सीने में लगी थी गोली, युवक रिकॉर्ड कराता रहा वारदात, बरेली में सामने आया ऐसा पहला केस

0
19

द लीडर हिंदी : ज्यादातर गोली लगने की वारदात के बाद लोग घबरा जाते हैं. वो भी जब गोली सीने में मारी गई हो. सबसे पहले जान बचाने की कोशिश करते हैं. ऐसे में कई लोग हॉस्पिटल पहुंचने से पहले दम तोड़ देते हैं और वारदात को किसने और क्यों अंजाम दिया? इससे पर्दा नहीं उठ पाता. जिसका मुल्जिम को पुलिस की जांच से लेकर कोर्ट तक फायदा मिलता है. लेकिन यूपी के जिला बरेली में एक ऐसा मामला सामने आया है कि जिसमें एक युवक ने गोली लगने के बाद पूरी वारदात की कहानी अपनी जुबानी कैमरे में रिकार्ड करा दी.

न सिर्फ सीने में गोली मारने वाले आरोपियों के नाम बताए. बल्कि वारदात के पीछे की वजह भी साफ कर दी. जिससे गोली मारने वालों के बचने के सभी दरवाजे बंद हो जाएं. पुलिस से लेकर कोर्ट तक आरोपियों पर शिकंजा कस सके. युवक ने अपने साथ हुई वारदात के बाद घबराने के बजाय हौसला दिखाया. परिजनों ने भी समय रहते उसे हॉस्पिटल पहुंचाया. जिससे उसकी जान बच गई. पहले आप देखिए कि किस तरह सीने में गोली लगने के बावजूद युवक ने पूरी वारदात मोबाइल कैमरे पर रिकॉर्ड कराई. फिर आपको युवक के बारे में बताएंगे.

गोली लगने से घायल हुए युवक का नाम विकास शर्मा है. वह हाफिजगंज के गांव काशी धर्मपुर के रहने वाले हैं. बारादरी थाना क्षेत्र में मीरा की पैठ चौराहा पर साई डेंटल लैब में जॉब करते हैं और यहीं पर कमरा लेकर किराये पर रहते हैं. विकास मंगलवार रात करीब 8:30 बजे घर जा रहे थे. तभी पीलीभीत रोड पर मोहल्ला कटरा चांद खां में सीताराम मंदिर के पास रहने वाले शीबू गुप्ता और विकास मौर्या ने उन्हें रोक लिया. विकास से रुपये मांगने लगे. मना करने पर बहाने से खेत में ले गए. जहां सीने में गोली मार दी. सूचना पर पहुंचे परिजनों ने ई-रिक्शा से विकास को निजी अस्पताल पहुंचाया. ई-रिक्शा पर जाते समय विकास ने पूरी वारदात वीडियो में रिकार्ड करा दी. विकास के पिता रमेश चंद्र शर्मा की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी शीबू गुप्ता और विकास मौर्या के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. आरोपियों की तलाश की जा रही है. पूरे मामले में सीओ थर्ड अनीता चौहान ने जानकारी दी.

मामले में विकास ने जिस तरह वारदात के बाद वीडियो में अपने बयान दर्ज कराए है. उससे आरोपियों का बचना अब आसान नहीं होगा. जो आमतौर पर इस तरह के केस में देखने को नहीं मिलता और आरोपियों को सजा दिलाने में पुलिस के सामने चुनौती बनता है.

ये भी पढ़ें-https://theleaderhindi.com/imc-did-not-get-relief-from-high-court-maulana-tauqeer-raza-will-have-to-surrender-after-holi/