फटी जीन्स:तीरथ पर बिग बी की नातिन नव्या, गुल पनाग, प्रियंका के तंज

0
286

द लीडर देहरादून
सत्ता संभाले महज सात दिन हुए और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को पूरा देश जान गया। पुरानी सरकार के अलोकप्रिय फैसले बदल कर जहां वह उत्तराखंड में शाबाशी पा रहे हैं वहीं दो विवादित बयानों के कारण सोशल मीडिया पर तीरों से बिंधे दिख रहे हैं।

मेगास्टार अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नवेली नंदा ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट को शेयर करते हुए लिखा है- हमारे कपड़ों को बदलने से पहले अपनी मानसिकता बदलिए। यहां पर सिर्फ यही बात हैरान करने वाली है… कि समाज को कैसा संदेश दिया जा रहा है।
उन्होंने उस पोस्ट के बाद अपनी एक फटी जींस में फोटो भी शेयर की है। उस फोटो को शेयर करते हुए नव्या ने लिखा- मैं अपनी फटी जींस पहनूंगी, बहुत गर्व से पहनूंगी…शुक्रिया।
यही नहीं अभिनेत्री गुल पनाग ने भी इस बयान के विरोध में ट्विटर पर एक छोटी लकड़ी के साथ फटी जीन्स पहन कर अपनी फोटो डाली है।

प्रियंका चतुर्वेदी हुई नाराज
शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी बेहद नाराज हुईं। उन्होंने कहा कि तीरथ सिंह रावत को तुरंत देश की सभी महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए। महिला की फटी जींस देखकर ये संस्कार की बात करने वाले उत्तराधिकारी बन रहे हैं। महिलााएं जो सुरक्षा सम्मान मांग रही हैं, उस पर ये क्या कर रहे हो। ऐसे बयान पर उत्तराखंड के सीएम को देश की हर महिला से माफी मांगनी चाहिए। महिलाओं पर अत्याचार हर जगह से उसकी सुरक्षा की बजाय जिम्मेदारी से बच रहे हैं।

सोशल मीडिया में हो रहे ट्रोल

उधर, सोशल मीडिया में इस बयान को लेकर लगातार पोस्ट वायरल हो रही हैं। इसमें कोई कंगना रनौत की फटी जींस को लेकर फोटो डाल रहा है तो कोई सीएम से ये पूछ रहा है कि क्या लड़के फटी जींस नहीं पहनते हैं।
एक ने तो घुटनों तक जीन्स पहने मुख्यमंत्री की बेटी की फ़ोटो उनके पिता के साथ डाल कर सवाल पूछा कि अपने बच्चों को क्यों नसीहत नहीं देते। कोई पैराड़ी बना रहा है तो कुछ क्रिएटिव लोगों को व्यंग रचना का विषय मिल गया है।

16 मार्च को देहरादून में बाल अधिकार संरक्षण आयोग की एक कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए सीएम ने महिलाओं के कपड़ों को लेकर बड़ा बवाल खड़ा कर दिया। उन्‍होंने कहा कि आजकल युवा फटी जीन्स पहनकर चल रहे हैं, क्या ये सब सही है…ये कैसे संस्कार हैं। फटे कपड़े पहनना शान बन चुका है। अब फटी जीन्स पहनकर युवक-युवतियां फर्क महसूस करते हैं। फैशन की ओर युवाओं का झुकाव उन्हें अपनी संस्कृति से दूर कर रहा है। संस्कारवान बच्चे कभी नशे के चंगुल में नहीं फंसते और जीवन में कभी असफल भी नहीं होते। पश्चिमी सभ्यता के पीछे भागने की बजाय हमें अपनी संस्कृति को अपनाना चाहिए। इसके लिए अभिभावकों को बच्चों के लिए समय निकालना होगा।

उन्होंने कहा कि एक बार वे एक जहाज में यात्रा कर रहे थे। तब उनके पास एक महिला दो बच्चों के साथ बैठी थी। उन्होंने देखा कि उसकी जीन्स जगह-जगह से फटी थी।
महिला ने उन्हें बताया कि वह दिल्ली जा रही है, उसके पति प्रोफेसर हैं और वह एक एनजीओ चलाती हैं। फिर मुझे हैरानी हुई कि पढ़े-लिखे लोग भी अपनी संस्कृति को भूलते जा रहे हैं।

इससे पहले 14 मार्च को हरिद्वार में एक सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान उत्तराखंड के सीएम ने ‘मोदी ज़िन्दाबाद’ के नारों के बीच कहा था कि- भगवान राम ने समाज के लिए अच्छा काम किया था। इसीलिए लोग उन्हें भगवान मानने लगे थे। इसी तरह भविष्य में हमारे प्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भी ऐसा ही होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here