जानिए बरेली में कौन रच रहा सपा उम्मीदवार ऐरन के ख़िलाफ़ साज़िश, दावेदारी पर उठे सवाल, वायरल कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष की चिट्ठी

0
47

द लीडर हिंदी : उत्तर प्रदेश के ज़िला बरेली में कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष मिर्ज़ा अशफ़ाक़ सक़लैनी के नाम की चिट्ठी से समाजवादी पार्टी से रिश्तों में कड़वाहट घोलने की कोशिश की जा रही है.सोशल मीडिया पर कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष की चिट्ठी वायरल हो रही है.बता दें कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मलिकार्जुन खड़गे को संबोधित चिट्ठी में कुछ इस तरह लिखा है कि बरेली मंडल में कांग्रेस को एक सीट भी नहीं मिली है.

आपको बतादें बरेली सीट से प्रत्याशी घोषित किए गए प्रवीण सिंह ऐरन 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का टिकट छोड़कर चले गए थे और सपा में शामिल होने के बाद चुनाव लड़ा था. उनके इस क़दम से कांग्रेसजन की भावनाओं को ठेंस पहुंची थी. यही वजह है कि कांग्रेसी उन्हें चुनाव लड़ाने को लेकर दुविधा में हैं. यह चिट्ठी ऐसे समय पर वायरल की गई, जब सपा और कांग्रेस नेता साथ-साथ मीटिंग शुरू कर रहे हैं. एक दिन पहले ही प्रवीण सिंह ऐरन की संयुक्त मीटिंग में कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष भी पहुंचे थे.

ये भी पढ़ें-https://theleaderhindi.com/owaisi-will-not-join-maulana-tauqeer-razas-alliance-why-did-he-not-agree/

ऐसे में उनके दस्तख़त वाली चिट्ठी पर सवाल उठने लाज़िमी थे और उठ भी रहे हैं. तब अशफ़ाक़ सक़लैनी ने साफ कर दिया कि चिट्ठी फ़र्जी है. उन्होंने ऐसी कोई चिट्ठी नहीं लिखी. सपा-कांग्रेस के संयुक्त उम्मीदवार प्रवीण सिंह ऐरन का कहना है कि उनके ख़िलाफ़ किसी ने यह षडयंत्र रचा है. विपक्षी हमारी एकता में दरार डालने की कोशिश कर रहे हैं. बहरहाल अब यह जांच का विषय है कि चिट्ठी किसने लिखी और उस पर कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष के दस्तख़त बनाए. चिट्ठी सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हो रही है.जानकारी के मुताबीक मिर्ज़ा अशफ़ाक ने सफ़ाई देते हुए कहा ये मेरे नाम की चिट्ठी फर्ज़ी.वही अब खबर मिली है कि किसने कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष के दस्तख़त बनाए है इसकी जांच होगी .

कांग्रेस के लेटरपैड पर यह पत्र राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को संबोधित कांग्रेस जिलाध्यक्ष मिर्जा अशफाक सकलैनी की ओर से लिखा गया है.23 फरवरी को लिखे गए इस पत्र में कहा गया है कि उन्होंने कांग्रेस को छोड़कर
सपा से चुनाव लड़ा था. यह कांग्रेस की भावनाओं से एक धोखा था. इसी आधार पर गठबंधन प्रत्याशी प्रवीण सिंह ऐरन को चुनाव लड़ाने को लेकर कार्यकर्ताओं में असंतोष बताते हुए इस पर पुनर्विचार करने की मांग की है. गुरुवार को यह पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो कांग्रेसियों में हड़कंप मच गया. कांग्रेस के जिलाध्यक्ष मिर्जा अशफाक सकलैनी ने पत्र को पूरी तरह से फर्जी बताया है.