एडिटर्स गिल्ड के, पत्रकारों पर कार्रवाई की निंदा के चंद घंटे बाद पत्रकार मनदीप पूनिया गिरफ्तार

0
358
Journalist Mandeep Arrested Editors Guild
मनदीप पुन‍िया, फोटो साभार फेसबुक

द लीडर : किसान आंदोलन की कवरेज को लेकर पत्रकार, पुलिस के निशाने पर आते जा रहे हैं. दिल्ली पुलिस (Delhi Police)ने स्वतंत्र पत्रकार मनदीप (Mandeep Poniya)पूनिया को सिंघु बॉर्डर से गिरफ्तार किया है. उनके खिलाफ आईपीसी की धारा-186, 323 और 353 के तहत कार्रवाई की है. आज-रविवार को उन्हें मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जा सकता है. ( Journalist Mandeep Arrested Editors Guild)

मनदीप के साथ एक और पत्रकार धर्मेंद्र को भी हिरासत में लिया गया था. हालांकि धर्मेंद्र को रविवार सुबह करीब 5:30 बजे छोड़ दिया गया. पुलिस ने इन दोनों पत्रकारों को शनिवार की रात सिंघु बॉॅर्डर से उस वक्त पकड़ा था, जब ये आंदोलन की कवरेज कर रहे थे. इसमें मनदीप का एक वीडियो भी सामने आया था, जिसमें वो पुलिसकर्मियों से घिरे नजर आ रहे थे.


किसान आंदोलन पर जस्टिस काटजू को ऐसा क्यों लगता है क‍ि, विनाश काले विपरीत बुद्धि


 

पुलिस की इस कार्रवाई से नाराज पत्रकारों ने मनदीप के समर्थन में सोशल मीडिया पर मुहिम शुरू कर दी. किसान मोर्चा ने भी मनदीप की रिहाई की मांग उठाई. अब मनदीप की फोटो सामने आई है, जिसमें वो पुलिस के बीच बेफिक्र नजर आ रहे हैं.

पुलिस की गाड़ी से सामने आई मनदीप की मुस्कुराती तस्वीर.
एसएचओ से अभद्रता का आरोप

मनदीप पर एसएचओ से अभद्रता का आरोप लगा है. दरअसल, गिरफ्तारी से पहले उन्होंने एक फेसबुक लाइव किया था, जिसमें शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर पहुंची उपद्रवी भीड़ में शामिल नेताओं के बारे में रिपोर्ट की थी. ये भीड़ जबरन आंदोलन हटवाने पहुंची थी.

राजदीप, मृणाल पर मुकदमा

इससे पहले 26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड की कवरेज और ट्वीट को लेकर वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई, मृणाल पांडेय, जफर आगा समेत छह पत्रकारों के खिलाफ यूपी और मध्यप्रदेश में कसे दर्ज हुए थे. शनिवार को एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने पत्रकारों पर देशद्रोह समेत अन्य धाराओं में दर्ज केस वापस लेने की मांग उठाई थी.

प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में वरिष्ठ पत्रकारों की एक बैठक ने पुलिस कार्रवाईयों की सामूहिक निंदा की थी. खास बात ये है कि एडिटर्स गिल्ड की इस निंदा और मांग के चंद घंटों बाद ही पुलिस ने मनदीप को गिरफ्तार कर लिया. ये स्थिति एडिटर्स गिल्ड के लिए झटके जैसी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here