टीकरी बॉर्डर पर किसान ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की

0
257
Farmer Tried to Commit Suicide Against Agricultural Laws
ट‍िकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन करते क‍िसान

सरकार और किसानों के बीच दसवें चरण की वार्ता से पहले पसरे तनाव के बीच आज सुबह 2.30 बजे रोहतक के गांव पाक्समा में रहने वाले किसान जय भगवान राणा पुत्र तकदीर राणा ने टिकरी बार्डर स्टेज के पास जहरीला पदार्थ खाकर अपनी जान देने की कोशिश की. सभवतः सल्फास खाकर जान देने की कोशिश करने वाले जय भगवान गंभीर हालत में संजय गांधी अस्पताल में भर्ती है. (Farmer Tried to Commit Suicide Against Agricultural Laws)

सल्फ़ास खाने से पहले जय भगवान राणा ने सरकार और किसानों को संबोधित करते हुए एक भावनात्मक पत्र भी लिखा है:-

राम राम सभी देशवासियों को!

मैं एक छोटा सा किसान हूँ मेरा नाम जय भगवान राणा है. हमारी सरकार ने कानून बनाये किसानों को लाभ पहुंचाने को लेकिन किसान सड़कों पर आन्दोलन कर कर रहे हैं कानूनों के विरुद्ध. सरकार बोलती है ये दो-चार राज्यों के किसानों का विरोध है और किसान बोलते हैं पूरे देश के किसानों का आन्दोलन है.

ये आन्दोलन न रहकर मुद्दों की लड़ाई बन गया है. न किसान मानने को तैयार हैं न सरकार. तरीका मैं बताता हूँ किसान और सरकार दोनों इच्छाशक्ति दिखाएँ.

तरीका— इस देश में जितने भी प्रदेश और केंद शासित प्रदेश हैं सभी से 2-2 किसानों को दिल्ली बुलाओ और सरकार के साथ मीडिया के सामने सभी किसान नेताओं से पूछो की वे कृषि कानूनों के पक्ष में हैं या खिलाफ. यदि कानूनों के पक्ष में ज्यादा राज्य हैं तो किसानों से प्रार्थना है कि आन्दोलन को ख़त्म करे. यदि कानूनों के खिलाफ ज्यादा राज्य हैं तो सरकार कानूनों को वापस ले.

मेरे भारत की पहचान!
मजबूत जवान, मेहनती किसान, भोला इंसान.
जय भगवान राणा

Farmer Tried to Commit Suicide Against Agricultural Laws
किसान जय भगवान राणा द्वारा हस्तलिखित नोट

नए कृषि कानूनों के खिलाफ 56 दिनों से राजधानी की सीमाओं पर विपरीत मौसम में डटे किसानों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है.कल दिल्ली पुलिस ने एक बार फिर आन्दोलनकारी किसानों को मनाने की कोशिश की.

कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने बेनतीजा रही पिछली बैठक में कृषि कानूनों की वापसी का विकल्प प्रस्तुत करने को कहा था. आज किसान संगठनों द्वारा इस विषय पर सरकार के सामने अपनी बात रखी जानी है. (Farmer Tried to Commit Suicide Against Agricultural Laws)

इसे भी पढ़ें : किसान आंदोलन: कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं भूमिहीन दलित और खेत मजदूर

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here