की खबर से स्तब्ध हैं।

“हम उत्तराखंड में हिमस्खलन की वजह से आई बाढ़ की चपेट में आए मृतक के शोक और संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं, उन लापता लोगों की सुरक्षित होने की प्रार्थना करते हैं। विदेश मंत्री ने @ PradeepgyawaliK @PaudyalBR,” MOFA नेपाल हैंडल से ट्वीट किया।

उत्तराखंड के चमोली जिले के तपोवन-रेणी क्षेत्र में रविवार को एक ग्लेशियर टूटने से धौलीगंगा और अलकनंदा नदियों में बड़े पैमाने पर बाढ़ आ गई और तमाम घर और ऋषिगंगा बिजली परियोजना जमींदोज हो गए।

इस घटना के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन और भारत में जापानी राजदूत सातोशी सुजुकी सहित दुनियाभर के नेताओं ने हिमनद फटने के पीड़ितों के प्रति संवेदना व्यक्त की।

यह भी पढ़ें – हिमालय की गोद में रखे ये ‘टाइम बम’, सर्दी में ग्लेशियर टूटने के कारणों को जानें

Uttarakhand Disaster 150 People Missing

एक ट्वीट में, अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा, “भारत में ग्लेशियर के फटने और भूस्खलन से प्रभावित लोगों के प्रति हमारी गहरी संवेदना। हम मृतकों के परिवार और दोस्तों के साथ शोक में शामिल हैं और घायलों के लिए स्वस्थ होने की कामना करते हैं।”

“भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने 16 लोगों को बचाया है, जो एक ग्लेशियर के फटने के बाद तपोवन क्षेत्र के पास सुरंग में फंस गए थे।

ITBP ने फंसे हुए लोगों को बचाने के लिए चमोली के तपोवन बांध के पास सुरंग में बचाव अभियान चलाया। तपोवन क्षेत्र में नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (NTPC) की साइट से नौ शव बरामद किए गए हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, “हम यह मान रहे हैं कि लगभग 125 लोग लापता हैं, संख्या अधिक भी हो सकती है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here