महाराष्ट्र : 100 करोड़ रुपये महीना वसूली के आरोप में फंसे गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ भाजपा का प्रदर्शन, इस्तीफे की मांग

0
103
Maharashtra BJP Home Minister Anil Deshmukh
महाराष्ट्र में गृहमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन करते भाजपा कार्यकर्ता.

द लीडर : महाराष्ट्र के गृममंत्री अनिल देशमुख पर पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के सनसनीखेज आरोपों ने राज्य की राजनीति में भूचाल मचा दिया है. विपक्षी दल भाजपा, सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रही है. सुरक्षा व्यवस्था के मद्​देनजर गृहमंत्री के नागपुर स्थित आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. वहीं, मनसुख हिरने की मौत मामले में एटीएस ने दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है. (Maharashtra BJP Home Minister Anil Deshmukh)

एनसीपी के प्रमुख शरद पवार ने कहा कि गृहमंत्री के खिलाफ लगे आरोप गंभीर हैं. इसकी जांच का निर्णय लेने के लिए मुख्यमंत्री के पूर्ण अधिकार है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि ये सब सरकार गिराने के लिए प्रयास किया जा रहा है या नहीं. मैं इतना कह सकता हूं कि इसका सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

महाराष्ट्र के पूर्व पुलिस कमिश्नर ने शनिवार को एक पत्र जारी किया था. जिसमें कहा था कि गृहमंत्री पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाजे से 100 करोड़ रुपये महीना की वसूली चाहते थे. ये पत्र सामने आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग की है.

सचिन वाजे नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (NIA)की गिरफ्त में हैं. पिछले दिनों रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी के आवास के एक बाहर एक एसयूबी गाड़ी में विस्फोटक बरामद हुआ था. इसी मामले में सचिन वाझे को गिरफ्तार किया गया था. और बाद में मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह को पद से हटा दिया गया था.


महाराष्ट्र : मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर का आरोप, गृहमंत्री अनिल देशमुख चाहते थे हर महीने 100 करोड़ रुपये


 

शनिवार को मुंबई, नागरपुर समेत अन्य शहरों में भाजपा कार्यकर्ताओं ने अनिल देशमुख के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन किया और इस्तीफा मांगा.

मुंबई में भाजपा नेता कीर्ति सौम्या ने कहा कि ”अब ये साफ हो चुका है कि ठाकरे सरकार वसूली करने वाली सरकार है. सचिन वाजे, एसीपी संजय पाटिल और पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह व गृहमंत्री अनिल देशमुख पैसा वसूली कर रहे थे. इन सबकी गिरफ्तारी होनी चाहिए.”

वहीं, सूत्रों की मानें तो उद्धव ठाकरे सरकार के सहयोगी दलों से भी इस मामले में गृहमंत्री के इस्तीफे का दबाव पड़ रहा है. इसलिए इस बात की संभावना अधिक है कि देशमुख को जल्द ही गृहमंत्री का पद छोड़ना पड़ जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here