चांद, मंगल छूने का एक और प्रयास विफल, एसएन 11 भी ध्वस्त

0
125

 

वॉशिंगटन।

आदमी को चांद और मंगल तक पहुंचाने के सपने के साथ काम कर रही अरबपति इयोन मस्क की कंपनी स्पेस X का एक और प्रयास विफल हो गया। कंपनी के प्रोटोटाइप  एस एन11 रॉकेट ने टेक्सास के बोका शिका से मंगलवार सुबह उड़ान तो भरी लेकिन कुछ की देर में एक धमाके के साथ सब खत्म हो गया। इससे पहले एस एन 8 और एस एन 9  और इस इन 10


 

क्रैश हो गए थे। अभी ये मानवरहित यान हैं। कंपनी का इरादा इन प्रयोगों के सफल होने पर आदमी को 100 टन समान के साथ चांद और मंगल पर भेजने का है।

एस एन 11 को 24 घंटे की देरी के बाद लॉन्च किया गया था। यह 6.2 मील की ऊंचाई तक गया और फिर लैंडिंग की प्रक्रिया शुरू हुई लेकिन फ्लाइट के 6 मिनट बाद इसके ब्रॉडकास्ट कैमरा कट गया। स्पेस एक्स के लॉन्च कमेंटेटर जॉन इंसप्रकर ने कहा कि स्टारशिप 11 अब लौट नहीं रहा, लैंडिंग का इंतजार न किया जाए। इसके साथ ही स्टारशिप सीरीज का एक और रॉकेट फ्लाइट पूरी नहीं कर सका। हालांकि, यहां मौसम साफ न होने के कारण ब्लास्ट देखना मुश्किल रहा। कंपनी के इंजीनियर ने बताया कि इसका सारा डेटा भी नष्ट हो गया।

इससे पहले फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन के इंस्पेक्टर के लॉन्च पर समय से न पहुंचने के कारण इसे आगे बढ़ा दिया गया था। वहीं, पहले एस एन 10 बिना नष्ट हुए ही धरती पर लैंड कर गया था। यह रॉकेट धरती से करीब 6 मील की ऊंचाई तक गया। इस बीच उतरने के करीब 10 मिनट बाद यह रॉकेट अपने पूर्ववर्ती प्रोटोटाइप एसएन8 और एस एन 9 की तरह से ही आग के शोलों में बदल गया। स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क ने राकेट के बिना नष्ट हुए लैंडिंग करने के लिए उसकी तारीफ की थी।

एसएन8 और एसएन9 लैंड करते समय विस्फोट के बाद नष्ट हो गए थे। एसएन10 रॉकेट में तीन इंजन लगे थे और अंतरिक्ष की ओर बढ़ते समय इनमें से दो इंजन एक-एक करके अलग हो गए। मात्र 4 मिनट में एसएन10 रॉकेट आकाश में 6 मील की ऊंचाई तक पहुंच गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here