किसान मोर्चा का ऐलान, कानून रद नहीं किए तो 26 जनवरी पर ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर दिल्ली में करेंगे परेड

0
333
(Kisan 26 January Parade Delhi)

द लीडर : तीन नये कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ पिछले 38 दिनों से दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों ने बड़ा ऐलान किया है. शनिवार को संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रेस कांफ्रेंस में सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर तीनों कानून रद नहीं हुए तो 26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर दिल्ली में परेड करेंगे. आंदोलन का ये व्यापक रूप छह जनवरी से ही शुरू हो जाएगा, जो विभिन्न चरणों में 26 जनवरी तक चलेगा. मोर्चा ने स्पष्ट किया कि कानून रद न होने तक आंदोलन जारी रहेगा. (Kisan 26 January Parade Delhi)

प्रेस कांफ्रेंस में किसान नेता केंद्र सरकार पर हमलावर दिखे. उन्होंने कहा कि, ‘सरकार कॉरपोरेट के दबाव में काम कर रही है.’ अब ये किसान आंदोलन केवल भारत तक सीमित नहीं रहा, बल्कि विश्व भर में पहुंच चुका है. अगर सरकार इसे लंबा खींचती है तो उसे राजनीतिक नुकसान भी उठाना पड़ सकता है. जैसा कि कुछ शरारती तत्वों को आंदोलन में भेजा जा रहा है. हालांकि किसान नेताओं ने साफ किया कि हमारी मूल मांगें कृषि कानूनों को रद करने की हैं.

मृतक किसानों को शहीद नहीं मानती सरकार

किसान नेताओं ने कहा कि किसान आंदोलन में अब तक करीब 50 किसानों की मौत हो चुकी हैं. ये सभी किसान शहीद हुए हैं, मगर सरकार उन्हें शहीद नहीं मानती. मोर्चा ने कहा कि विभिन्न सरकारों की नव उदारवादी नीति के कारण पिछले 25 सालों में 4 लाख से अधिक किसान आत्महत्या कर चुके हैं. सरकारें वास्तव में किसानों की मौतों का सिलसिला रोकना चाहती है तो उसे एमएसपी की गारंटी देनी चाहिए. (Kisan 26 January Parade Delhi)

पीछे न हटने का भ्रम पैदा कर रखा

किसान नेताओं ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ऐसा भ्रम बना रखा है कि सरकार अपने फैसले से पीछे नहीं हटती है. हालांकि ये सच नहीं है. कई बार सरकार ने अपने फैसले बदले भी हैं. अबकी उसे पीछे हटना ही पड़ेगा.

किसान आंदोलन को लेकर फैलाया जाता झूठ

-किसान आंदोलन से जुड़े प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान आंदोलन को लेकर तमाम तरह के झूठ फैलाये जा रहे हैं. यहां स्पष्ट करना चाहता हूं कि ये पूरी तरह से अनुशासनात्मक और व्यवस्थित ढंग से चल रहा है. करीब 32 किसान संगठन के नेताओं की रोजाना बैठक होती है.


किसान आंदोलन में 35 से अधिक मौतें, एक और किसान ने खत्म कर ली जिंदगी


 

26 जनवरी के लिए तैयार रहने की अपील

किसान नेताओं ने आह्वान किया है कि किसान 26 जनवरी के लिए तैयार रहें. कम से कम एक व्यक्ति आंदोलन में शामिल होने दिल्ली आए. जो नहीं आ सकते हैं ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर जिलों में किसान परेड करेंगे. एक प्रश्न के जवाब में किसान नेताओं ने कहा कि इसकी विस्तृत रूपरेखा जारी कर दी जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here