पहले चरण में कम वोटिंग से दरगाह आला हज़रत के सज्जादानशीन मुफ़्ती अहसन मियां फिक्रमंद

Ala Hazrat Urs 2022

The Leader. दुनियाभर में सुन्नी बरेलवी मुसलमानों के मरकज़ दरगाह आला हज़रत के सज्जादानशीन मुफ़्ती मुहम्मद अहसन रज़ा ख़ान क़ादरी अहसन मियां ने किसी का नाम भी नहीं लिया और अपनी पूरी बात भी कह दी. दूसरे चरण के मतदान से पहले यह कहते हुए अपील की है कि हमारे मुल्क के आईन (संविधान) ने हमें वोट का हक़ दिया है. लिहाज़ा इसका ज़्यादा से ज़्यादा इस्तेमाल करना चाहिए. आगाह किया कि निकाय चुनाव में जिस तरह पहले चरण में वोटिंग का फ़ीसद कम रहा, वैसा दूसरे चरण में नहीं होना चाहिए. तब जबकि बरेली समेत कुछ दूसरे ज़िलों में वोट डाले जाएंगे.


दरगाह आला हज़रत के सुब्हानी मियां ने यह क्यों कहा-मुसलमान सादगी से मनाएं ईद


पहले चरण के मतदान में बरेली के पड़ोसी ज़िले रामपुर में वोटिंग फ़ीसद कम रहा है. उसको सामने रखते हुए ही दरगाह आला हज़रत के सज्जादानशीन ने अपील जारी की है. उन्होंने कहा है कि 11 मई को अपने दिल की आवाज़ पर अपने वजूद और ताकत का भरपूर इस्तेमाल करते हुए सूबे, शहर, क़स्बे और अपने वार्ड की तरक़्क़ी ओ सलामती के लिए वोट ज़रूर डालें. उस उम्मीदवार के हक़ में वोट करें, जो आपका हमदर्द हो और आपकी हिमायत करे. वो जो आपके हक़ में अपनी आवाज़ बुलंद करे. याद रखें कि कि वो बाशिंदों के इम्तियाज़ यानी भेदभाव नहीं करता हो और ख़िदमत-ए-ख़ल्क़ समाजसेवा के लिए समर्पित रहता हो.


आजमगढ़ से सीएम योगी की हुंकार, कहा- कुछ लोगों ने युवाओं को कलम की जगह तमंचा दिया


सज्जादानशीन ने आगाह किया है कि किसी के बहकावे में आए बग़ैर जो सबसे मुफीद कैंडिडेट या पार्टी हो, उसका चुनाव करें. सज्जादानशीन का वोटर के लिए सबसे ख़ास मशवरा यह कि सिस्टम को नकारने से बेहतर है, बदलाव का हिस्सा बनें, क्योंकि हमारा हर एक वोट बेहद क़ीमती है. इसे क़ीमती जानकर ही अपने संवैधानिक हक़ का इस्तेमाल करें. दरगाह के मीडिया प्रभारी नासिर क़ुरैशी ने एक बार फिर साफ किया है कि दरगाह की तरफ़ से किसी उम्मीदवार या राजनीतिक दल की हिमायत न कभी पहले हुई है और न आगे की जाएगी. दरगाह आला हज़रत के प्रमुख और सज्जादानशीन की तरफ से एकदम स्पष्ट किया जा चुका है.