अतीक-अशरफ़ हत्याकांड को लेकर ग़ुस्सा मौलाना तौक़ीर 19 को देंगे इस्लामिया में धरना

The Leader. आल इंडिया इत्तेहाद-ए-मिल्लता काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौक़ीर रज़ा ख़ान प्रयागराज में अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ़ की हत्या को लेकर भड़क गए हैं. उन्होंने तमाम सवाल उठाते और इल्ज़ाम लगाते हुए 19 अप्रैल से यूपी के ज़िला बरेली में इस्लामिया इंटर कॉलेज मैदान पर धरना शुरू करने का एलान किया है. जिस प्रेस कांफ्रेंस में मौलाना ने आंदोलन की मीडिया को जानकारी दी, उसके दौरान ही पुलिस उनके दरगाह आला हज़रत के पास स्थित आवास पहुंच गई. इससे पहले आइएमसी के मीडिया प्रभारी को प्रेस कांफ्रेंस की सूचना जारी करने के लिए नोटिस भी दिया जा चुका है.


बाहुबली अतीक अहमद और भाई अशरफ़ का प्रयागराज मेडिकल कॉलेज में लाइव मर्डर


पुलिस के इस रुख़ से साफ लग रहा है कि मौजूदा हालात को देखते हुए मौलाना तौक़ीर रज़ा ख़ान को धरने के इजाज़त नहीं दी जाएगी. दूसरी तरफ मौलाना भी अड़ने के मूड में हैं. उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कह दिया है कि धरना ज़रूर दिया जाएगा. तब जबकि प्रशासन धारा 144 भी लागू कर चुका है. मौलाना ने अतीक और अशरफ़ की हत्या सरकार की नाकामी का नतीजा बताई है. इल्ज़ाम लगाया है कि विकास दुबे से लेकर अब तक जितने एनकाउंटर हुए हैं उनमें सिर्फ एक आदमी दोषी है, उसे 120 बी का मुजरिम बनाया जाना चाहिए. सभी फेक एनकाउंटर चिंता का विषय हैं. यूपी को पुलिस स्टेट बना दिया गया है. गन और बुलडोज़र से दहशत फैलाई गई है. पुलिस का राज खत्म होना चाहिए.


दरगाह आला हज़रत के सुब्हानी मियां ने यह क्यों कहा-मुसलमान सादगी से मनाएं ईद


मौलाना ने मीडिया को से कहा कि 19 अप्रैल को इस्लामिया इंटर कॉलेज मैदान में दोपहर 12 बजे धरना देंगे. साथ ही दिल्ली मे भी धरना दिया जाएगा अगर हमें जेल में रोज़े रखने पड़ें और ईद मनानी पड़े तो भी धरना देंगे. ज्ञापन किसी को नहीं देंगे. मौलाना तौक़ीर रज़ा ने मुख्यमंत्री को इस्तीफ़ा दे देना चाहिए. उन्होंने न्यायपालिका और संविधान में यक़ीन रखने वालों से आह्वान किया कि नफ़रतों के इस माहौल में आगे आकर देश हित में योगदान सुनिश्चित करें.